Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 28th of September 2021
 
दुनिया

नोबेल पुरस्कार-2020: इस साल यूएन के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को मिलेगा शांति का नोबेल पुरस्कार

Friday, October 09, 2020 16:05 PM
फोटो साभार[email protected]

स्टॉकहोम। इस वर्ष का नोबेल शांति पुरस्कार संयुक्त राष्ट्र के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को प्रदान किया जाएगा। दुनिया में भूख से लड़ने की कोशिशों और युद्धग्रस्त क्षेत्रों में शांति स्थापना की प्रक्रिया में अहम योगदान देने के लिए वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को शांति के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है। वर्ल्ड फूड प्रोग्राम दुनिया का सबसे बड़ा मानवीय संगठन है, जो भूख मिटाने और खाद्य सुरक्षा को बढ़ावा देता है। 2019 में वर्ल्ड फूड प्रोग्राम ने 88 देशों में 100 मिलियन लोगों को सहायता प्रदान की।

नोबेल कमेटी ने कहा कि भूख को युद्ध और संघर्ष के हथियार के रूप में इस्तेमाल करने से रोकने के लिए की जा रही कोशिशों में वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम ने अग्रणी भूमिका निभाई है। वर्ल्ड फूड प्रोग्राम के तहत इस साल संगठन ने यमन से लेकर उत्तर कोरिया तक करोड़ों लोगों को भोजन उपलब्ध कराया। खासकर कोरोना महामारी के समय में उसकी भूमिका सराहनीय रही, क्योंकि भूख से जूझ रहे लोगों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। वर्ल्ड फूड प्रोग्राम ने नोबेल पुरस्कार मिलने के बाद कहा कि उसके स्टाफ के काम को पहचान मिली है, जिसने दुनिया के 10 करोड़ से ज्यादा भूखे बच्चों और महिला-पुरुषों की मदद में पूरी ताकत लगा दी।

क्या मिलता है पुरस्कार में?
नोबेल पुरस्‍कार जीतने वाले हर व्यक्ति को 10 मिलियन स्‍वीडिश क्रानर, 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पदक और प्रशस्ति पत्र भी दिया जाता है। ये पुरस्कार स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबल की याद में दिया जाता है। उन्होंने 124 साल पहले एक फंड का निर्माण किया था, इसी फंड से दुनिया के अहम खोजों के लिए ये पुरस्कार दी जाती है। पदक के एक ओर नोबेल पुरस्कारों के जनक अल्फ्रेड नोबेल की छवि, उनके जन्म तथा मृत्यु की तारीख लिखी होती है, वहीं दूसरी ओर यूनानी देवी आइसिस का चित्र, रॉयल एकेडमी ऑफ साइंस स्टॉकहोम तथा पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति की जानकारी होती है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

विश्व में कोरोना से 7.20 लाख की मौत

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसके कारण अब तक 1.93 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हुए है।

08/08/2020

पेगासस के जिन्न से यूरोपीय देश भी परेशान, फ्रांस के राष्ट्रपति ने बदला फोन तो हंगरी में मामले की जांच शुरू

पेगासस के जरिए खास लोगों की जासूसी का मामला सामने आने के बाद से हर कोई हैरान है। पेगासस के द्वारा जिन लोगों की जासूसी किए जाने की जानकारी सामने आई है उसमें फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों का नाम भी शामिल है। इसको देखते हुए उन्होंने बिना देर लगाए अपना नंबर बदल दिया है।

24/07/2021

कश्मीर मुद्दे पर इमरान खान ने किंग अब्दुल्लाह और मैक्रों से की चर्चा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने जॉर्डन के किंग अब्दुल्लाह और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से बुधवार को फोन पर जम्मू-कश्मीर की मौजूदा स्थिति के बारे में चर्चा की।

29/08/2019

कोरोना वायरसः दुनियाभर में करीब 10.56 लाख लोगों की मौत, 3.61 करोड़ से ज्यादा संक्रमित

दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 3.61 करोड़ से अधिक हो गई है, जबकि करीब 10.56 लाख लोग इसके कारण जान गंवा चुके हैं। अमेरिका में कोरोना से 2.12 लाख लोगों की मौत हो चुकी है तथा 75.50 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं।

08/10/2020

पाकिस्तान से नहीं टेररिस्तान से बात करने में समस्या : जयशंकर

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशंस कार्यक्रम में पाकिस्तान पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से बातचीत का कोइ मुद्दा नहीं है।

26/09/2019

अमेरिका में कोरोना के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी को मंजूरी, ट्रंप की लोगों से प्लाज्मा डोनेट करने की अपील

अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग (एफडीए) ने गंभीर रूप से बीमार कोरोना वायरस (कोविड-19) के मरीजों के इलाज के लिए आपात स्थिति में प्लाज्मा थेरेपी को मंजूरी प्रदान कर दी है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को व्हाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी।

24/08/2020

डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पारित, अब सीनेटर करेंगे फैसला

अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ संसद के काम में बाधा डालने और पद के दुरुपयोग के आरोप में महाभियोग प्रस्ताव पारित कर दिया।

19/12/2019