Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 26th of February 2020
 
ओपिनियन

वायुसेना को चाहिए दो सौ लड़ाकू विमान

Monday, September 23, 2019 10:05 AM
फाइल फोटो।

एक ओर जहां स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान ‘तेजस’ और हवा से हवा में मार करने वाली स्वदेश निर्मित ‘अस्त्र’ मिसाइल तथा फ्रांस से मिलने वाले अत्याधुनिक ‘राफेल’ विमान वायुसेना के बेड़े में शामिल होकर भारतीय वायुसेना को और मजबूत तथा अत्याधुनिक बनाने की दिशा में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाले हैं, वहीं पिछले दिनों वायुसेना प्रमुख एयर चीफ  मार्शल बी एस धनोआ ने जिस प्रकार वायुसेना के बेड़े में शामिल 44 साल पुराने मिग लड़ाकू विमानों को लेकर चिंता जाहिर की। उससे वायुसेना में लड़ाकू विमानों की कमी और वायुसेना की जरूरतों का स्पष्ट अहसास हो जाता है। दरअसल वायुसेना को फिलहाल करीब 200 अत्याधुनिक विमानों की आवश्यकता है और राफेल तथा स्वदेशी विमानों के वायुसेना के बेड़े में शामिल होने के बाद भी इस कमी को पूरा करना संभव नहीं दिखता। हालांकि वायुसेना के आधुनिकीकरण और सशक्तिकरण की दिशा में पिछले कुछ वर्षों में सशक्त कदम उठाए गए हैं लेकिन अभी इस दिशा में बहुत कुछ किया जाना बाकी है।

पिछले दिनों एयर चीफ मार्शल धनोआ ने कहा था कि हमारी वायुसेना जितने पुराने मिग विमानों को उड़ा रही है, उतनी पुरानी तो कोई कार भी नहीं चलाता। उक्त कथन वायुसेना प्रमुख ने दिल्ली में ‘भारतीय वायुसेना का स्वदेशीकरण और आधुनिकीकरण योजना’ विषय पर आयोजित एक सेमिनार में व्यक्त किए थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की उपस्थिति में उनका कहना था कि भारतीय वायुसेना की स्थिति बिना लड़ाकू विमानों के बिल्कुल वैसी ही है, जैसे बिना फोर्स की हवा। धनोआ का दो टूक लहजे में यही कहना था कि दुनिया को अपनी हवाई ताकत दिखाने के लिए हमें अभी और अधिक आधुनिक लड़ाकू विमानों की आवश्यकता है। उनके मुताबिक मिग विमानों का निर्माता देश रूस भी अब मिग-21 विमानों का उपयोग नहीं कर रहा है लेकिन भारत इन विमानों को अभी तक उड़ा रहा है क्योंकि हमारे यहां इनके कलपुर्जे बदलने और मरम्मत की सुविधा है। हालांकि उनकी इस टिप्पणी को अगर बहुत पुरानी कारों का इस्तेमाल न किए जाने से जोड़कर देखें तो उसका सीधा सा अर्थ है कि जब कलपुर्जे बदलकर मरम्मत के सहारे इतनी पुरानी कार को चलाना ही किसी भी दृष्टि से किफायती या उचित नहीं माना जाता तो मिग-21 विमानों को कैसे माना जा सकता है?

हालांकि मिग अपने समय के उच्च कोटि के लड़ाकू विमान रहे हैं लेकिन अब ये विमान इतने पुराने हो चुके हैं कि सामान्य उड़ान के दौरान ही क्रैश हो जाते हैं। पिछले कुछ वर्षों में ही मिग विमानों की इतनी दुर्घटनाएं हो चुकी हैं कि अब इन्हें हवा में उड़ने वाला ताबूत भी कहा जाता है। बहरहाल, अच्छी खबर यह है कि फ्रांस से अत्याधुनिक तकनीक से निर्मित राफेल विमानों की आपूर्ति शुरू होते ही वायुसेना के बेड़े से मिग विमान हटने शुरू हो जाएंगे। लेकिन फिलहाल भारत को अगले तीन वर्षों के भीतर कुल 36 राफेल विमान ही मिलने हैं जबकि भारतीय वायुसेना को इस समय अपने बेड़े में करीब 200 अत्याधुनिक लड़ाकू विमानों की आवश्यकता है। चरणबद्ध तरीके से मिग विमानों की विदाई होते जाने के बाद वायुसेना की जरूरतों की पूर्ति करने के लिए सुखोई विमानों के अलावा तेजस विमान भी मिग का स्थान लेंगे किन्तु इनके वायुसेना के बेड़े में शामिल होने के बाद भी वायुसेना को बड़े पैमाने पर आधुनिक लड़ाकू विमानों की जरूरत रहेगी, इसलिए संभावना है कि आने वाले समय से आधुनिक विमानों की खरीद के कुछ और बड़े सौदे हो सकते हैं।

इसके अलावा जिस प्रकार रक्षामंत्री द्वारा विदेशी निर्माताओं पर निर्भरता कम करने की बातें कही जा रही हैं, उससे संभव है कि तेजस जैसे ही कुुछ और स्वदेशी लड़ाकू विमानों के निर्माण की दिशा में तेजी देखने को मिले। ऐसे में आधुनिक विदेशी और स्वदेशी लड़ाकू विमानों से लैस भारतीय वायुसेना की शक्ति में बढ़ोतरी होगी और कहना गलत नहीं होगा कि भारत की सैन्य शक्ति ऐसे में बेमिसाल होगी। दरअसल भारत द्वारा जो लड़ाकू विमान बनाए जा रहे हैं, वे भी अनेक विशेषताओं से लैस अपने आप में बेहतरीन हैं।
योगेश कुमार गोयल (ये लेखक के अपने विचार हैं)

यह भी पढ़ें:

निरंतर बढ़ती भाजपा की प्रासंगिकता

प्राय: इस देश के लोगों को वर्षों से राजनीतिक भ्रष्टाचार, दुराचार तथा अत्याचार झेलते रहने के कारण सब कुछ भूलने की आदत रही है। इस दुखांत त्रासदी में लोगों ने इतने वर्षों से भ्रष्टाचार के दलदल में फंसी राष्ट्रीय राजनीति के कर्ताधर्ताओं से उनकी राजनीतिक गंदगी का हिसाब पूछना ही बंद कर दिया था।

12/04/2019

फारूक की गिरफ्तारी के मायने

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और लोकसभा सांसद फारूक अब्दुल्ला को जन सुरक्षा कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। ऐसे वक्त में जब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद लगाई गई पाबंदियों से जुड़े सवालों पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रही थी, नेशनल कानफ्रेंस के सुप्रीमो फारूक अब्दुल्ला को हिरासत में लिए जाने की खबर आई।

30/09/2019

बढ़ रहा है धरती पर संकट

अब यह जगजाहिर है और समूची दुनिया में किए गए शोधों-अध्ययनों से साबित भी हो गया है कि प्राकृतिक संसाधनों के बेतहाशा उपयोग और भौतिक सुख-संसाधनों की चाहत में बढ़ोतरी

22/04/2019

फिर भी राजस्थान बदल रहा है!

राजस्थान में विकास और परिवर्तन का कुछ ऐसा उत्साह दिखाई देता है कि चारों तरफ तरह-तरह के अधिकार मांगने वाले समूह गांव-गांव तक सक्रिय हैं। हम राजस्थान को भी भारत का एक विकासशील प्रदेश ही कह सकते हैं। यहां पिछले 70 साल में सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनैतिक क्षेत्र का महत्वपूर्ण विकास भी हुआ है, लेकिन हम अभी ये नहीं कह सकते कि हमारे यहां सब कुछ ठीक है और हमारे सभी सपने पूरे हो गए हैं।

17/10/2019

अंतिम चरण का चुनाव प्रचार

आजादी के बाद लोकसभा के जितने आम चुनाव हुए उनमें इतनी कटुता कभी नहीं देखी गई जितनी इस बार देखी जा रही है। इस बार तो सत्ता पक्ष और विपक्ष एक दूसरे को जमकर गालियां दे रहे हैं।

17/05/2019

रणनीतिक हिन्दुत्व की राजनीति सफल

अरविन्द केजरीवाल में वैचारिक गहराई का हमेशा अभाव रहा है, लेकिन राजनीतिक रणनीति एवं अभिनय के मामले में उनका लोहा मानना होगा।

19/02/2020

चक्रव्यूह रचने में माहिर अमित शाह

तमाम अंतर्विरोधों और विरोधाभासों के बावजूद भाजपा लगातार दूसरी बार अपने ही बूते पर सरकार बनाने में सफल हुई है, इसके पीछे नरेन्द्र मोदी की करिश्माई शख्सियत की तो सबसे बड़ी भूमिका रही ही लेकिन साथ ही इसमें भाजपा

29/05/2019