Dainik Navajyoti Logo
Sunday 13th of June 2021
 
इंडिया गेट

पवन वर्मा के पत्र का सबब

Thursday, January 23, 2020 10:25 AM
पवन वर्मा (फाइल फोटो)

जदयू के राज्यसभा सांसद पवन वर्मा ने पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार को पत्र लिखकर दिल्ली में भाजपा के साथ पार्टी के गठबंधन पर नाराजगी जताई है। पवन वर्मा ने अपने पत्र में नीतीश कुमार को भाजपा को लेकर उनकी निजी आशंकाओं की भी याद दिलाई। वह लिखते हैं कि अकेले में आपकी (नीतीश कुमार) स्वीकारोक्ति को याद कर रहा हूं कि भाजपा में वर्तमान नेतृत्व ने किस तरह से आपका अपमान किया। आपने कई बार कहा कि भाजपा देश को खतरनाक स्थिति में ले जा रही है।’ सोशल मीडिया पर साझा किए गए इस पत्र में पवन वर्मा ने कहा कि आपने जैसा मुझे बताया, ये आपके निजी विचार थे कि  भाजपा संस्थानों को नष्ट कर रही है और देश के अंदर लोकतांत्रिक एवं सामाजिक ताकतों को पुनर्गठित करने की जरूरत है। इस कार्य के लिए आपने पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी को नियुक्त किया। वर्मा ने बिहार के मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा कि एक से अधिक अवसरों पर आपने भाजपा-आरएसएस गठबंधन को लेकर आशंकाएं हैं। पवन वर्मा ने पत्र में आगे कहा कि अगर ये आपके वास्तविक विचार हैं तो मैं समझ नहीं पाया कि जदयू कैसे बिहार के बाहर भाजपा से गठबंधन कर रहा है, जबकि अकाली दल जैसे भाजपा के पुराने सहयोगियों ने ऐसा करने से इनकार कर दिया। खासकर ऐसे समय में जब भाजपा ने सीएए-एनपीआर-एनआरसी के माध्यम से बड़े पैमाने पर सामाजिक विभाजनकारी एजेंडा चला रखा है। पवन वर्मा ने कहा कि जदयू को अपने गठबंधन का दायरा विस्तारित करने और दिल्ली चुनावों के लिए भाजपा से हाथ मिलाने से वह काफी बेचैन है।

वह चाहते हैं कि नीतीश कुमार विचारधारा को स्पष्ट करें। जदयू ने पवन वर्मा के दावों पर प्रतिक्रिया नहीं दी। सवाल है कि पवन वर्मा की नीतीश कुमार के नाम इस खत-ओ-किताबत के क्या मायने हैं। पत्र की भाषा से तो साफ है कि जदयू के इस पूर्व सांसद का इस पार्टी से मन भर गया है। या फिर नीतीश कुमार की सदारत में अब उनकी वह आस्था नहीं रही, जो बतौर सांसद अबतक कायम थी या फिर पवन कुमार वर्मा वही लिख रहे हैं जो नीतीश कुमार उन्हें लिखने के लिए कह रहे हैं। पवन वर्मा से पहले सीएए के सवाल पर जदयू नेता प्रशांत किशोर भी विरोध कर चुके हैं। इतना ही नहीं प्रशांत किशोर जदयू के उपाध्यक्ष हैं और दिल्ली के चुनाव में वे आम आदमी पार्टी की रणनीति तय कर रहे हैं। उसी दिल्ली में जहां उनकी पार्टी जदयू ने भाजपा के साथ गठबंधन किया है। दिल्ली में भाजपा ने नीतीश कुमार की पार्टी जदयू को दो सीट और रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी को एक सीट देने का फैसला किया है। अब सवाल है कि प्रशांत किशोर कौन सी सियासत कर रहे हैं। दिल्ली में उनकी पार्टी का विपक्षी भाजपा के साथ गठबंधन है और वे खुद सत्ताधारी आम आदमी पार्टी के लिए काम कर रहे हैं। अब कोई नादान ही कह सकता है कि उनके इस गोरखधंधे में नीतीश की सहमति नहीं है। बहरहाल, फिलहाल मुद्दा तो यह है कि क्या पवन कुमार वर्मा भी कुछ ऐसी ही सियासत को अंजाम देने में जुटे हैं। यह बात और है कि उनकी स्थिति प्रशांत किशोर से अलहदा है। वे पूराने कूटनीतिज्ञ रहे हैं। साहित्य में भी उनकी विशेष दिलचस्पी है। वे आए दिन देश-दुनिया में भाषणों के लिए बुलाए जाते रहे हैं। सो, मुमकिन है कि नीतीश के नाम ताजा खत-ओ-किताबत के जरिए वे अपनी उदार और सेकुलर पहचान बनाए रखने की कवायद कर रहे हों, जिससे कि देश-दुनिया में उनकी पूछ बनी रहे, जहां तक अपन नीतीश कुमार की सियासत को जान पाए हैं और पवन वर्मा ने जिस कदर उन्हें भाजपा के मौजूदा नेतृत्व के हाथों मिले अपमान की याद दिलाई है, मामला केवल एक साहित्य अनुरागी कूटनीतिज्ञ की छवि सुधार भर की नहीं है। कहने का अर्थ है कि पवन वर्मा, नीतिश के नाम लिखे अपने खत में वही लिख रहे हैं जो उनसे लिखने के लिए कहा गया है। सवाल है कि इसका मकसद क्या है? तो मकसद खालिस सियासी है। असल में, तमाम सूबों के विधानसभा चुनावों में भाजपा को मिली हार ने उसे बैकफुट पर ला खड़ा किया है। लोकसभा के नतीजों के बाद जहां बिहार में भाजपा के नेता नीतीश कुमार को अब और बर्दाश्त कर पाने की हालत में नहीं थे।

विधानसभाओं के चुनावी नतीजों ने नीतीश कुमार को वे तमाम सुविधाएं दे डाली हैं, जिसकी वे ताक में थे। बिहार में खासतौर से विधानसभा के चुनावों में भाजपा के साथ गठबंधन में नीतीश कुमार हमेशा बड़े साझीदार रहे हैं। पर अब भाजपा का दावा बराबरी का है। और नीतीश कुमार भाजपा को यह दर्जा कतई नहीं देना चाहते। लिहाजा, कभी वे प्रशांत किशोर के जरिए, तो कभी पवन वर्मा के जरिए सीएए पर सवाल उठा कर भाजपा को बैकफुट पर रहने को मजबूर कर रहे हैं। और वे अपनी इस मकसद में काफी हद तक सफल भी हैं क्योंकि अभी चंद रोज पहले ही गृहमंत्री अमित शाह कह चुके हैं कि बिहार में भाजपा नीतीश कुमार की अगुवाई में ही अगला विधानसभा चुनाव लड़ेगी। पर नीतीश कुमार के लिए इतना ही काफी नहीं है। उन्हें चाहत इससे अधिक की है।

- शिवेश गर्ग
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

प्रचंड होती दिव्यता

यों तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दिव्य बौद्धिकी से मुल्क अक्सर रुबरु होता रहा है। जब मुल्क में कोई चुनाव चल रहा हो तब भी और जब चुनाव नहीं हो तब भी।

15/05/2019

ऐतिहासिक मकाम पर किसान आंदोलन

तो दिल्ली की सरहदों पर किसान आंदोलन के 100 दिन पूरे हो गए। नवंबर के अंतिम सप्ताह में जब यह आंदोलन शुरू हुआ तो तब शायद ही किसी को यह उम्मीद थी कि यह इतना लंबा चलेगा। लोकतांत्रिक आंदोलनों का इतिहास तो यही कहता है कि आंदोलन होते हैं, थोड़े दिनों में सत्ता या सरकार के साथ आंदोलनकारियों की बातचीत होती है, दोनों पक्ष एक मुद्दे पर सहमत होते हैं और आंदोलन खत्म हो जाता है।

06/03/2021

सकार की है जीत

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तीसरी बार सत्ता संभालेंगे। यों तो आम आदमी पार्टी को पिछली बार की तुलना में 5 सीटें कम मिली हैं, लेकिन सियासत की नजर से देखा जाए, तो इस बार की जीत पिछली बार की तुलना में बड़ी है।

13/02/2020

सुप्रीम कोर्ट की अवमानना और गांधी

वकील प्रशांत भूषण के दो ट्वीट के बरक्स अदालत की अवमानना मामले में आखिर सुप्रीम कोर्ट क्यों चाहता है कि वे माफी मांग लें? अगर कोर्ट ने पाया है कि उनके ट्वीट से अदालत की अवमानना हुई है तो उन्हें उसकी वाजिब सजा क्यों नहीं देना चाहता?

29/08/2020

आर्थिक मंदी और मनमोहन की नसीहत

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का मुल्क की बिगड़ती अर्थव्यवस्था पर चिंता जताना तो बनता है। आखिर उनसे बेहतर अर्थव्यवस्था और उससे जुड़े तंत्र को कौन समझ सकता है।

04/09/2019

‘टाइम’ के इस कवर पेज के मायने

चुनावी माहौल में आज जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समर्थक तमाम कोशिशों के बाद भी उनकी सरकार की पांच साल की उपलब्धियों को गिना नहीं पाते, तो देसी मुद्दों को छोड़कर विदेश पर चले जाते हैं।

11/05/2019

बजट की हड़प्पन भाषा

टाइम्स आॅफ इंडिया में ताजा बजट को लेकर एक कार्टून छपा है कि जिसका मजमून है कि इस बार के बजट का प्रीफेस हड़प्पन लिपी में लिखा है, यह समझ से परे हैं।

04/02/2020