Dainik Navajyoti Logo
Monday 8th of March 2021
 
दुनिया

WHO ने कोरोना मरीजों पर हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन दवा के परीक्षण को अस्थाई रूप से रोका

Tuesday, May 26, 2020 14:05 PM
टेड्रोस गेब्रियेसस (फाइल फोटो)

जिनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के मरीजों पर हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन (एचसीक्यू) दवा का परीक्षण अस्थायी रूप से रोक दिया है। डब्ल्यूएचओ महानिदेशक डॉ. टेड्रोस गेब्रियेसस ने बताया कि संगठन के तत्त्वाधान में 17 देशों के 400 अस्पतालों में कोरोना मरीजों पर शुरू किए गए सॉलिडेरिटी ट्रायल के कार्यकारी समूह की सिफारिश पर यह फैसला किया गया। स्वास्थ्य क्षेत्र की प्रतिष्ठित पत्रिका 'लैंसेट' में गत शुक्रवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में बताया गया था कि सॉलिडेरिटी ट्रायल के तहत जिन मरीजों को यह दवा एकल रूप से या माइक्रोलाइड एंटी बायोटिक के साथ दी गई थी, उनमें मृत्यु दर अधिक पाई गई है। रिपोर्ट का संज्ञान लेते हुए कार्यकारी समूह ने इस दवा के प्रभाव का और विस्तृत अध्ययन करने तक इसका इस्तेमाल रोकने का फैसला किया है।

टेड्रोस गेब्रियेसस ने बताया कि सॉलिडेरिटी ट्रायल के तहत 3500 मरीजों पर 4 दवाओं या दवाओं के कॉम्बिनेशन पर प्रयोग चल रहा है। सिर्फ एचसीक्यू का परीक्षण अस्थायी रूप से रोका गया है। अन्य तीन दवाओं या दवाओं के कॉम्बिनेशन पर प्रयोग जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि कार्यकारी समूह सॉलिडेरिटी ट्रायल के अब तक के उपलब्ध डाटा का अध्ययन कर एचसीक्यू से होने वाले फायदों और नुकसान का आकलन करेगा। वहीं, डब्ल्यूएचओ का डाटा सुरक्षा निगरानी बोर्ड इस दवा के सुरक्षा संबंधी आंकड़ों का अध्ययन करेगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि सिर्फ कोविड-19 के मरीजों पर इस दवा के इस्तेमाल को लेकर चिंता है और मलेरिया के मरीजों में यह दवा आम तौर पर सुरक्षित मानी जाती है।

डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामिनाथन ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि लैंसेट की रिपोर्ट दुनिया के विभिन्न अस्पतालों में उपचाराधीन 96 हजार मरीजों के आंकड़ों पर आधारित है, जिनमें 14 हजार को एचसीक्यू दिया जा रहा है, हालांकि यह शुरुआती अध्ययन पर आधारित है। विभिन्न देशों में डब्ल्यूएचओ के मुख्य जांचकर्ता भी कई प्रकार के सवाल उठा रहे थे। हमारी जानकारी के अनुसार कई देशों की नियामक एजेंसियां भी इन आंकड़ों पर चर्चा कर रही थीं। इसलिए कार्यकारी समूह ने अनिश्चितता को देखते हुए स्वयं पहल कर सावधानी बरतते हुएइस दवा के इस्तेमाल पर अस्थायी रूप से रोक लगाने का फैसला किया है।

डॉ. स्वामिनाथन ने बताया कि सॉलिडेरिटी ट्रायल से बाहर भी जिन देशों में कोविड-19 के मरीजों पर एचसीक्यू का परीक्षण चल रहा है, वहां के डब्ल्यूएचओ के मुख्य जांचकर्ताओं से अब तक साक्ष्यों के संकलन के लिए कहा जाएगा। कम से कम सात ऐसे परीक्षण चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ अधिक से अधिक आंकड़े एकत्र कर ठोस नतीजे पर पहुंचना चाहता है। यदि एचसीक्यू सुरक्षित है, यदि इससे मृत्यु दर कम होती है और मरीज जल्द ठीक होते हैं तो संगठन इसका इस्तेमाल करने के पक्ष में है। उल्लेखनीय है कि मलेरिया के इलाज में काम आने वाली दवा एचसीक्यू को अमेरिका सहित कई देशों ने कोविड-19 के इलाज में कारगर बताया है। अमेरिका ने भारत से इसकी एक बड़ी खेप आयात भी की थी। केंद्र सरकार ने इस दवा के निर्यात पर लगी रोक आनन-फानन में हटाकर अमेरिका को एचसीक्यू दवा दी थी जिसके लिए उसे विपक्षी दलों की आलोचना भी झेलनी पड़ी थी।

यह भी पढ़ें:

तेल संयंत्रों पर हमले के बाद सऊदी अरब ने की तेल उत्पादन में 50 प्रतिशत कटौती

सऊदी अरब ने अरामको के दो तेल संयंत्रों पर हुए ड्रोन हमलों के बाद तेल और गैस उत्पादन में 50 प्रतिशत की कटौती की है। सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री प्रिंस अब्दुलाजिज बिन सलमान ने बताया कि ड्रोन हमले के कारण कच्चे तेल के उत्पादन में एक दिन में 57 लाख बैरल यानी लगभग 50 प्रतिशत की कटौती हुई है।

15/09/2019

ये है इलेक्ट्रिक कारों वाला देश, जिसकी पूरी दुनिया में हो रही चर्चा

नॉर्वे धरती और जलवायु में बेहतरीन योगदान देने वाले देशों की सूची में शीर्ष पर है।

25/05/2019

कोरोना वायरस: दुनियाभर में 7.48 लाख लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 2.05 करोड़ के पार

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से दुनिया में 7.48 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 2.05 करोड़ से ज्यादा लोग इससे संक्रमित है। कोविड-19 के संक्रमितों के मामले में अमेरिका दुनिया भर में पहले, ब्राजील दूसरे और भारत तीसरे स्थान पर है।

13/08/2020

मोदी ने की मलेशिया के पीएम से मुलाकात, जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण का उठाया मुद्दा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद के साथ बैठक के दौरान विवादास्पद कट्टरपंथी इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाया।

05/09/2019

भारत में कोरोना वैक्सीन को मंजूरी के फैसले का WHO ने किया स्वागत, कहा- कोविड के खिलाफ जंग को देगा मजबूती

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भारत में कोरोना वायरस कोविड-19 की दो वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दिए जाने के केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रक संगठन (सीडीएससीओ) के फैसले का स्वागत किया है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि भारत का यह निर्णय इस क्षेत्र में कोरोना के खिलाफ जंग को मजबूती देगा।

03/01/2021

जर्मनी में 8 मार्च से कोरोना संबंधी प्रतिबंधों में ढील, कम संक्रमण वाले इलाकों में खुलेंगी रिटेल दुकानें: मर्केल

जर्मन सरकार ने 8 मार्च से उन प्रांतों में प्रतिबंधों में ढील देने की घोषणा की है, जहां कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण के मामलों की संख्या कम है। जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने प्रांतों के प्रमुखों से चर्चा करने के बाद बुधवार को यह जानकारी दी।

04/03/2021

डोनाल्ड ट्रंप के दावे पर यकीन कर कोरोना के इलाज के लिए बुजुर्ग ने खाई क्लोरोक्वीन, मौत

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एंटी मलेरिया दवा क्लोरोक्वीन के कंपोनेंट को नोवेल कोरोना वायरस खत्म करने के लिए एक गेमचेंजर की तरह पेश किया था। ट्रंप की बातों पर एरिजोना के एक बुजुर्ग जोड़े को इतना यकीन हो गया कि उन्होंने बिना डॉक्टरी सलाह के उसका सेवन कर लिया, जिसकी वजह से पति की मौत हो गई और पत्नी आईसीयू में भर्ती हैं।

25/03/2020