Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 2nd of June 2020
 
ओपिनियन

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

Monday, September 23, 2019 10:20 AM
राजकाज।

डैमेज कंट्रोल
पॉलिटिकल पार्टियां अपने-अपने हिसाब से डैमेज कंट्रोल के रास्ते निकालती हैं। इस मामले में भगवा वाले अमित शाह का तो कोई सानी नहीं, लेकिन सूबे में जो रास्ता हाथ वाले दल ने निकाला है, उससे राज करने वाले भी चकित हैं। उनकी समझ में नहीं आ रहा कि आखिर इस बार भी हाथी वाले भाइयों ने हाथी की सवारी छोड़ कर पंजे को क्यों पकड़ लिया। अब राज करने वालों को कौन समझाए कि राजनीति में सबकुछ जायज होता है। मिनेश वंशज किरोड़ी भाईसाहब ने भी सवा पांच साल पहले अपना अच्छा करने की ठानी थी तो अब मायावती के चेले उनसे भी एक कदम आगे निकल गए। आखिर डैमेज कंट्रोल के लिए हाथ से हाथ जो मिला लिया।

भाईसाहबों की बाछें खिली
भगवा पार्टी की कमान पूनिया जी को सौंपे जाने से भाई साहबों के चेहरे खिले हुए हैं। आचार और विचार में परिवर्तन करने के साथ अब पूरी तरह सामाजिक हो गए हैं। आखिर फिर से सत्ता की दौड़ को जीतना है। कई भाईसाहबों ने तो अपने क्षेत्र और चहेतों से मेल- मिलाप भी बढ़ा लिया है। राष्ट्रीय स्तर पर नेता बनने की रेस में शामिल और विश्वव्यापी मंदी पर दो दिन पहले राजधानी में बोलने वाले भाई साहब की बाछें खिलने का राज भी यही है।   
 
अब तो राम को बख्शो
भगवा पार्टी से राम भी काफी परेशानी में हो गए होंगे। सत्ताइस साल हो गए, मन में आए जब ही राम नाम की रट लगाने लग जाती है। लगता है कि भाईसाहबों का राम बिना पेट नहीं भरता। उनको कौन कहे कि अब तो राम को बख्शो। अब देखो ना नमोजी और अमित जी ने फिर राम की रट लगानी शुरू कर दी। सोमनाथ मंदिर में जाते ही राम का भूत सवार हो गया। पिछले छह माह से आर्थिक संकट के दौर में गुजर रहे हमारे सूबे के भगवा वाले भैयाओं की समझ में नहीं आ रहा है कि राम की आरती सुबह उतारी जाए अथवा शाम को।

अब खयाल आया कि
कहावत है कि सांप निकलने के बाद लकीर पीटने से कोई फायदा नहीं है, लेकिन हमारे पूर्व विधायकों को इस पर कतई विश्वास नहीं है। पांच साल तक सत्ता का सुख भोगते समय तो सूबे की प्रगति के बारे में सोचने का वक्त नहीं मिला। अब प्रगति के बारे में गहन चिन्तन मंथन हो रहा है। उनकी रातों की नींद और दिन का चैन गायब है। एक मंच पर आकर जोरदार चिन्ता जता रहे हैं। चिन्तन के लिए अधिवेशन तक बुला रहे हैं। उसका भी बढ़-चढ़कर ढिंढ़ोरा पीटा जा रहा है। राज का काज करने वाले भी कम नहीं हैं, वो भी चटकारे लेने से नहीं चूक रहे। बोल रहे हैं कि  रही-सही कसर और पूरी करने के लिए कुछ न कुछ तो करना ही पड़ता है।

एक जुमला यह भी
हाड़ौती में गत दिनों बरसे पानी को लेकर पूरे देश के बुद्धिजीवियों की नींद उड़ी हुई है। सत्तर साल से चिंतन-मनन में डूबे नेतागणों के चेहरों पर भी चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही हैं। कानूनविद् भी सोच में डूबे हैं। मीडिया वालों की भी रातों की नींद और दिन का चैन ही गायब हो गया है। राज का काज करने वालों की जुबान सूख गई है। उनके पास किसी भी सवाल का जवाब नहीं है। हर बार डिजास्टर मैनेजमेंट को सुदृढ़ करने का ढ़िंढोरा फिर पीटा जा रहा है। कोई सा भी बड़ा हादसा हो जाए, ज्योतिष के ज्ञाताओं के बीच बहस छिड़े बिना नहीं रहती। इस घटना पर ज्योतिषी बढ़-चढ़कर बोल रहे हैं। उनका दावा है कि पिछले दिनों बदले मंगल के रास्ते ने हाड़ौती में अपना असर दिखा दिया।  हमने पहले ही कहा था कि मंगल का रास्ता बदलने से मेघों की गर्जन बढ़ने के साथ बादल भी अपना असर दिखाएंगे।
(यह लेखक के अपने विचार हैं)

यह भी पढ़ें:

इंटरनेट की दुनिया में खोता बच्चों का बचपन

खेलने-कूदने की उम्र के साढ़े छह करोड़ बच्चे इंटरनेट की दुनिया में डूबे रहते हैं। इसमें कोई दोराय नहीं कि इंटरनेट ज्ञान का भण्डार है पर यह भी नहीं भूलना चाहिए कि ज्ञान का यह भण्डार सतही अधिक है।

27/12/2019

भारत की कूटनीतिक उपलब्धि

भारत सरकार के अथक प्रयासें के बाद अंतर्राष्ट्रीय दबाव में जर्जर अर्थव्यवस्था वाले पाकिस्तान ने स्वीकारा है कि उसकी धरती पर मदरसों में घृणा का पाठ पढ़ाया जाता रहा है। स

06/05/2019

बिना ‘बुलाक’ का बुलाकी!

आज बिना ‘बुलाक’ धारी बुलाकी की बात करते हैं। जो बीकानेर का वासी है। पिछले कुछ दिनों से राजधानी जयपुर की सड़कों पर उसके सड़कों के किनारे लगे बडे-बड़े पोस्टरों में फोटो साया हुए थे।

15/04/2019

‘आप’ जीती, कांग्रेसी गाए बधाई

दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी. चिदम्बरम को आईना दिखाया है। उन्होंने उन कांग्रेसियों की बोलती बंद कर दी जो दिल्ली विधानसभा चुनावों में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी (आप) को मिली विजय पर ‘बधाई’ गा रहे थे।

24/02/2020

न्यायालयों में भ्रष्टाचार!

बावजूद इसके की समय-समय पर अदालतों के कथित भ्रष्टाचार के उदाहरण सामने आते रहे हैं, कुल मिलाकर देश की जनता को भरोसा है। इसीलिए बार-बार अदालतों में दूध का दूध और पानी का पानी हो जाने की बातें की जाती हैं।

06/09/2019

सबके हाथ में है संविधान

एक समय था जब हम इंकलाब के नारे लगाकर कहते थे कि स्वाधीनता हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है और हम इसे लेकर रहेंगे।

30/01/2020

जानिए, राजकाज में क्या है खास?

कई महीनों बाद भगवा वालों को अक्ल आई। एक-दूसरों की अहमियत समझ में आ गई। दिल्ली में बैठे नेता भी अब बगलें झांक रहे हैं। मंद-मंद मुस्करा रहे हाथ वालें भाइयों के भी चेहरों की हवाइयां उड़ती नजर आ रही हैं।

18/11/2019