Dainik Navajyoti Logo
Friday 27th of November 2020
 
दुनिया

जम्मू-कश्मीर के विकास के बाद विफल हो जाएंगी पाकिस्तान की योजनाएं : जयशंकर

Wednesday, October 02, 2019 14:40 PM
एस. जयशंकर (फाइल फोटो)

वाशिंगटन। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर का विकास सुनिश्चित होने पर इस प्रांत में अशांति फैलाने की पाकिस्तान की योजनाएं विफल हो जाएंगी। जयशंकर ने बुधवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के कुछ लोगों और सीमा पार के 'निहित स्वार्थों' के कारण मोदी सरकार की नई पहले के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रियाएं हुई है। उन्होंने कहा कि जो प्रतिक्रियाएं हुई हैं, वह 70 साल से अधिक समय के निहित स्वार्थ के कारण हुई हैं। यह स्थानीय और सीमा पार के निहित स्वार्थ हैं, लेकिन हम जम्मू-कश्मीर के विकास का प्रबंध कर रहे हैं। आप जानते हैं कि पाकिस्तान ने पिछले 70 सालों से इसे बर्बाद करने की योजनाएं बनाई हैं।

जयशंकर ने अमेरिकी थिंक टैंक 'सेंटर फॉर स्ट्रेटजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज' में अपने संबोधन के बाद एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि यह सत्य बात है कि जब कोई किसी चीज की यथास्थिति में आवश्यक बदलाव करता है तब 'संक्रमणकालीन जोखिम' की स्थिति बनी रहती है और प्रतिक्रियाएं भी आती हैं। उन्होंने कहा कि यह फैसला ऐसे ही नहीं ले लिया गया था। यह इसलिए लिया गया था क्योंकि कोई और रास्ता नहीं था।

विदेश मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि दुनिया के इस नये परिदृश्य में भारत बहुपक्षीय समूहों के बीच एक नेता के रूप में उभरा है, क्योंकि एक ही समय पर सुरक्षा और उभरती हुई परिस्थितियों को लेकर इसका रुख स्पष्ट है। उन्होंने 'भारतीय विदेश नीति- एक अलग युग की तैयारी' विषय पर बोलते हुए कहा कि चूंकि विश्व बड़े स्तर पर बहुलवाद की दिशा में आगे बढ़ गया है इसलिए व्यवहारमूलक परिणाम केंद्रित सहयोग आकर्षक दिखना शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में वैश्विक व्यापार ने देशों के बीच परस्पर-निर्भरता का 'स्वतंत्रता का आधार' प्रदान किया है।

विदेश मंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय संबंध एक सुरक्षा जाल के रूप में 'सामूहिक सुरक्षा' का विचार प्रस्तुत करता है। अत्यधिक प्रतिस्पर्धी एवं शक्ति संतुलन से संचालित यह बहुध्रुवीय दुनिया जोखिम से परे नहीं है। यूरोप विश्व युद्ध के अपने अनुभवों के कारण विशेष रूप से सावधान है। यहां तक की विश्व की प्रमुख शक्तियां भी सामान्य दृष्टकोण अपनाकर नहीं बल्कि केवल विशेष समाधान के रूप में इस तरह की शक्ति संतुलन का समर्थन करती हैं। उन्होंने जम्मू-कश्मीर की स्थिति और वहां मोबाइल के इस्तेमाल पर प्रतिबंध को लेकर स्पष्टीकरण दिया कि ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि कट्टरता को बढ़ावा देने के लिए और भारत-विरोधी ताकतों को लामबंद करने के लिए इंटरनेट और सोशल मीडिया का दुरुपयोग किया जाता है।

विदेश मंत्री ने कहा कि भारत सरकार के सामने चुनौती यह सुनिश्चित करना है कि ये उपाय जमीन पर काम करें। उन्होंने कहा कि जीवन के नुकसान को रोकने के उपाय किए गए हैं और इसके लिए बदलाव किए गए हैं। कई सारे कदम एहतियात के तौर पर उठाए गए हैं। अगर आप 2016 में हुई घटनाओं को देखें तो आपको पता चलेगा कि कट्टरपंथ को बढ़ाने और विरोधी ताकतों को लामबंद करने के लिए किस तरह से इंटरनेट और सोशल मीडिया के उपयोग किए गए।

विदेश मंत्री ने ट्वीट भी किया कि एक अलग युग की तैयारी के विषय पर आज 'सेंटर फॉर स्ट्रेटजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज' में बोलकर अच्छा लगा। कई पक्षों के साथ व्यावहारिक सहयोग की कूटनीति में परिवर्तन की आवश्यकता है। एक ही समय पर हितों और संबंधों में भी संतुलन बनाए रखना होगा। दुनिया के इस नये परिदृश्य में स्वागत है। जयशंकर ने अपने एक अन्य ट्वीट में अमेरिकी होमलैंड सिक्योरिटी के कार्यवाहक सचिव केवीन मैकलेनन के साथ अपनी बैठक के बारे में भी बताया। उन्होंने लिखा कि दोनों पक्षों के बीच वैध यात्रा को बढ़ावा देने, प्रतिभा का प्रवाह सुनिश्चित करने और छात्रों के हितों की रक्षा करने को लेकर चर्चा हुई।

यह भी पढ़ें:

महाभियोग की अगली सुनवाई में शामिल नहीं होंगे ट्रम्प

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनके वकील महाभियोग के अगले दौर की सुनवाई में शामिल नहीं होंगे। व्हाइट हाउस ने रविवार को एक पत्र प्रकाशित कर सदन की न्यायिक समिति को यह जानकारी दी।

02/12/2019

लाहौर में सूफी दरगाह के बाहर विस्फोट, 10 की मौत, 19 घायल

पाकिस्तान के लाहौर में बुधवार को दाता दरबार दरगाह के बाहर हुए विस्फोट में कम से कम चार लोगों की मौत हो गयी और 19 अन्य घायल हो गये।

08/05/2019

निम्रिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर सवाल, विशेषज्ञों ने कहा- मुख्य तथ्य ही गायब

हिंदू समुदाय की युवती निम्रिता अमृता मीरचंदानी की प्रारंभिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर विशेषज्ञों और कराची के स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सा और कानून क्षेत्रों के विशेषज्ञों ने इसके परीक्षण के विवरण के प्रमाणीकरण पर सवाल खड़े किए हैं।

20/09/2019

रूस की सेचेनोव यूनिवर्सिटी में दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन का सफल परीक्षण

रूस की सेचेनोव यूनिवर्सिटी में रविवार को दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्सीन का सफलतापूर्वक परीक्षण पूरा हुआ। ट्रांसलेशनल मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी वुतिम तारासोव संस्थान के निदेशक ने बताया कि जिन लोगों पर इस वैक्सीन का परीक्षण किया गया है, उनमें से पहले समूह को बुधवार तथा दूसरे समूह को 20 जुलाई को अस्पताल से छुट्टी दी जाएगी।

12/07/2020

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

कोरोना वायरस: दुनियाभर में 2 करोड़ 84 लाख से ज्यादा संक्रमित, अब तक 9.15 लाख से ज्यादा की मौत

दुनियाभर में जानलेवा कोरोना वायरस ने कहर बरपा रखा है। कोरोना के प्रकोप के चलते चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ है। विश्व में अब तक 2 करोड़ 84 लाख से ज्यादा लोग कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी की चपेट में आ चुके हैं, जबकि इसके कारण 9.15 लाख से अधिक की मौत हो चुकी है।

12/09/2020

जस्टिन ने डोनाल्ड ट्रंप से की बात

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से बात की। कनाडा के प्रधानमंत्री कार्यालय ने इसकी जानकारी दी।

09/01/2020