Dainik Navajyoti Logo
Saturday 31st of July 2021
 
इंडिया गेट

बजट की हड़प्पन भाषा

Tuesday, February 04, 2020 10:15 AM
निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

टाइम्स आॅफ इंडिया में ताजा बजट को लेकर एक कार्टून छपा है कि जिसका मजमून है कि इस बार के बजट का प्रीफेस हड़प्पन लिपी में लिखा है, यह समझ से परे हैं। बजट को लेकर अगर अपन जानकारों की राय माने तो उनने इसे निराशाजनक बताया है, क्योंकि किसी भी बजट में आयकर सबसे अहम मसला होता है। आम जनता भी सबसे अधिक आयकर को लेकर सरकार के फैसलों पर नजर रखती है। आम जनता की फिक्र यह रहती है कि आखिर आयकर के स्लैब में कोई बदलाव किया गया है या नहीं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में आयकर को लेकर जो प्रस्ताव पेश किए उसे बड़े-बड़े जानकार भी चकरा गए हैं। उनने बदलाव की चर्चा तो की, लेकिन यह बदलाव जानकारों को भी ठीक से समझ नहीं आ रहा है। इस हैरानी का सबब एक शर्त है जो स्लैब के साथ जोड़ा गया है और शर्त ऐसी है कि नई आयकर व्यवस्था में अगर आप छूट चाहते हैं तो आपको पुरानी दरों से ही आयकर चुकाना होगा। यानी कुल मिलाकर आपको किसी तरह की छूट नहीं मिलने वाली। पर सरकार का दावा है कि मध्यम वर्ग को आयकर में बड़ी राहत माफ की गई है और आयकर की व्यवस्था को सरल बना दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली की एक चुनावी रैली में यह दावा भी कर दिया है। आयकर से जुड़े बजट के मजमून को उपरी तौर पर देखें तो ऐसा लगता भी है कि छूट मिल गई है। मगर जब बारीकी में जाएं तो पता लगता है कि ऐसा कुछ भी नहीं है। वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में आयकर के नए टैक्स स्लैब की घोषणा करते हुए कहा कि पांच लाख रुपए तक की आय पर कोई इनकम टैक्स नहीं देना होगा और 5 लाख रुपए की आय पर कर की दर 20 से घटाकर 10 फीसद करने की घोषणा की गई है। फिर 7.5 से 10 लाख रुपए की कमाई पर कर की दर 20 के स्थान पर 15 फीसद होगी।

दस  से 12.5 लाख रुपए पर 30 के स्थान पर 20 और इसी तरह 12.5 से 15 लाख की कमाई पर भी आयकर की दर 30 से घटाकर 25 फीसद कर दी गई है। 15 लाख से ऊपर की कमाई पर टैक्स की दर पहले जैसे ही 30 फीसद रखी गई है। लेकिन, आयकर की इस नई स्लैब्स के साथ एक शर्त यह भी रखी गई है कि इसमें किसी किस्म की छूट का दावा नहीं कर सकते। यानी नए स्लैब का लाभ उठाने के लिए बीमा, निवेश, घर का किराया, बच्चों की स्कूल फीस आदि जैसे मदों के एवज में इन्कम टैक्स में मिलने वाली छूट को छोड़ना होगा। पहले टैक्स भरते हुए इन सभी चीजों की जानकारी देने पर टैक्स में छूट मिला करती थी। वित्त मंत्री के मुताबिक अगर कोई आयकर में छूट का प्रावधान चाहता है तो उसे पुराने टैक्स स्लैब के दर से ही अपना कर चुकाना पड़ेगा। यानी कि मान लीजिए कि आपका वेतन 9 लाख लाख रुपए सालाना है और अगर वह बिना किसी छूट के दावे के आयकर देने का फैसला करता है तो उसे ढाई से पांच लाख के बीच पांच फीसद और उससे ऊपर की आय पर 15 फीसद की दर से टैक्स चुकाना पड़ेगा, लेकिन अगर वह बीमा और हाउस लोन जैसी सुविधाओं के जरिये छूट चाहता है, तो उसे पांच लाख से ऊपर की आय पर 20 फीसद की दर से टैक्स चुकाना होगा। सवाल है कि आयकर की इस नई व्यवस्था को पहले से आसान किया गया या और जटिल। वित्त मंत्री सीतारमण का दावा तो है कि यह सरलीकृत व्यवस्था है। पर इस नई व्यवस्था ने आयकर के जानकारों को चकरा दिया है। बजट पेश करने के बाद से ही यह कन्फ्यूजन इतना फैला कि वित्तमंत्री को सफाई देनी पड़ी है।

उन्होंने कहा कि छूट लेने के बहाने कम टैक्स में देने की सोच में बदलाव जरूरी है। हम चाहते हैं कि टैक्सपेयर्स अपनी क्षमता के अनुसार टैक्स दें। साथ ही उनने यह भी कहा कि विकल्प चुनने में थोड़ी मेहनत तो करनी होगी। यानी बजट में आयकर की इस नई व्यवस्था को लेकर शनिवार को जो दावे किए गए, वे दोनों ही सही नहीं थे। पहली यह कि इस व्यवस्था से मध्यम वर्ग को लाभ हुआ है और दूसरी यह कि आयकर की नई व्यवस्था को आसान बनाया गया है। अब नई व्यवस्था में आपको पहले यह तय करना होगा कि किस नियम की तहत आपको अपना आयकर रिटर्न भरना है। यानी बगैर छूट का दावा किए रिटर्न भरना है या आपने जो बचत, बीमा और हाउस लोन ले रखा है उस पर छूट का दावा करते हुए  ज्यादा दर वाले स्लैब के तहत आयकर जमा करना है। यानी आप लाभ में रहे या नुकसान में यह तो आपके विकल्प चुनने पर निर्भर करता है, लेकिन एक बात तो तय है कि आपका आर्थिक सलाहकार रिटर्न भरने का शुल्क आपसे अधिक वसूलने वाला है। यह तो आयकर व्यवस्था का आलम है बाकी बजट समझना फिलहाल बाकी है।

(ये लेखक के अपने विचार हैं)
- शिवेश गर्ग

 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

अर्नब के बरक्स प्रेस की आजादी पर बहस-1

जब से रिपब्लिक टीवी के मालिक और संपादक अर्नब गोस्वामी को एक बेहद संगीन आपराधिक मामले में गिरफ्तारी हुई है। तब से चाय की प्याली में तूफान खड़ा हो गया है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को लेकर बहस चल निकली है।

06/11/2020

इमरान खान का मोदी प्रेम

पिछले दो आम चुनाव से मुल्क की सियासत में पाकिस्तान का भूत आ खड़ा हो रहा है। याद करें 2014 के आम चुनाव से पहले भाजपा के तमाम नेता अपने सियासी विरोधियों को पाकिस्तान भेज दिए जाने की धमकी दिया करते थे।

13/04/2019

प्रचंड होती दिव्यता

यों तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दिव्य बौद्धिकी से मुल्क अक्सर रुबरु होता रहा है। जब मुल्क में कोई चुनाव चल रहा हो तब भी और जब चुनाव नहीं हो तब भी।

15/05/2019

कांग्रेस का फैसला बेसबब नहीं

जब से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने रायबरेली में कार्यकर्ताओं से पूछा था कि क्या मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ जाऊं

27/04/2019

अभिव्यक्ति की आजादी की एक और बहस

तो अब मुल्क में अशोका विश्वविद्यालय के बरक्स अभिव्यक्ति की आजादी का सवाल जेरेबहस है। बहस के केन्द्र में जाने-माने राजनीतिक विश्लेषक प्रताप भानु मेहता और पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम का इस्तीफा है। हरियाणा के सोनीपत में स्थित यह विश्वविद्यालय इस हफ्ते तब विवादों में आया, जब बीते मंगलवार यानी 16 मार्च को जाने-माने राजनीतिक टिप्पणीकार प्रताप भानु मेहता ने अशोका यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पद से इस्तीफा दे दिया।

24/03/2021

खतरनाक है आंकड़ों से यह खिलवाड़

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बेंजामिन इजरायली ने कहा था, ‘झूठ तीन तरह के होते हैं, झूठ, सफेद झूठ और आंकड़ें।’ आज जब मुल्क में आम चुनाव अपने अंतिम चरण में है

10/05/2019

भीमा कोरेगांव का नया एंगल

भीमा कोरेगांव से जुड़े नए खुलासे किसी बड़ी साजिश का इशारा करते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका स्थित एक डिजिटल फोरेंसिक फर्म ने पाया है कि भीमा कोरेगांव मामले की जांच कर रही पुलिस की ओर से मामले के एक आरोपी रोना विल्सन के एक लैपटॉप में मालवेयर का इस्तेमाल करते हुए 'भड़काऊ' सबूत डाले गए थे।

17/02/2021