Dainik Navajyoti Logo
Thursday 4th of June 2020
 
राजस्थान

14 साल के इंतजार के बाद अब होंगे शिक्षक संघ रूटा के चुनाव

Saturday, November 09, 2019 10:40 AM
फाइल फोटो

जयपुर। राजस्थान विश्वविद्यालय के उन शिक्षकों के लिए खुशी की खबर है, जो पिछले 14 साल से आरयू शिक्षक संघ (रूटा) के चुनाव करवाए जाने की आस लगाए बैठे थे। आरयू ने कार्यक्रम जारी करते हुए 4 दिसम्बर को रूटा का चुनाव करवाए जाने की घोषणा कर दी है। इस चुनाव में एक अध्यक्ष, एक उपाध्यक्ष, एक महासचिव, दो संयुक्त सचिव और दस कार्यकारिणी सदस्यों के लिए होगा। एक साल पहले सुप्रीम कोर्ट ने रूटा के चुनाव पर रोक हटाते हुए चुनाव करवाने की अनुमति दी थी, लेकिन रोक हटने के कुछ दिन बाद ही राजस्थान विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लग जाने के कारण चुनाव नहीं करवाए जा सके। इसके बाद लोकसभा चुनाव की आचार संहित के कारण चुनाव का कार्यक्रम जारी नहीं हो सका। अब 4 दिसम्बर को चुनाव करवाए जाने की घोषणा के साथ 14 साल से चला आ रहा लम्बा इंतजार समाप्त हो गया।

16 नवंबर से शुरू होगी प्रक्रिया
आरयू चुनाव कार्यक्रम के अनुसार 16 नवम्बर को मतदाता सूची का प्रकाशन होगा। इसके बाद 19 नवम्बर तक मतदाता सूची पर आपत्तियां दर्ज करवाई जा सकती है। 21 नवम्बर को अंतिम मतदाता सूची का प्रकाश होगा और 25 नवम्बर कॉमर्स कॉलेज में चुनाव लड़ने के लिए नामांकन भरा जाएगा। 26 नवम्बर को नामांकन पत्रों की जांच होगी, जिसके बाद इसी दिन दोपहर तीन बजे बाद योग्य प्रत्याशियों की सूची  प्रकाशित की जाएगी। 27 नवम्बर को दोपहर 12 बजे तक नामांकन वापस लिए जा सकते हैं। नामांकन वापसी के बाद प्रत्याशियों की अंतिम सूची का प्रकाशन किया जाएगा।

छात्रसंघ चुनाव के साथ लगा दी थी रोक
छात्रसंघ चुनाव में लिंगदोह समिति के उल्लंघन को देखते हुए 2005 में हाईकोर्ट की ओर से चुनावों पर रोक लगा दी गई थी। छात्रसंघ चुनाव के साथ ही आरयू के कर्मचारी और शिक्षक संघ के चुनावों पर भी रोक लगा दी थी, लेकिन 2010 में छात्रसंघ चुनाव से रोक हट गई। वहीं, तीन साल पहले कोर्ट ने कर्मचारियों के चुनाव पर लगी रोक को भी हटा लिया था, लेकिन रूटा के चुनाव पर रोक जारी रही। इस पर विश्वविद्यालय शिक्षकों ने सुप्रिम कोर्ट में याचिका दायर की, जहां से एक साल पहले कोर्ट ने रूटा चुनाव से रोक हटा दी और अब जाकर चुनावी कार्यक्रम जारी कर दिया है।

 

यह भी पढ़ें:

गहलोत ने कहा, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री शांति मार्च क्यों नहीं निकाल रहे?

एनआरसी और नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में भाजपा शासित राज्यों में हो रहे आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वहां के मुख्यमंत्री शांति मार्च क्यों नहीं निकाल रहे, उनको वहां की जनता को विश्वास में लेना चाहिए कि आपके साथ गलत नहीं होने देंगे।

21/12/2019

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में केस स्टडी बना कंप्यूटर बेस्ड एजुकेशन मॉडल

राजस्थान के सरकारी स्कूलों में शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए चलाया गए एक अभियान ने बेहतर नतीजे दिए।

02/11/2019

मारवाड़ में शुरु हुआ शीतलहर का असर, जोधपुर लिपटा कोहरे की चादर में, रिमझिम बारिश से सर्दी बढ़ी

मारवाड़ में पश्चिमी विक्षोभ का असर एवं चक्रवाती परिसंचार बनने से पिछले दो दिन से मौसम में बदलाव आया है। मारवाड़ के अधिकांश हिस्से गुरुवार को दूसरे दिन भी बारिश होने के समाचार हैं। गुरुवार सुबह से ही कुछ स्थानों पर बूंदाबांदी होने के साथ हल्की बारिश हुई है।

14/11/2019

मिश्र ने आनंदी बेन को भेंट की पुस्तक

राज्यपाल कलराज मिश्र ने लखनऊ स्थित राजभवन में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन को अपनी पुस्तक कृति भारत में उद्यमिता भेंट की।

17/02/2020

निकाय प्रमुखों के लिए लॉटरी प्रक्रिया, पारदर्शिता के लिए विशेष इंतजाम

स्वायत्त शासन भवन में निकाय प्रमुखों के लिए लॉटरी प्रक्रिया शुरू हो गई है। 10 नगर निगम, 34 नगर परिषद और 152 नगर पालिकाओं के लिए लॉटरी प्रक्रिया में पारदर्शिता के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं।

20/10/2019

मौसम ने मारी पलटी आंधी, बरसात और ओले

पश्चिमी विक्षोभ की दस्तक से सोमवार को प्रदेश में मौसम ने पलटी मारी, इससे आंधी, बरसात और चने के आकार के ओले गिरे।

14/05/2019

डकैत जगन गुर्जर ने महिलाओं को पीटा, बंदूक की नोक पर निर्वस्त्र कर घुमाया

इनामी दस्यु जगन सिंह गुर्जर ने अपने सशस्त्र साथियों के साथ पहले बाड़ी में बुधवार को बंदूक की नोंक पर कई लोगों को लहूलुहान कर वारदात को अंजाम दिया गया था।

13/06/2019