Dainik Navajyoti Logo
Monday 19th of April 2021
 
भारत

जम्मू-कश्मीर: विदेशी राजनयिकों ने मेयर समेत विभिन्न वर्गों से की मुलाकात, जमीनी हालात का लिया जायजा

Thursday, February 18, 2021 09:35 AM
विदेशी राजनयिकों ने जानी जमीनी हकीकत।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के जमीनी हालात का आकलन करने के लिए 23 विभिन्न देशों के राजदूतों ने अपने दो-दिवसीय दौरे के दौरान बुधवार को श्रीनगर के मेयर जुनैद जीम मट्टू और जिला विकास परिषद (डीडीसी) के नवनिर्वाचित सदस्यों एवं नगर निकायों के सदस्यों से मुलाकात की। केंद्र की ओर से 5 अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 और 35 (ए) के अधिकांश प्रावधानों को समाप्त किये जाने, जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित किए जाने तथा तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला तथा महबूबा मुफ्ती समेत सभी मुख्यधारा के नेताओं को हिरासत में लिए जाने के बाद विभिन्न देशों के दूतों का यह चौथा दौरा है।

घाटी में कड़ी सुरक्षा
अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद, 23 सदस्यीय विदेशी प्रतिनिधिमंडल को मध्य कश्मीर के बडगाम जिले के एक सरकारी कॉलेज में ले जाया गया, जहां उन्हें पंचायत और डीडीसी सहित स्थानीय निकायों के सुदृढ़ीकरण के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल की यात्रा के मद्देनजर श्रीनगर शहर और कश्मीर घाटी के अन्य हिस्सों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

विकास संबंधी मुद्दों पर चर्चा हुई: नजीर अहमद
बडगाम डीडीसी के अध्यक्ष नजीर अहमद खान ने कहा कि सदस्यों ने प्रतिनिधिमंडल के साथ विकास संबंधी विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। खान ने प्रतिनिधिमंडल के साथ बातचीत के बाद कहा कि हमें निर्वाचित हुए एक महीना हो गया है और यह एक बड़ा सम्मान है कि हमें विदेशी प्रतिनिधिमंडल से मिलने का मौका मिला। हमने प्रतिनिधिमंडल को अपनी विकास योजनाओं पर किए गए काम और प्रगति की जानकारी दी। उन्होंने विदेशी प्रतिनिधिमंडल की प्रतिक्रिया को सकारात्मक बताया और कहा कि हमने केवल विकास पर चर्चा की और कुछ नहीं किया।

इन देशों के प्रतिनिधि शामिल

इस प्रतिनिधिमंडल में आयरलैंड, फ्रांस, मलेशिया, ब्राजील, इटली, फिनलैंड, नीदरलैंड, बेल्जियम, स्पेन, स्वीडन, सेनेगल, क्यूबा, चिली, पुर्तगाल, ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान, घाना, एस्टोनिया, बोलीविया, मलावी, इरिट्रिया, आइवरी कोस्ट और बांग्लादेश के प्रतिनिधि शामिल हैं।

यह भी पढ़ें:

संसद में अपने 'खास दोस्त' से मिले पीएम मोदी, जमकर की मस्ती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बच्चों से मिलने के अपने अलग अंदाज के लिए जाने जाते हैं जिसका नमूना मंगलवार को एक बार फिर देखने को मिला जब वह एक बच्चे से मिले और उन्होंने इस मुलाकात की तस्वीरें इंस्टाग्राम पर डाली।

23/07/2019

राहुल गांधी ने स्कूलों में बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने का किया आग्रह

कांग्रेस नेता एवं सांसद राहुल गांधी ने केन्द्र और राज्य सरकारों से स्कूलों में जरूरी बुनियादी सुविधाएं उलब्ध कराने का आग्रह किया है।

05/12/2019

सदस्यों के निलंबन पर बोले अधीर रंजन, कहा- संसद में कांग्रेस की आवाज दबाना चाहती है सरकार

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि सरकार दिल्ली हिंसा को लेकर सदन में चर्चा के दौरान कांग्रेस की आवाज को कमजोर करना चाहती है इसलिए उसके 7 सदस्यों को पूरे सत्र के लिए निलम्बित किया गया है। सरकार बदले की भावना से काम कर रही है।

05/03/2020

भाजपा-लोजपा सरकार में होगी सात निश्चय योजना की जांच, भ्रष्टाचार के दोषी जाएंगे जेल: चिराग

लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने मंगलवार को दावा किया कि बिहार में इस बार भाजपा और लोजपा की सरकार बनेगी तथा सात निश्चय योजना में हुए भ्रष्टाचार की जांच करवा कर दोषियों को सजा दी जाएगी चाहे वह मुख्यमंत्री ही क्यों न हों।

27/10/2020

सर्वदलीय बैठक में विपक्ष ने किसानों के मुद्दे पर की बात

संसद में बजट पेश किए जाने से पहले सत्र के सुचारु संचालन के लिए सभी दलों से सहयोग लेने के लिए सरकार ने सर्वदलीय बैठक हुई, जिसमें कांग्रेस सहित विपक्ष के कई दलों के नेता शामिल हुए तथा किसानों के मुद्दे को सुलझाने का सरकार से आग्रह किया।

30/01/2021

कोरोना को लेकर PM मोदी ने मुख्यमंत्रियों संग की चर्चा, केरल के सीएम नहीं हुए शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोरोना वायरस महामारी के कारण उत्पन्न स्थिति पर चर्चा के लिए सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बात की। बैठक में उनके साथ गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे। 22 मार्च से लागू लॉकडाउन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज चौथी बार सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बात की, जिसमें महामारी की स्थिति और महामारी रोकने के लिए केंद्र और राज्यों द्वारा उठाए गए कदम पर चर्चा की।

27/04/2020

राष्ट्रपति भवन का भूतपूर्व सैनिकों का पत्र मिलने से इंकार

भूतपूर्व सैनिकों द्वारा सेनाओं के कथित राजनीतिकरण को लेकर तीनों सेनाओं के सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखे गये कथित पत्र को लेकर विवाद पैदा हो गया है।

12/04/2019