Dainik Navajyoti Logo
Friday 22nd of November 2019
 
राजस्थान

जयपुर कलेक्ट्रेट तक नहीं है सिटी परिवहन सुविधा

Friday, July 12, 2019 11:10 AM
किसी को मात्र आधा किलोमीटर दूर सिंधी कैंप या रेलवे स्टेशन जाना हो तो ई-रिक्शे वाला चालीस से पचास रुपए मांगते हैं।

जयपुर। कलक्ट्रेट नाम उस जगह का है, जहां से प्रत्येक जिले का प्रशासनिक तंत्र संचालित और नियंत्रित होता है लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि राजधानी के कलक्ट्रेट की ही अभी तक पब्लिक ट्रांसपोर्ट और सिटी परिवहन से कनेक्टिविटी नहीं है। जहां रोज शहर और जिलेभर से सैकड़ों लोगों का आना जाना लगा रहता है लेकिन सिटी परिवहन सुविधा नहीं होने के कारण कलक्ट्रेट आने और जाने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। कहने को तो वाया कलक्ट्रेट 6 ए और 9 रूट नंबर लो फ्लोर बसें लगा रखी है लेकिन इनका कोई अता पता नहीं है। कई साल पहले तक 5, 6 और 7 रूट नंबर की मिनी बसें वाया कलक्ट्रेट होकर रेलवे स्टेशन चला करती थी। अब इन्हें भी बंद कर दिया गया है।

यदि किसी को मात्र आधा किलोमीटर दूर सिंधी कैंप या रेलवे स्टेशन जाना हो तो ई-रिक्शे वाला चालीस से पचास रुपए मांगते हैं। जबकि मिनी बसों का न्यूनतम किराया पांच रूपए है। गौरतलब है कि कलक्ट्रेट आने वाले ज्यादातर लोगों को चांदपोल, सिंधी कैम्प या रेलवे स्टेशन जाना होता है। पहले शहर के लगभग सभी क्षेत्रों सिटी परिवहन की कनेक्टिविटी हुआ करती थी लेकिन कुछ सालों से इसे पूरी तरह खत्म कर दिया गया है। जब से सिटी परिवहन का जिम्मा आम जनता के प्रति संवेदनहीन जयपुर सिटी बस सर्विसेज लिमिटेड कम्पनी को सौंपा गया है, तभी से शहर की पब्लिक ट्रांसपोर्ट व्यवस्था बुरी तरह चरमराई हुई है। शायद इस कम्पनी पर सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है। यही कारण है कि कलक्ट्रेट जैसी अति महत्वपूर्ण जगह भी परिवहन जैसी सुविधा से वंचित है।