Dainik Navajyoti Logo
Thursday 14th of November 2019
 
भारत

जनता से जुड़ी योजनाओं पर राजनीति ठीक नहीं : धनखड़

Saturday, November 09, 2019 12:55 PM
पश्चिम बंगाल को लेकर उन्होंने कहा कि यहां की संस्कृति और इतिहास किसी से छुपा नहीं है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि कोई भी राज्य सरकार अगर भारत सरकार की योजनाओं को अपने राज्य में लागू नहीं करती है तो नुकसान जनता को ही भुगतना पड़ता है। इसमें किसी तरह की राजनीति नही होनी चाहिए। साथ ही शिक्षा के क्षेत्र में भी किसी तरह का हस्तक्षेप ठीक नही है। हर किसी की जिम्मेदारी तय होती है, उसे उसी दायरे में रहकर कार्य करना चाहिए। राज्यपाल धनकड़ ने शुक्रवार को अपने निवास पर दैनिक नवज्योति से अनौपचारिक भेंट के दौरान यह बात कही। खासकर पश्चिम बंगाल को लेकर उन्होंने कहा कि यहां की संस्कृति और इतिहास किसी से छुपा नहीं है। यहां पर शिक्षा जगत के कई ऐसे संस्थान हैं, जो सदियों पुराने हैं। राजनीतिक परिपेक्ष्य सहित कई मुद्दों पर राज्यपाल ने नवज्योति के सवालों के बेबाक जवाब दिए।

नवज्योति- आप राजस्थान से हैं, ऐसे में यहां आकर कैसा महसूस कर रहे हैं
राज्यपाल- सभी भारत भूमि एक है। ऐसे में पश्चिम बंगाल में भी वैसा ही है, जैसा राजस्थान में है। यहां के लोगों में बहुत प्यार की भावना है, यह सब यहां की संस्कृति पर निर्भर है।
नवज्योति- पश्चिम बंगाल के राजनीतिक परिपेक्ष्य में आपका क्या कहना है
राज्यपाल- मेरी सोच केवल यही है कि जन सेवा की जाए और इसी सोच और भाव के साथ मैं आगे बढ़ रहा हूं । मुझे केवल जनसेवा के लिए ही भेजा गया है।
नवज्योति- केन्द्र की योजनाओं को यहां की मुख्यमंत्री लागू नहीं कर रही हैं, आपका क्या कहना है
राज्यपाल- सभी तरह की योजनाएं चाहे राज्य की हों या फिर केन्द्र की, सब जनता को फायदा देने के लिए बनती हैं। हां, यह सही बात है कि केन्द्र की कई योजनाओं को राज्य सरकार ने यहां लागू नहीं किया है। जैसे आयुष्मान भारत योजना यह ऐसी योजना है, जिससे लाखों लागू हो फायदा मिलता। इस परिपाटी से जनता को ही नुकसान हो रहा है। मेरा मानना है कि यह उचित नहीं है।
नवज्योति- शिक्षा के क्षेत्र में यहां नामची संस्थान हैं, शिक्षा का स्तर कैसा है
राज्यपाल- यहां पर बहुत से नामची शिक्षण संस्थान हैं, चाहे माध्यमिक शिक्षा हो या फिर उच्च शिक्षा, लेकिन जो होना चाहिए, ऐसा नहीं है। इसमें सुधार की जरूरत है। यह सबकी जिम्मेदारी है। इसमें यह भी है कि सब अपनी जिम्मेदारी निभाएं। कुलपति अपना  काम करें और राज्य सरकार अपना काम करे, कुलाधिपति अपना। इसमें किसी तरह का हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए, लेकिन गत दिनों ऐसी घटना सामने आई जो ठीक नहीं है।
नवज्योति- अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव कोलकाता में हो रहा है, लेकिन राज्य सरकार ने दूरी बना रखी है, ऐसा क्यों
राज्यपाल- मेरा मानना है कि राज्य में जो भी ऐसे कार्यक्रम होते हैं, उनमें वहां की सरकारों को पूरी भागीदारी निभानी चाहिए।  इसका फायदा देश के हजारों छात्रों को ही मिलता है। वैसे भी ऐसा महोत्सव कोलकाता के लिए महत्वपूर्ण है। मुझे पता चला है कि यहां की मुख्यमंत्री को भी इसका निमंत्रण दिया गया था, लेकिन वे नहीं आईं। मुझे इसकी जानकारी नहीं है। उन्होंने कहावत का जिक्र करते हुए कि जब महिला को पता है कि वो प्रेगनेंट हैं और बच्चा जन्म लेने का समय है, लेकिन वो  अस्पताल जाने की बजाय अपनी सास को छोड़कर गांव में जाकर बैठ जाती है। अब आप ही सोचिए। मुझे इससे ज्यादा कुछ नहीं कहना है।
 नवज्योति- विज्ञान महोत्सव में आप भी शामिल हुए, लेकिन जो रेस्पोंस आना था, वो नहीं दिखा
राज्यपाल- यह केवल पश्चिम बंगाल के लिए ही नहीं, बल्कि देशभर के लिए आयोजन महत्वपूर्ण है। इसमें सभी लोकसभा और राज्यसभा सांसदों को अपने अपने क्षेत्र से पांच-पांच प्रतिनिधियों को भेजना था, लेकिन शायद ज्यादातर सांसदों ने नहीं भेजे, नहीं तो डेलीगेटस की  संख्या वैसे ही काफी हो जाती।
 नवज्योति- वर्तमान में महाराष्ट्र में जो चल रहा है, उसके बारे में आप क्या सोचते हैं
राज्यपाल- सवाल को टालते हुए उन्होंने कहा कि मैं केवल पश्चिम बंगाल में रहता हूं तो दूसरे राज्य के बारे में बात नहीं करता और जब पश्चिम बंगाल से बाहर रहता हूं, तो पश्चिम बंगाल की बात नहीं करता।
नवज्योति- रजनीकांत राजनीति में आ सकते हैं। आप क्या सोचते हैं
राज्यपाल- इस बारे में वैसे भी मैं कुछ नहीं कहूंगा, मै राजनीतिक बात नहीं करता, लेकिन व्यक्तिगत तौर पर रजनीकांत अच्छा अभिनेता होने के साथ ही जनता फ्रेंडली भी हैं। मैं उसको पसंद करता हूं। उनकी लास्ट फिल्म देखी थी, जिसका मुझे नाम याद नहीं है। राजनीति में आने पर क्या होता है, इसके बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता।