Dainik Navajyoti Logo
Thursday 14th of November 2019
 
राजस्थान

एकादशी पर गूंजी शहनाइयां

Saturday, November 09, 2019 11:15 AM
अबूझ सावे के चलते शहर में सैकड़ों युगल परिणय सूत्र में बंध जीवनसाथी बन गए।

जयपुर। देवउठनी एकादशी पर शुक्रवार को देव जागने के साथ ही शादी की शहनाइयां गूंज उठी। मंदिरों में घंटे, घड़ियाल और शंखनाद के साथ भगवान को जगाया गया। इसके बाद मंदिरों में तुलसी सालिगराम विवाह के साथ शादियों का आगाज हो गया। देवों के जगने के साथ ही विगत चार माह से शादियों पर लगा विराम एक बार फिर शहनाइयों की गूंज के साथ धूम धड़ाके में बदल गया। अबूझ सावे के चलते शहर में सैकड़ों युगल परिणय सूत्र में बंध जीवनसाथी बन गए। शहर में सुबह से ही लोगों की आवाजाही बनी रही। सभी विवाह स्थलों पर देर रात तक बारातों के कारण काफी भीड़ भाड़ का माहौल रहा। कई जगह जाम की स्थिति भी बनी।

सामूहिक विवाह
प्रगति सामाजिक सेवा संस्थान की ओर से देवउठनी एकादशी पर भांकरोटा निमेड़ा स्थित श्याम गौशाला में 12वां सर्वजातीय सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित हुआ। इसमें विभिन्न समाजों के करीब 151 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। सम्मेलन में पूर्व विधाधक डॉ. कैलाश शर्मा व आयोजक हेतराम लालावत ने सभी जोड़ों को आशीर्वाद प्रदान कर उनके सुखद गृहस्थ जीवन की कामना की। सभी जोड़ों को उपहार स्वरूप घरेलू उपयोग की चीजें भी भेंट की गई। सैनी माली सेवा समिति का 11वां सामूहिक विवाह सम्मेलन जयसिंहपुरा खोर में आयोजित हुआ। इसमें समाज के 32 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। इससे पूर्व गाजे बाजे के साथ दूल्हों की बारात निकाली गई।