Dainik Navajyoti Logo
Saturday 6th of June 2020
 
बिज़नेस

सुस्ती के दौर में दुनिया की 90 फीसदी अर्थव्यवस्था, भारत पर भी असर : IMF चीफ

Wednesday, October 09, 2019 19:15 PM
फाइल फोटो।

वॉशिंगटन। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने आर्थिक सुस्ती को लेकर चेतावनी जारी की है। आईएमएफ ने कहा है कि देशों के बीच व्यापार विवाद (ट्रेड वॉर) वैश्विक अर्थव्यवस्था को कमजोर कर रहे हैं। आईएमएफ की प्रबंध निदेशक के तौर पर अपने पहले संबोधन में क्रिस्टलीना जॉर्जिवा ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर दशक के सबसे निचले स्तर पर आने की आशंका है। उन्होंने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में आर्थिक सुस्ती के कारण 90 फीसदी देशों की ग्रोथ रेट सुस्त रहेगी। तेजी से उभरती अर्थव्यवस्था के कारण भारत में सबसे ज्यादा इसका असर देखा जाएगा।

जॉर्जिवा ने कहा कि भारत और ब्राजील जैसी बड़ी उभरती अर्थव्यवस्थाओं में नरमी का असर अधिक ही देखने को मिल रहा है। चीन की आर्थिक वृद्धि दर भी धीरे-धीरे गिर रही है। उन्होंने कहा कि शोध दिखाते हैं कि व्यापार विवादों का प्रभाव व्यापक है और देशों को अर्थव्यवस्था में नकदी डालने के साथ एकरूपता से प्रतिक्रिया करने के लिए तैयार रहना चाहिए। जॉर्जिवा ने कहा कि करीब 40 उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर 5 प्रतिशत से अधिक रहेगी। जॉर्जिवा ने कहा कि अमेरिका और जर्मनी में बेरोजगारी की दर ऐतिहासिक निचले स्तर पर है। इसके बाद भी अमेरिका और जापान समेत यूरोप की विकसित अर्थव्यवस्थाओं में आर्थिक गतिविधियों में नरमी देखने को मिल रही है।

जॉर्जिवा ने कहा कि आईएमएफ चालू और अगले वर्ष के लिए अपने वृद्धि दर अनुमान को घटा रहा है. हालांकि इसके आधिकारिक संशोधित आंकड़े वह 15 अक्टूबर को जारी करेगा। पहले आईएमएफ ने 2019 में वैश्विक वृद्धि दर 3.2 प्रतिशत और 2020 में 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दुनिया की अर्थव्यवस्था के सामने एक और बड़ी चुनौती जलवायु परिवर्तन है। इसके समाधान के लिए उन्होंने कार्बन कर बढ़ाए जाने का आह्वान भी किया।

आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक की एक हफ्ते के बाद ही संयुक्त सालाना बैठक होने वाली है जिसमें दोनों संस्थाएं अपने आर्थ‍िक अनुमान पेश करेंगी। इसमें दुनिया के शीर्ष केंद्रीय बैंकर और वित्त मंत्री शामिल होंगे। आईएमएफ प्रमुख ने चेतावनी दी है कि 2019 और 2020 के लिए वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक एक जटिल हालात पेश करते हैं।

बता दें कि बुल्गारिया की जॉर्जिवा जनवरी 2017 से विश्व बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) रही हैं। वे इसी साल एक फरवरी से आठ अप्रैल तक विश्व बैंक समूह की अंतरिम अध्यक्ष रही थीं।

यह भी पढ़ें:

टाटा मैनेजमेंट को ट्रिब्यूनल से झटका, सायरस मिस्त्री को फिर से चेयरमैन बनाने का आदेश

टाटा के मौजूदा प्रबंधन को नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल से बड़ा झटका मिला है। एनसीएलएटी ने सायरस मिस्त्री के पक्ष में फैसला देते हुए कहा कि मिस्त्री को फिर से टाटा सन्स का चेयरमैन बनाया जाएं, उन्हें हटाना गलत था।

18/12/2019

बाजार की तेजी पर लगा ब्रेक, सेंसेक्स 167 अंक और निफ्टी 55 अंक उतरा

वैश्विक स्तर से मिले मिश्रित रूझानों के बीच घरेलू स्तर पर ऑटो, टेलीकॉम और एनर्जी जैसे अधिकांश बड़े समूहों में हुई बिकवाली से शेयर बाजार में लगातर तीन दिनों से जारी तेजी पर ब्रेक लग गया और गुरूवार को अंतिम चरण में मुनाफा वसूली से यह गिरावट लेकर बंद हुआ।

12/09/2019

सोने के गहनों पर हॉलमार्क अनिवार्य, 15 जनवरी 2020 को जारी होगी अधिसूचना, 1 साल बाद लागू

केन्द्र सरकार ने सोने के गहनों पर बीआईएस हॉलमार्क अनिवार्य कर दिया है। इसका उल्लंघन किया गया तो ज्वैलर्स को एक साल की सजा का प्रवाधान या एक लाख रुपए जुर्माना भी भुगतना पड़ सकता है। केन्द्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने बताया कि 2021 से देशभर में सोने के गहनों पर बीआईएस हॉलमार्क होने को अनिवार्य कर दिया जाएगा।

29/11/2019

भारत में बिजनेस करना अब और आसान, वर्ल्ड बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में 63वें स्थान पर

भारत में कारोबार करना अब और आसान हो गया है। वर्ल्ड बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में भारत 14 रैंकिंग की सुधार के साथ अब 63वें नंबर पर पहुंच गया है।

24/10/2019

कंपनियों के परिणाम से तय होगी बाजार की चाल

देश में आम चुनाव के लिए हो रहे चरणबद्ध मतदान के साथ ही कंपनियों की वर्ष 2018-19 की अंतिम तिमाही के वित्तीय परिणाम, कच्चे तेल में उतार चढ़ाव के साथ ही वैश्विक बाजार

06/05/2019

पांच वर्षों में 100 लाख करोड़ रुपए के इंफ्रास्ट्रक्चर निवेश पर कार्यबल गठित

सरकार ने वर्ष 2024-25 तक पांच वर्षों में बुनियादी सुविधाओं के विकास पर 100 लाख करोड़ रुपए निवेश के उद्देश्य से आर्थिक मामलों के सचिव की अध्यक्षता में राष्ट्रीय बुनियादी ढांचा विस्तार कार्यक्रम तैयार करने के लिए कार्यबल गठित किया है।

08/09/2019

शेयर बाजार गिरावट लेकर बंद

वैश्विक स्तर से मिले नकारात्मक संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर सभी क्षेत्रों में हुयी मुनाफावसूली के कारण शेयर बाजार में गिरावट लेकर बंद हुआ।

10/12/2019