Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 18th of February 2020
 
ओपिनियन

राज-काज में क्या है खास

Monday, September 09, 2019 09:35 AM
सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर इन दिनों गलतफहमी को लेकर काफी खुसरफुसर हो रही है।

इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकाने पर शनि को छोटे पायलट साहब के बर्थ डे पर उमड़ी भीड़ को लेकर कई तरह के मायने निकाले जा रहे हैं। छोटे पायलट साहब भी भीड़ को देख इतने उत्साही हो गए कि बिना चौघड़िया देखे अपनी जुबान से कई तरह के तरकश चलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। हाथ वाले भाई लोगों के एक खेमे में चर्चा है कि जाड़ों की रातों में शहरों की सरकार के लिए होने वाली जंग में दावेदारों ने टिकट कटने के डर से नेताओं ने भी भीड़ जुटाने में अपना पूरा दम लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। बेचारों के पास दस हजार के टारगेट को पूरा करने के लिए पसीने बहाने के सिवाय कोई चारा भी तो नहीं था।

निकल गई गलतफहमी
सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने भगवा वालों के ठिकाने पर इन दिनों गलतफहमी को लेकर काफी खुसरफुसर हो रही है। हो, भी क्यों ना, जिन भाईसाहबों को यह गलतफहमी थी कि पार्टी में बिना अध्यक्ष के कुछ भी नहीं हो सकता, वो सब निकल गई। राज का काज करने वाले भी बतियाते हैं कि जब सोलह महीने पहले आदर्शनगर वाले अशोकजी भाईसाहब ने सदर की कुर्सी को त्यागा था, तभी से संगठन वाले महामंत्री ने पार्टी में अपना दम दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। झुंझुनूं वाले मदनजी तो नाम मात्र के अध्यक्ष थे, सारे पावर तो चन्द्रशेखर जी के हाथों में थे।

भारती भवन वालों की चिंता
आजकल भारती भवन वालों को एक चिन्ता जोरदार सता रही है। उनको चिन्ता करना भी लाजमी है, चूंकि नमो मंत्र जपने के बाद भी यूथ उनके कब्जे से बाहर है। अलसुबह लगने वाली शाखाओं में प्रोढ़ों की लाइन में एकाध युवा ही नजर आता है, वो भी बेमन से। अब बैठकों में चिन्तन मंथन किया जा रहा है कि यूथ को किस तरह जोड़ा जाए। इसके लिए दूसरी लाइन के प्रचारकों को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

बिगड़ा योग
आजकल राज के दो नवरत्नों का गृहयोग बिगड़ा हुआ है। दोनों ही सरकार चला रहे हैं। वृष राशि वाले भाईसाहब का स्वामी शुक्र रूठा हुआ है, जो अपनी करामात दिखा रहा है। नित नए आरोपों का सामना करा रहा हैं। धनु राशि वाले भाईसाहब भी घरेलू संकट से जूझ रहे हैं। उनका गुरु बृहस्पति भी कोई कसर नहीं छोड़ रहा। तमाम टोने टोटकों के बाद भी काबू में नहीं आया और पिछली एक तारीख को ऐसा झटका दिया, जिसकी कल्पना भी नहीं थी। अब दोनों रत्नों को ऐसे पंडित की तलाश है, जो पूजा पाठ कर गुरुओं को राजी कर सके।

बंगला नंबर 13 और वास्तु दोष
सिविल लाइन्स में बने एक बंगले का वास्तु दोष राज का काज करने वालों में काफी चर्चित है। तेरह नंबर के इस बंगले में जो भी रहा, चैन से नहीं सोया। किसी जमाने में यहां रामसिंहजी विश्नोई रहा करते थे, जिनकी मूर्ति आज भी कारीगर आनंद शर्मा के घर रखी है। इसके बाद भरतपुर वाले डॉक्टर साहब रहने लगे, तो डॉक्टरों का महकमा बीच में ही छिन गया था, और अब मैडम जब से इसमें आई हैं, रोज कोई न कोई नया संकट पैदा हो रहा है। अब देखो ना, और नहीं तो न्याय के मंदिर वालों ने खाली कराने का फरमान जारी कर दिया।

एक जुमला यह भी
इन दिनों हाथ वाली पार्टी में चल रहे अन्तरकलह को लेकर भगवा वाले भाईसाहबों के भी चेहरे खिले हुए हैं। सरदार पटेल मार्ग स्थित बंगला नंबर 51 में बने ठिकाने में दिनभर कमल वाले भाई लोग अपनी नहीं बल्कि हाथ वाली पार्टी के भीतर की इधर-उधर बातें में व्यस्त रहते हैं। अब उन्हें कौन समझाए कि जब अपने घर में बेटा ही नहीं है, तो पड़ोसी के बेटी होने पर पताशे बांटने से कोई फायदा होने वाला नहीं है।

(यह लेखक के अपने विचार हैं)

 

यह भी पढ़ें:

रघुराम राजन की विदाई पर बेंगलुरु के रेस्तरां ने पेश किए दो पकवान

भारतीय रिजर्व बैंक के निवर्तमान गर्वनर रघुराम राजन की शान में बेंगलूर की एक रेस्त्रां कंपनी ने अपने मेन्यू में दो विशेष पकवान पेश किए हैं. बराबर चर्चाओं में रहे राजन ने केंद्रीय बैंक के काम-धाम पर अपना एक खास असर डाला है.

25/08/2016

क्या ग्राहक के अधिकार सुरक्षित हैं?

अब जरा इस बात को परखिए कि ज्यादातर जो जिला अदालतें हैं उनकी क्या हालत है। फर्नीचर के नाम पर न्यायाधीशों के बैठने तक के लिए ठीकठाक कुर्सी मेज नहीं हैं तो फिर जो शिकायत लेकर आया है तो उसके लिए टूटी फूटी बेंच और कई जगह तो वो भी नहीं, खड़े रहकर अपना मुकदमा लड़िए, जैसी हालत के लिए क्या प्रशासन जिम्मेदार नहीं है।

12/08/2019

फारूक की गिरफ्तारी के मायने

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और लोकसभा सांसद फारूक अब्दुल्ला को जन सुरक्षा कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। ऐसे वक्त में जब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद लगाई गई पाबंदियों से जुड़े सवालों पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रही थी, नेशनल कानफ्रेंस के सुप्रीमो फारूक अब्दुल्ला को हिरासत में लिए जाने की खबर आई।

30/09/2019

जानें राज काज में क्या है खास

असर तो असर ही होता है और जब अपने खुद ही विरोध करे, तो उसके असर और भी ज्यादा बढ़ जाता है। अब देखो ना पिछले दिनों इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकाने में पर इसका असर कुछ ज्यादा ही दिखाई दिया।

11/11/2019

विजय उदबोधन के विजयी स्वर

सरसंघ चालक मोहन भागवतजी का उद्बोधन संघ के दृष्टिकोण से अवगत कराने का एक सशक्त माध्यम बना है।

14/10/2019

'कांटों की राह' पर कैसे करें ओलंपिक स्वर्ण की उम्मीद...

रियो ओलंपिक खेलों की खुमारी उतरने में अभी दो या चार दिन का और वक्त लगेगा...जब तक कि दो पदकवीर लड़कियों के गले में डलीं मालाओं के फूल सूख नहीं जाते, इसके बाद अगले ओलंपिक तक आप उनके सिर्फ नाम याद रखेंगे कि हैदराबाद की पीवी सिंधु ने बैडमिंटन में रजत और हरियाणा के रोहतक जिले के एक गांव की लड़की साक्षी मलिक ने महिला कुश्ती में कांसे का पदक अपने गले में पहना था...इससे ज्यादा आपको कुछ याद नहीं रहने वाला है...

25/08/2016

अंतर्विरोधी अर्थ नीतियां बन रही ब्रिक्स की बाधा

ब्राजील की राजधानी ब्रासीलिया में संपन्न ब्रिक्स के 11वें सम्मेलन का मुख्य विषय था- ‘ब्रिक्स: एक उन्नत भविष्य के लिए आर्थिक प्रगति।’ पांचों सदस्यों देशों ने अपनी बहुमुखी आवश्यकताओं और नवोन्मेशी प्रौद्योगिकियों को ब्रिक्स देशों के बीच संचालित करने के विषय सम्मेलन में रखे।

21/11/2019