Dainik Navajyoti Logo
Saturday 29th of February 2020
 
ओपिनियन

विलय समस्या का समाधान नहीं है

Friday, September 06, 2019 11:30 AM
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण( फाइल फोटो)

बैंकों का बढ़ता एनपीए गंभीर चिंता का विषय है जो कि बैंकों को समामेलित करने के लिए प्रेरित कर रहा है। एनपीए के नुकसान की भरपाई के लिए सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों में पूंजी डालकर थक चुकी है। इसके बावजूद भी इस वित्तीय वर्ष में सरकार 70 हजार करोड़ की पूंजी सार्वजनिक बैंकों में डाल रही है। अब वह कमजोर बैंक को दूसरी मजबूत बैंकों में मर्जर के शॉर्टकट का मार्ग अपना रही है। यह बात सही है कि देश में बैंकों की संख्या कम होनी चाहिए। देश में सिर्फ 3 से 4 सरकारी बैंक, 3 से 4 प्राइवेट सेक्टर बैंक और एक या दो विदेशी बैंक होने चाहिए। अधिक बैंक होने से बैंकों में आपसी प्रतिस्पर्धा का फायदा चूककर्ता ऋणी आसानी से उठा लेते है। वे एक बैंक के अपने अनियमित खातों को नियमित करने के लिए दूसरे बैंक से अपनी नई फर्जी कंपनी बनाकर ऋण लेते हैं और फिर दूसरे बैंक के ऋण खातों को ठीक करने के लिए तीसरे बैंक से एक और नई फर्जी कंपनी बनाकर ऋण लेते हैं। इस प्रकार ऐसे चूककर्ता ऋणी कई सालों तक इस प्रकार की फर्जी कंपनियां खड़ी करके कई बैंकों को चूना लगाते रहते है और जब किसी कारण से इनकी और ऋण लेने की चेन टूट जाती है तो इनका भांडा फूट जाता है। इतने अधिक पब्लिक सेक्टर बैंकों की स्थापना के लिए लाइसेंस जारी करने के स्थान पर कुछ ही बैंकों की स्थापना की जानी चाहिए थी जिससे उन्हीं कम बैंकों का प्रबंधन आसानी से किया जा सकता था एवं उन पर निगरानी और नियंत्रण भी आसानी से रखा जा सकता था। बैंकों में आपसी प्रतिस्पर्धा होने से बैंकों द्वारा ग्राहक की आर्थिक हैसियत और क्रेडिट रेटिंग का उचित विश्लेषण किए बिना ही अनसिक्योर्ड लोन बांट दिए जाते हैं। बैंकों में आपसी प्रतिस्पर्धा के कारण बैंक ऋण देने में सही व्यक्ति और सही परियोजना का चयन नहीं कर पाता है और जल्दबाजी में ऐसे ऋण स्वीकृत व वितरण कर देते है जो कि एक या दो वर्षों में ही एनपीए में परिवर्तित हो जाते हैं।

सरकार के अनुसार बैंकों को घाटे से उबारने एवं फंसे कर्ज की समस्या को दूर करने के ठोस उपायों में सरकार चाहती है किÞ बैंकों के विलय की प्रक्रिया को तेज गति से आगे बढ़ाया जाए। सरकार के मतानुसार बैंकों के अच्छे नियमन और नियंत्रण के लिए बैंकों का विलय जरूरी है। वित्त मंत्रालय के अनुसार बैंकों के विलय से बैंकों की दक्षता और संचालन में सुधार होगा। यह बात सही है कि उदारीकरण के दौर से ही सरकारी बैंकों के विलय कि प्रक्रिया चल रही है। मोदी सरकार के पहले न्यू बैंक ऑफ इंडिया का पंजाब नेशनल बैंक में विलय हो चुका था। निजी बैंक रत्नाकर बैंक और श्री कृष्णा बैंक का केनरा बैंक में विलय हुआ था। आईएनजी वैश्य बैंक का कोटक महिंद्रा बैंक में विलय हुआ था। हमारे देश में बैंकों के विलय का पुराना रिकॉर्ड ठीक नहीं रहा हैं। न्यू बैंक ऑफ इंडिया और पंजाब नेशनल बैंक का विलय, ग्लोबल ट्रस्ट बैंक और ओरियंटल बैंक ऑफ  कॉमर्स का विलय, भारतीय स्टेट बैंक के सहयोगी बैंकों का विलय हमारे सामने उदाहरण है। भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा आईडीबीआई बैंक का अधिग्रहण किया गया है।

सरकार ने 1 अप्रेल, 2019 को विजया बैंक और देना बैंक का बैंक आॅफ  बड़ौदा में विलय कर दिया है। इन बैंकों में फंसे हुए कर्ज की समस्या अन्य बैंकों के समान और अधिक बढ़ती गई। अब सरकार मेगा कंसॉलिडेशन प्लान के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के 10 बैंकों का विलय करके चार बड़े बैंक बना रही है। इस मेगा प्लान के तहत सरकार पंजाब नेशनल बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ  कॉमर्स तथा यूनाइटेड बैंक ऑफ  इंडिया का आपस में विलय, केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक का विलय, यूनियन बैंक ऑफ  इंडिया में आंध्रा बैंक तथा कॉर्पोरेशन बैंक का विलय और इंडियन बैंक में इलाहाबाद बैंक का विलय कर रही है। इस बड़े मर्जर प्लान के क्रियान्वयन के पश्चात देश में 27 की जगह सिर्फ 12 सार्वजनिक बैंक रह जाएंगे।

सरकार का कहना है कि बैंकों के विलय के पश्चात सरकारी बैंक मजबूत होंगे और वे अधिक राशि के ऋण देने के लिए सक्षम हो जाएंगे, जिससे सुस्त होती अर्थव्यवस्था को रफ्तार मिलेगी और 5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल हो जाएगा। विलय से बैंकों के जोखिम और अधिक बढ़ जाते हैं। 5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य तो हासिल हो जाएगा लेकिन भविष्य में बैंकों के एनपीए इतने बढ़ जाएंगे कि बैंकों को इस एनपीए नामक बीमारी से निजात पाना मुश्किल हो जाएगा। बैंकों के विलय से बैंक अधिक ऋण देने के लिए सक्षम हो जाएंगे। अधिक ऋण के वितरण से बैंकों की बैलेंस शीट बिना एनपीए कम किए सुधर जाएगी क्योंकि कुल ऋण राशि बढ़ने से सकल एनपीए का प्रतिशत कुल ऋण राशि की तुलना में कम हो जाएगा। सरकार कब तक इन सार्वजनिक बैंकों में पूंजी डालती रहेगी?

राष्ट्रीयकृत बैंकों के विलय से कॉर्पोरेट घरानों और पूंजीपतियों की लूट का रास्ता और आसान होता जा रहा हैं। वित्तीय संस्थाओं, बैंकों का विलय तो बाजार आधारित अर्थव्यवस्था के अनुसार ही होना चाहिए न की सरकार के हस्तक्षेप से। भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने बैंकों के गठजोड़ और विलीनीकरण करने से पहले मर्जर होने वाली बैंकों की बैलेंसशीट को स्वच्छ (एनपीए मुक्त) करने की सलाह दी थी। बैंकों का विलय एक पेचीदा मुद्दा है। बैंकों का विलय करने से फंसे कर्ज की वसूली नहीं हो पाएगी और बैंक प्रबंधन का पूरा ध्यान विलय के मुद्दे पर चला जाएगा। स्टेट बैंक आॅफ  इंडिया में 5 सहयोगी बैंकों के विलय से कोई चमत्कार नहीं हुआ बल्कि 200 साल में पहली बार स्टेट बैंक को घाटा हुआ था। सरकार को इसमें जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। क्या बैंकों का मर्जर ही रामबाण इलाज है? सार्वजनिक बैंकों का विलय करना समस्या का समाधान नहीं है, यह तो वैसा ही हुआ कि हम हाथ में लगी चोट का बेहतर इलाज करने के बजाए हाथ को ही कटवा डालने का विकल्प चुनना चाहते है।

दीपक गिरकर (ये लेखक के अपने विचार हैं)

यह भी पढ़ें:

श्रद्धा के समर्पण का पर्व है श्राद्ध

आश्विन मास का कृष्ण पक्ष जिसे अंधियारा पाख भी कहा जाता है, पितृपक्ष के रूप में विख्यात है। यह पितरों के प्रति श्रद्धा के समर्पण के पर्व के नाम से जाना जाता है।

13/09/2019

‘आप’ जीती, कांग्रेसी गाए बधाई

दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष शर्मिष्ठा मुखर्जी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी. चिदम्बरम को आईना दिखाया है। उन्होंने उन कांग्रेसियों की बोलती बंद कर दी जो दिल्ली विधानसभा चुनावों में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी (आप) को मिली विजय पर ‘बधाई’ गा रहे थे।

24/02/2020

'बच्चों को ढाल बनाते हैं उपद्रवी, 95 प्रतिशत कश्मीरी शांति से चाहते हैं हल'

गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में जम्मू-कश्मीर के हालात पर बात की। राजनाथ ने कांफ्रेंस में कहा कि कश्मीर में छोटे बच्चों को बरगलाया जाता है, कुछ लोग बच्चों को पत्थर मारने के लिए तैयार करते हैं। सभी कश्मीर में शांति चाहते हैं, घाटी के हालात को लेकर बहुत दुखी हूं।

25/08/2016

राजनीतिक इस्तीफों का दौर

सवाल उठता है, क्या निर्वाचित प्रतिनिधि का यह दायित्व नहीं बनता कि वह अपना कदम उठाने से पहले उनसे भी कुछ पूछ ले जिन्होंने उन्हें अपना प्रतिनिधि चुना है?

12/07/2019

प्लास्टिक के नीचे दबी मानवीय सभ्यता

आज सम्पूर्ण विश्व में प्लास्टिक का उत्पादन 30 करोड़ टन प्रति वर्ष किया जा रहा है। आंकड़े बताते है कि प्रति वर्ष समुद्र में जाने वाला प्लास्टिक कचरा 80 लाख टन है। अरबों टन प्लास्टिक पृथ्वी के पानी स्रोतों खासकर समुद्रों-नदियों में पड़ा हुआ है।

20/09/2019

वित्तीय घाटे का कठिन प्रश्न

निजी निवेश नहीं आ रहा हो, तब वित्तीय घाटे को और अधिक नियंत्रित करने से लाभ होने की संभावना कम ही होती है। जैसे यदि मरीज को पर्याप्त एंटीबायोटिक दवाई दी जा रही हो और उसकी स्थिति में सुधार नहीं हो रहा हो, तो उसे और तगड़ी एंटीबायोटिक दावा देने से उसके स्वास्थ के सुधरने की संभावना कम ही होती है।

21/01/2020

जानें राज-काज में क्या है खास

हाथ वाले भाई लोग जश्न की तैयारियों में जुटे हैं, मगर कइयों के चेहरों पर चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही है। उसका कारण भी खुली किताब की तरह है, जिसके पन्नों को हर कोई पढ़ रहा है।

20/05/2019