Dainik Navajyoti Logo
Friday 24th of September 2021
 
दुनिया

कोरोना के चलते लॉकडाउन से घटा धरती की ऊपरी परत का कंपन, कई शहरों में हवा हुई साफ

Saturday, April 04, 2020 16:10 PM
फोटो साभार[email protected]_be

ब्रसेल। दुनियाभर में कोरोना वायरस ने तबाही मचा रखी है। संक्रमण के बढ़ते प्रभाव के कारण ज्यादातर देशों में लॉकडाउन की स्थिति है। ऐसे में आम लोग न केवल घरों में कैद हो गए हैं बल्कि, सार्वजनिक परिवहन और उद्योग धंधों की रफ्तार पर भी ब्रेक लग गया है। जिन सड़कों पर कभी लाखों की संख्या में लोग मौजूद रहते थे, इस समय उनपर कुछ गिने-चुने लोग ही दिखाई देते हैं। जानलेवा कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने की कोशिशों ने वैश्विक स्तर पर दुनिया को शांत कर दिया है। इसकी पुष्टि कई भूगर्भ वैज्ञानिक भी कर रहे हैं।

बेल्जियम में रॉयल ऑब्जर्वेटरी के भूविज्ञानी थॉमस लेकोक ने ब्रसेल्स में कहा कि कोरोना वायरस को रोकने के उपायों के कारण पृथ्वी के ऊपरी परत में कंपन का स्तर भारी मात्रा में कम हुआ है। उन्होंने बताया कि ये कंपन कार, बस, ट्रक, ट्रेन और फैक्ट्रियों के चलने से पैदा होते थे। लेकोक ने बताया कि केवल ब्रसेल्स में ही मार्च में धरती के कंपन में 30 फीसदी से 50 फीसदी तक की कमी दर्ज की गई है। लेकोक ने कहा कि इसका कारण कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए आम लोगों की गतिविधियों पर विराम लगना और सोशल डिस्टेंसिंग बनाना है।

थॉमस लेकोक ने कहा कि कम शोर का मतलब है कि भूकंप विज्ञानी छोटी से छोटी भूगर्भीय हलचल का भी पता लगा सकते हैं। धरती का ये कंपन सामान्य समय में ऊपरी परत में मानव निर्मित कंपन के कारण रिकॉर्ड में नहीं आते थे, इसलिए भूकंप मापन केंद्र हमेशा शहरों से बाहर स्थापित किए जाते हैं, क्योंकि कम मानवीय शोर में उन कंपनों को सुनना आसान होता है। उन्होंने यह भी बताया कि भूकंप वैज्ञानिक (सीस्मोलॉजिस्ट) धरती के कंपनों का पता लगाने के लिए बोरहोल स्टेशन (जमीन के अंदर बने केंद्र) का उपयोग करते हैं। लेकिन वर्तमान में शहरों में सूनेपन के कारण इसे बाहर से भी उतनी ही अच्छी तरह सुना जा सकता है, जितनी अच्छी तरह ये नीचे सुनाई देती हैं।

लेकोक ने कहा कि धरती की ऊपरी परत के कंपन में आई कमी यह दर्शाता है कि पूरी दुनिया में लोग लॉकडाउन के नियमों का पालन कर रहे हैं। इसके साथ ही सामाजिक दूरी को भी बनाकर रख रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि धरती के कंपन में आई कमी के डाटा से इस बात का निर्धारण किया जा सकता है कि कहां के लोग लॉकडाउन के नियमों का ज्यादा पालन कर रहे हैं।

दुनिया के कई शहरों में हवा हुई साफ
लॉकडाउन के कारण देश और दुनिया की हवा स्वच्छ हो गई है। कार्बन उत्सर्जन की मात्रा भी 5 फीसदी कम हो गई है। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद से पहली बार कार्बन उत्सर्जन का स्तर इतना गिरा है। देश में 2014 से जारी हो रहे एयर क्वालिटी इंडेक्स में अब तक इतना बेहतर आंकड़ा कभी दर्ज नहीं हुआ। देश के 103 शहरों में से 85 से अधिक शहरों में एयर क्वालिटी इंडेक्स बीते एक हफ्ते से लगातार 100 से नीचे चल रहा है। यानी इन शहरों में हवा अच्छी श्रेणी की है। लॉकडाउन के चलते प्रदूषण के कारक धूल कण पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा में 35 से 40 फीसदी की गिरावट आई है। कॉर्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन, सल्फर ऑक्साइड व ओजोन के स्तर में भी कमी दर्ज की गई।

अहम बात यह है कि प्रदूषण रहित यह स्तर बारिश में भी नहीं रहता है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पूर्व वैज्ञानिक डॉ. डी साहा ने कहा कि 2014 में जब से एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) बनाया जा रहा है, ऐसा पहली बार है जब प्रदूषण न्यूनतम स्तर पर है। सर्दी में ऑड-ईवन लागू करने से दिल्ली की हवा में 2 से 3 फीसदी का सुधार आ पाता है। उसकी तुलना में एनसीआर में 15 गुना से अधिक सुधार आ चुका है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति बने बर्नार्ड, नंबर तीन पर बिल गेटस

दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में शामिल बिल गेट्स नंबर दो से खिसकर नंबर तीन पर पहुंच गए है। बर्नार्ड नंबर दो पर आ गए है।

17/07/2019

भुखमरी के मुहाने पर अफगानिस्तान: सदस्य देशों से 20 करोड़ डॉलर की तत्काल सहायता देने की अपील

इसी महीने खत्म हो जाएगा 3.60 करोड़ की आबादी के लिए खाद्यान्न

03/09/2021

पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 50 लाख के करीब, अबतक 3.28 लाख लोगों की मौत

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का कहर बढ़ता जा रहा है और विश्व भर में इससे संक्रमितों की संख्या 50 लाख के करीब पहुंच चुकी है और 3.28 लाख से अधिक लोग अब काल के गाल में समा चुके हैं।

21/05/2020

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या हुई 2743

चीन में कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वालों की संख्या 2743 हो गई है तथा 78,497 लोग इस संक्रमण से प्रभावित हैं।

27/02/2020

इमरान खान ने PM मोदी को लिखा पत्र, मुद्दों को हल करने के लिए बातचीत जरूरी

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि जम्मू कश्मीर सहित अन्य मुद्दों को हल करने के लिए भारत और पाकिस्तान की बातचीत को शुरू करना जरूरी है।

03/05/2019

अमेरिका: भारत बायोटक की कोवैक्सीन को झटका, FDA ने नहीं दी इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत

भारत की स्वदेशी कंपनी भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन को अमेरिका में इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी नहीं मिल पाई है। अमेरिका फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी के आवेदन को खारिज कर दिया है। डाटा पूरा नहीं होने के कारण यह फैसला किया गया है।

11/06/2021

कोरोना ने दुनियाभर में ली 9.75 लाख से ज्यादा की जान, संक्रमितों का आंकड़ा 3.17 करोड़ के पार

विश्वभर में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी से अब तक 9.75 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 3.17 करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं। अमेरिका में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 69,33,548 पहुंच गई है और 2,01,884 लोगों की जान जा चुकी है। भारत में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 57,32,519 हो गया है, जबकि 91,149 लोगों की मौत हो चुकी है।

24/09/2020