Dainik Navajyoti Logo
Friday 22nd of November 2019
 
जयपुर

हमारी सरकार इस साल करीब 16 हजार करोड़ के फसली ऋण वितरित करेगी: अशोक गहलोत

Friday, July 12, 2019 10:55 AM
सहकारी क्षेत्र में ऑनलाइन फसली ऋण वितरण एवं सहकारी एटीएम के उद्घाटन समारोह के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किसानों से बात भी की।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश के किसानों की सेवा करना हमारा फर्ज है। हमारी सरकार किसानों के कल्याण के लिए आवश्यक कदम उठाने में कोई कमी नहीं रखेगी। गहलोत बिड़ला सभागार में सहकारी क्षेत्र में ऑनलाइन फसली ऋण वितरण एवं सहकारी एटीएम के उद्घाटन समारोह के दौरान कर्जमाफी के लाभार्थी किसानों से वीडियो कॉंफ्रेंसिग के माध्यम से संवाद कर रहे थे।

सीएम ने की किसानों से बात
मुख्यमंत्री ने जोधपुर के हनुमान सिंह, कोटा के तुलसीराम, चितौड़गढ़ के गंगाराम, बाड़मेर के कानाराम एवं टोंक के रामहंस से फ सली ऋण माफी को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंस से बातचीत की। किसानों ने बताया कि पहली बार उनका इतना बड़ा कर्ज माफ  हुआ है और उन्हें नया ऋण भी मिल गया है। किसानों ने इसके लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। गहलोत ने कहा कि हम हमारा फर्ज आगे भी इसी तरह निभाते रहेंगे।

गहलोत ने कहा कि किसानों का ऋण माफ  करने के साथ ही उन्हें नया लोन स्वीकृत करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। हमारी सरकार इस वर्ष करीब 16 हजार करोड़ रुपए के फसली ऋण वितरित करेगी। इसके अलावा खरीफ  और रबी में खाद-बीज में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि हमारे पिछले कार्यकाल में हमने पहली बार किसानों को बिना ब्याज फसली ऋण देने की शुरूआत की थी।  

हर पंचायत समिति में होगी नंदीशाला
गहलोत ने कहा कि आवारा पशुओं से किसानों को हो रही परेशानी को दूर करने के लिए हमने प्रदेश के बजट में हर पंचायत समिति में नन्दीशाला खोलने की घोषणा की है। हमने ‘इज आॅफ  डूइंग फ ार्मिंग’ के लिए एक हजार करोड़ रुपए के कृषक कल्याण कोष का गठन भी किया है। इसके अलावा एक लाख मैट्रिक टन डीएपी एवं 2 लाख मैट्रिक टन यूरिया के अग्रिम भण्डारण का प्रावधान भी किया गया है।

खेती पर आधारित उद्योग लगाएं सरकार करेगी पूरा सहयोग
गहलोत ने कहा कि किसान अपनी आय बढ़ाने के लिए खेती से आगे बढ़कर खेती पर आधारित उद्योग लगाएं, ताकि उन्हें अपनी फ सलें कम दामों में नहीं बेचनी पड़ें। फू ड प्रोसेसिंग इकाइयां लगाने के लिए हमारी सरकार किसानों को पूरा सहयोग करेगी। किसानों को फू ड प्रोसेसिंग इकाइयां लगाने के लिए 10 हैक्टेयर तक कृषि भूमि का भू-उपयोग परिवर्तन कराने की आवश्यकता नहीं होगी।

एटीएम से ले सकेंगे ऋण
गहलोत ने प्रदेश में सहकारी क्षेत्र में ऑनलाइन ऋण वितरण की शुरूआत को एक ऐतिहासिक कदम बताते हुए कहा कि इससे ऋण वितरण की प्रक्रिया आसान हो जाएगी। अब किसान एटीएम या पोस मशीन के माध्यम से ऋण राशि की निकासी भी कर सकेंगे।

दस लाख नए किसान जुड़ेंगे
सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने कहा कि राजस्थान देश का पहला राज्य है जहां सहकारी क्षेत्र में ऑनलाइन फसली ऋण वितरण की प्रक्रिया शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि 20 लाख किसानों का आधार आधारित पंजीयन कर ऋण माफी योजना का लाभ दिया गया है। उन्होंने कहा कि 10 लाख नए किसानों को सहकारी फ सली ऋण प्रक्रिया से जोड़ा जाएगा। सहकारिता राज्यमंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि पिछली गहलोत सरकार में किसानों को बिना ब्याज ऋण उपलब्ध कराने की शुरूआत की गई थी। साथ ही 5 साल तक किसानों के लिए बिजली की दरें भी नहीं बढ़ाई गई थी।

प्रमुख शासन सचिव सहकारिता अभय कुमार ने किसानों के हित में राज्य सरकार की ओर से उठाए गए कदमों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस अवसर पर सहकारिता एटीएम मोबाइल वैन का शुभारम्भ करने के बाद उसे हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। गहलोत ने सहकारी एटीएम का भी उद्घाटन किया।