Dainik Navajyoti Logo
Saturday 6th of June 2020
 
दुनिया

जेम्स पीबल्स, माइकल मेयर और डीडियर क्वेलोज को भौतिकी का नोबेल पुरस्कार

Wednesday, October 09, 2019 15:35 PM
फोटो साभार_ट्विटर@NobelPrize

स्टाकहोम। फिजिक्स के क्षेत्र में साल 2019 के लिए नोबेल पुरस्कार की घोषणा कर दी गई है। इस बार तीन लोगों को भौतिक विज्ञान में योगदान के लिए नोबेल दिया गया है। कनाडा मूल के अमेरिकी ब्रह्मांड वैज्ञानिक जेम्स पीबल्स, स्विस खगोलशास्त्रियों माइकल मेयर और डीडियर क्वेलोज को इस साल के भौतिकी के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है।

रॉयल स्वीडिश अकैडमी ऑफ साइंस के जनरल सेक्रेटरी गोरान के. हैन्सन ने बताया कि जेम्स पीबल्स को ब्रह्माण्ड विज्ञान पर नए सिद्धांत रखने के लिए जबकि मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को सौरमंडल के बाहर एक और ग्रह खोजने के लिए संयुक्त रूप से पुरस्कार दिया गया है। मिशेल और डिडिएर ने 51 पेगासी बी ग्रह की खोज की थी। गैस से बना यह विशाल ग्रह पृथ्वी से 50 वर्ष दूर एक तारे की परिक्रमा कर रहा है। जेम्स पीबल्स कनाडाई मूल के अमेरिकी नागरिक हैं। उन्होंने बिग बैंग, डार्क मैटर और डार्क एनर्जी पर जो काम किया है, उसे आधुनिक ब्रह्मांड विज्ञान का आधार माना जाता है। जूरी ने कहा कि उनकी खोजों ने हमारी धारणाओं को हमेशा के लिए बदल दिया है।

जेम्स पीबल्स प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में अल्बर्ट आइंस्टाइन प्रोफेसर ऑफ साइंस हैं, जबकि मिशेल मेयर यूनिवर्सिटी ऑफ जिनीवा और डिडिएर क्वेलोज यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैंब्रिज में प्रोफेसर हैं। पुरस्कार की घोषणा के बाद जेम्स पीबल्स ने विज्ञान के छात्रों को सीख देते हुए कहा कि जो नए लोग विज्ञान की दुनिया में आ रहे हैं, उनके लिए मेरी सलाह है कि उन्हें विज्ञान से प्रेम करते हुए इसे अपनाना चाहिए।

इस साल भौतिकी के नोबेल पुरस्कार की राशि का आधा हिस्सा जेम्स को मिलेगा, जबकि दूसरे हिस्से को मेयर और डिडिएर के बीच आधा-आधा बांट दिया जाएगा। इस पुरस्कार के तहत एक स्वर्ण पदक, एक डिप्लोमा और करीब 90 लाख स्वीडिश क्रोनर (नौ लाख 14 हजार अमेरिकी डालर) दिया जाएगा। तीनों वैज्ञानिकों को यह सम्मान स्टाकहोम में 10 दिसंबर को प्रदान किया जाएगा। इस पुरस्कार की शुरूआत करने वाले वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबल की दस दिसंबर को पुण्यतिथि होती है जिनका निधन 1896 में हुआ था।


 

यह भी पढ़ें:

कोरोना के कहर के चलते पूरी दुनिया में लॉकडाउन, चीन में फैक्ट्रियों में प्रोडक्शन का काम फिर से शुरू

कोरोना वायरस महामारी के चलते एक तरफ भारत, सुपर पॉवर अमेरिका, इटली समेत दुनियाभर के तमाम देश लॉकडाउन की स्थिति में हैं, वहीं इस महामारी के केंद्र चीन में अब हालात सुधरते दिख रहे हैं। चीन में एक बार फिर से कंपनियों और कारखानों के ताले खुलने लगे हैं और उत्पादन शुरू हो रहा है।

25/03/2020

हाउडी मोदी का जवाब है, भारत में सब अच्छा है, सब चंगा सी: नरेन्द्र मोदी

'हाउडी मोदी' इवेंट में अपना बहुप्रतीक्षित भाषण देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की धरती से पाकिस्तान पर करारा हमला बोला। उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रंप की मौजूदगी में पाकिस्तान को आतंकवाद का गढ़ बताया।

23/09/2019

अमेरिका ने 74 साल पहले हिरोशिमा पर गिराया था परमाणु बम

अमेरिका ने 74 साल पहले 6 अगस्त 1945 को जापान के हिरोशिमा शहर पर परमाणु बम गिराया था, जिसमें करीब दो लाख लोग मारे गए थे।

06/08/2019

उत्तर कोरिया के नेता किम पुतिन से बातचीत करने निजी ट्रेन से रवाना हुए

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ शिखर सम्मेलन करने के लिए निजी ट्रेन से रवाना हो गए।

24/04/2019

दुनियाभर में कोरोना वायरस के कारण गई 1 लाख 90 हजार लोगों की जान

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का प्रकोप दुनिया भर में लगातार बढ़ता ही जा रहा है और अब तक विश्व के अधिकतर देशों में इस महामारी से एक लाख 90 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गयी है तथा 27.07 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके है।

24/04/2020

कोरोना वायरस के प्रति सतर्क करने वाले डॉक्टर की मौत

चीन में जानलेवा कोरोना वायरस का सबसे पहले पता लगाने और इस वायरस से सतर्क करने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग की इस वायरस की चपेट में आने से मौत हो गई।

07/02/2020

UN ने फोनी तूफान को लेकर भारत के बचाव प्रयासों की सराहना की

संयुक्त राष्ट्र ने दशकों बाद भारत में आये भयंकर चक्रवाती तूफान के कहर से निपटने के लिए किये गये सरकारी तथा स्थानीय प्रशासनों के प्रयासों की जमकर सराहना की है।

04/05/2019