Dainik Navajyoti Logo
Thursday 14th of November 2019
 
राजस्थान

आवासन मंडल में बनाई जाएंगी मार्केटिंग और उद्यान शाखा

Saturday, November 09, 2019 11:10 AM
बैठक में एक दर्जन से अधिक प्रस्तावों का निस्तारण किया गया।

जयपुर। प्रदेश के विभिन्न शहरों में अनिस्तारित चल रहे आवासों के साथ ही खाली जमीनों को निस्तारण करने के लिए राजस्थान आवासन मंडल में अलग से मार्केटिंग विंग बनाई जाएगी। इसके साथ ही कॉलोनियों को सौन्दर्यलुक देने एवं पर्यावरण सुधार के लिए अलग से उद्यानविज्ञ शाखा बनाई जाएगी। बैठक में एक दर्जन से अधिक प्रस्तावों का निस्तारण किया गया। राजस्थान आवासन मंडल मुख्यालय में शुक्रवार को आयोजित 239 वीं बोर्ड बैठक में यह निर्णय लिया गया। इसके अलावा एक दर्जन से अधिक अन्य प्रस्तावों को भी मंजूरी दी गई। बैठक आवासन अध्यक्ष भास्कर ए. सावंत की अध्यक्षता में हुई। आवासन आयुक्त पवन अरोड़ा ने बताया कि शिक्षकों के लिए मुख्यमंत्री शिक्षक आवास योजना और कांस्टेबलों के लिए मुख्यमंत्री प्रहरी आवास योजना लॉन्च करने का निर्णय लिया है। इन दोनों योजनाओं के तहत लगभग 600 फ्लैट बनाए जाएंगे। यह योजना प्रताप नगर के सेक्टर 26 में लाई जाएगी। इस योजना को जल्द ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से लॉन्च करवाया जाएगा। इसके साथ ही प्रतान नगर में कोचिंग हब, नायला स्थित महात्मा गांधी दस्तकार योजना में ओपन थियेटर, मानसरोवर में फाउंटेन सहित अन्य निर्माणों की स्वीकृति जारी कर दी है।

राजस्थान आवासन मंडल अधिनियम में होगा संशोधन
अरोड़ा ने बताया कि राजस्थान आवासन मंडल अधिनियम के प्रावधानों में संशोधन कर मंडल की शक्तियों में इजाफा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि आवासन मंडल अधिनियम में प्रावधानों के अभाव में अपनी जमीन या संपत्तियों से अतिक्रमण नहीं हटा पाता है। इसलिए इस अधिनियम में मंडल की स्वयं की सम्पत्तियों पर अतिक्रमण हटाने का अधिकार जोड़ा जाएगा। इसके साथ ही अतिक्रमियों के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए प्रवर्तन दस्ते का गठन किया जाएगा। इसके साथ आवासन मंडल को आवंटित या बेची गई सम्पत्तियों की बकाया राशि या किश्तों की वसूली, ब्याज एवं पैनल्टी की वसूली, लीज राशि की वसूली और अन्य किसी शुल्क की वसूली के लिए संपत्ति कुर्क या सीज करने तथा नीलाम करने का अधिकार होगा।

खरीदारों के लिए साइट विजिट
अरोड़ा ने बताया कि ग्राहकों को मंडल की योजनाओं की जानकारी देने और सम्पत्तियों के निस्तारण के लिए अलग से मार्केटिंग सेल बनाई जाएगी। यह सेल मंडल की सम्पत्तियों का विवरण तैयार उनका व्यापक प्रचार-प्रसार करेगी। इसके साथ ही ग्राहकों को मंडल की योजनाओं और सम्पत्तियों की जानकारी उपलब्ध कराएगी। इस सेल द्वारा संभावित खरीदारों को साइट विजिट कराने की व्यवस्था भी की जाएगी।