Dainik Navajyoti Logo
Thursday 21st of November 2019
 
जोधपुर

योग सिर्फ व्यायाम भर नहीं विज्ञान पर आधारित शारीरिक क्रिया : कलक्टर राजपुरोहित

Wednesday, October 16, 2019 01:55 AM
राजकीय बालिका गृह में योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा प्रमाण पत्र प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारम्भ करते किशोर न्याय समिति के अध्यक्ष एवं राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधिपति संदीप मेहता

जोधपुर । बाल अधिकारिता विभाग के तहत संचालित राजकीय बालिका गृह में बालिकाओं के सामाजिक पुनर्वास के संबंध में कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने को लेकर डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन आयुर्वेद विश्वविद्यालय करवड़ एवं राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम के संयुक्त तत्वाधान में योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा प्रमाण पत्र प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारम्भ मंगलवार को किशोर न्याय समिति के अध्यक्ष एवं राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधिपति संदीप मेहता ने किया। 


इस मौके पर समारोह के विशिष्ठ अतिथि कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने कहा, कि योग मन, मस्तिष्क एवं शरीर का एक अभ्यास है। योग की विभिन्न शैलियां होती है जिनमें शरीरिक मुद्राएं, सांस लेने की टेक्निक और मेडिटेशन है। योग सिर्फ व्यायाम भर नहीं है,बल्कि विज्ञान पर आधारित शारीरिक क्रिया है। इसमें मस्तिष्क, शरीर व  आत्मा का एक दूसरे से मिलन होता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ.एसआर राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.डॉ.अभिमन्यु कुमार ने की। विशिष्ट अतिथि राजस्थान बाल अधिकार संरक्षण आयोग अध्यक्ष संगीता बेनीवाल थी। 


राजकीय बालिका गृह अधीक्षक आसमा पीरजादा ने बताया, कि न्यायाधिपति संदीप मेहता ने भगवान धन्वंतरी की पूजा अर्चना कर बालिका गृह की 25 से अधिक बालिकाओं को लगभग पांच माह के योग कोर्स के प्रशिक्षण का शुभारंभ किया। बाल अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक  डॉ.बीएल  सारस्वत ने बताया, कि पिछले तीन वर्षो  से न्यायाधिपति संदीप  मेहता  के  निर्देशन व मार्गदर्शन में संपूर्ण  राजस्थान  में  किशोर न्याय  अधिनियम के अंतर्गत राजकीय गृहों में प्रवेशित बालक-बालिकाओं के सामाजिक पुनर्वास में हो रहे नवाचारों से एक नए युग की शुरूआत की। समारोह के अंत में अपर जिला कलक्टर सीमा कविया ने धन्यवाद ज्ञापित किया।


सामाजिक कार्यकर्ताओं का किया सम्मान
समारोह में न्यायाधिपति मेहता ने राजकीय बालिका गृह व किशोर गृह में समय-समय पर आयोजित होने वाले शिविरों एवं रचनात्मक गतिविधियों में योगदान देने वाले सामाजिक कार्यकर्ता इंदिरा कच्छवाह, भारत विकास परिषद के प्रभात माथुर, अधिवक्ता विशाल शर्मा व कपिल बोहरा को प्रशस्तिपत्र व स्मृति चिन्ह देकर  सम्मानित किया।


आसन,योग व ध्यान का करवाया अभ्यास
समारोह में आयुर्वेद विवि के योग प्रोफेसर डॉ.चन्द्रभान शर्मा ने साथी योग  शिक्षकों के साथ मंत्रोच्चारण के साथ प्रणाम आसन, हस्तोत्तनासन,  हस्तपादासन, दंडासन, अष्टांग नमस्कार, भुजंगासन, पर्वतासन, ताड़ासन, वज्रासन सहित योग की मुद्राओं का प्रशिक्षण दिया तो समारोह में मौजूद अतिथियों सहित गृह की बालिकाओं में खासा उत्साह देखने को मिला। इसके साथ ही गृह की बालिकाओं ने विभिन्न प्रस्तुतियां दी। कार्यक्रम का संचालन किशोर न्याय समिति के वरिष्ठ सलाहकार राकेश चौधरी ने किया।


समारोह में यह रहे उपस्थित
इस मौके पर राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के  संयुक्त  सचिव देवकुमार खत्री, आयुर्वेद  महाविद्यालय के प्राचार्य गोविन्द सहाय शुक्ल, राजस्थान उच्च न्यायालय के अतिरिक्त महाधिवक्ता फरजंद अली, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के  उपनिदेशक अनिल व्यास, किशोर व संप्रेक्षण गृह अधीक्षक मनमीत कौर, नारी निकेतन अधीक्षक  रेखा  शेखावत, बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष डॉ.राजेद्रसिंह चावड़ा, डॉ.एसीएच माथुर,


किशोर न्याय बोर्ड के सदस्य रूपवती देवड़ा, राजेन्द्र सोनी, आरएसएलडीसी के जिला समन्वयक ययाति व्यास, सहायक लेखाधिकारी गणपतलाल  प्रजापत, सहायक  प्रशासनिक  अधिकारी रोहल खां, अतिरिक्त  प्रशासनिक अधिकारी जानकी  दास  चौहान, कनिष्ठ लिपिक ताराराम प्रजापत, संरक्षण अधिकारी (संस्थागत)डॉ.सरोज  चौहान, आउटरीच वर्कर अर्जुनसिंह गहलोत, संपर्क संस्थान के सौमत्री बैनर्जी,  काउंसलर महेश  सारस्वत व ऋतु कच्छवाहा सहित  विभाग के कार्मिक मौजूद रहे।