Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of May 2021
 
दुनिया

डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर लगाए गंभीर आरोप, फंडिंग रोकने की कही बात

Wednesday, April 08, 2020 18:55 PM
डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

वॉशिंगटन। अमेरिका में कोराना वायरस ने तबाही मचा दी है। यहां 10 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना की वजह से अमेरिका की स्थिति काफी गंभीर हो गई है। इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने संगठन पर कोरोना वायरस महामारी के दौरान सारा ध्यान चीन पर केंद्रित करने का आरोप लगाया। ट्रंप ने कहा कि वह विश्व स्वास्थ्य संगठन को अमेरिका की ओर से दी जाने वाली फंडिंग पर रोक लगाएंगे।
 
अमेरिकी राष्ट्रपति ने व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हम डब्ल्यूएचओ पर खर्च की जाने वाली राशि पर रोक लगाने जा रहे हैं। हम इस पर बहुत प्रभावशाली रोक लगाने जा रहे हैं। अगर यह काम करता है तो बहुत अच्छी बात होती। लेकिन जब वे हर कदम को गलत कहते हैं तो यह अच्छा नहीं है। ट्रंप ने आरोप लगाया कि उनको मिलने वाली फंडिंग का अधिकांश या सबसे बड़ा हिस्सा हम उन्हें देते हैं। जब मैंने यात्रा प्रतिबंध लगाया था, तो वे उससे सहमत नहीं थे और उन्होंने उसकी आलोचना की थी। वे गलत थे। वे कई चीजों के बारे में गलत रहे हैं। उनके पास पहले ही काफी जानकारी थी और वे काफी हद तक चीन पर केंद्रित लग रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनका प्रशासन अमेरिका की ओर से डब्ल्यूएचओ को दिए जाने वाले वित्त पोषण पर विचार करेगा।

ट्रंप ने कहा कि हम उन्हें 5.8 करोड़ डॉलर से अधिक की धनराशि देते हैं। इतने वर्षों में उन्हें जो पैसा दिया गया है उसके मुकाबले 5.8 करोड़ डॉलर छोटा-सा हिस्सा हैं। कई बार उन्हें इससे कहीं ज्यादा मिलता है। इस बीच, सीनेट की विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष सीनेटर जिम रिच ने कोविड-19 से निपटने में डब्ल्यूएचओ के तौर तरीकों की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ न केवल अमेरिकी लोगों के लिए नाकाम हुआ बल्कि वह कोविड-19 से निपटने में घोर लापरवाही के साथ विश्व के मोर्चे पर भी नाकाम हुआ।

करीब 24 सांसदों के एक द्विदलीय समूह ने डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस गेब्ररेयेसुस के इस्तीफा देने तक डब्ल्यूएचओ की निधि रोकने वाला प्रस्ताव लाने का मंगलवार को ऐलान किया। साथ ही कोविड-19 से निपटने में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की नाकामी को छिपाने में संगठन की भूमिका की अंतरराष्ट्रीय आयोग से जांच कराने की भी मांग की।

यह भी पढ़ें:

फिलीपींस के राष्ट्रपति का सुरक्षाबलों को आदेश, जो लॉकडाउन तोड़े उसे गोली मार दो

कोरोना वायरस के चलते दुनिया के ज्यादातर देशों में लॉकडाउन की स्थिति है। फिलीपींस में भी लॉकडाउन किया गया है, लेकिन कई लोग लॉकडाउन मानने के लिए तैयार नहीं हैं। ऐसे में फिलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो दुतेर्ते ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों को कड़ी चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि ऐसा करने वालों को शूट कर दिया जाए।

02/04/2020

कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2345

चीन में कोरोना वायरस से शुक्रवार को 109 और लोगों की मौत के साथ ही इस जानलेवा बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2345 हो गई है, जबकि 397 नये मामले आने के साथ अब तक कुल 76,288 मरीजों में इस वायरस से संक्रमण की पुष्टि हुई है।

22/02/2020

भारतीय विमानों के लिए 30 मई तक बंद रहेगी पाकिस्तान की वायु सीामा

भारतीय विमानों के लिए पाकिस्तान का आकाश 30 मई तक बंद रहेगा। यह बात पाकिस्तान में हुई उच्चस्तरीय बैठक में कही गई।

16/05/2019

दुनियाभर में कोरोना वायरस ने मचाया कोहराम, अब तक 87,888 लोगों की गई जान

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है और अब विश्व के अधिकतर देशों (205 देशों और क्षेत्रों) में फैल चुके इस संक्रमण के कारण अब तक 87888 लोगों की मौत हो गयी तथा।5 लाख से अधिक (कुल 1500823) लोग इससे संक्रमित हुए हैं।

09/04/2020

दुनिया में 20 लाख से अधिक लोगों को कोरोना

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है और अब तक विश्व के 185 से अधिक देशों में इस महामारी से 20 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके है।

16/04/2020

ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही शुरू होनी चाहिए : वॉरेन

अमेरिकी सीनेटर एलिजाबेथ वॉरेन ने कहा है कि विशेष वकील रॉबर्ट मूलर की रिपोर्ट इतनी गंभीर है कि प्रतिनिधि सभा को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ तत्काल महाभियोग की कार्यवाही शुरू करनी चाहिए।

20/04/2019

एंटोनियो गुटेरेस ने दी महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने बुधवार को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उनका दृष्टिकोण आज भी विश्व भर में प्रासंगिक है।

02/10/2019