Dainik Navajyoti Logo
Sunday 19th of January 2020
 
ओपिनियन

मोदी नीति से बेचैन महबूबा

Wednesday, July 31, 2019 10:55 AM

करीब 3 दशकों से लहुलुहान कश्मीर में अर्से बाद अच्छी खबर आई है कि वहां के भटके हुए युवाओं में आतंकवादी कैंप में भर्ती को लेकर क्रेज कम हुई है। अब ये युवा बंदूक को फैक कर मुख्यधारा में लौटने की कोशिश कर रहे है। यह सुरक्षा बलों और मोदी सरकार की आतंक को लेकर जीरो टौलरेंस नीति की बहुत बड़ी जीत है। यहीं नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने जिस तरह से कश्मीर के अलगाववादी नेताओं की धड़-पकड़ की और उनको मिलने वाले सुविधाएं पर रोक लगा दी। इससे भी कश्मीर में हवा के रुख बदलने में कामयाबी मिली है। इसमें दो राय नहीं है। केन्द्र सरकार ने आतंकवाद निरोधक अभियानों और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कश्मीर घाटी में केंद्रीय बलों के करीब 10 हजार अतिरिक्त जवानों को भेजने का आदेश दिया है। सरकार के इस फैसले के बाद से ही सूबे में हलचल तेज हो गई है और लोगों के मन में तमाम सवाल दौड़ रहे हैं। आपको बता दें कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के जम्मू-कश्मीर से लौटने के तुरंत बाद जवानों की रवानगी का यह आदेश आया है। सरकार के इस फैसले पर सियासी बयानबाजी भी शुरू हो गई है। अतिरिक्त जवानों की तैनाती के केन्द्र सरकार के फैसले ने कश्मीरी नेताओं को बेचौन कर दिया है। पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इसका विरोध करते हुए ट्वीट किया है कि केन्द्र घाटी में डर का माहौल पैदा कर रहा है। बीती 25 जुलाई को गृह मंत्रालय ने एक आदेश जारी किया कि कश्मीर में सुरक्षा बलों के 10,000 अतिरिक्त जवान तैनात किए जाएंगे। सैनिकों और जवानों की तैनाती, एक जगह से दूसरी जगह कूच करना एक सामान्य प्रक्रिया है। गृह मंत्रालय का यह फैसला राष्टÑीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के कश्मीर से लौटने के बाद लिया गया। डोभाल ने कश्मीर में सुरक्षा और खुफिया अफसरों से बातचीत की और फिर यह फैसला सामने आया। चूंकि संदर्भ कश्मीर का है, लिहाजा अति संवेदनशील बन जाता है।

हालांकि कश्मीर में 1953 से ही सेना और सुरक्षा बलों की तैनाती, सक्रियता जारी रही है। वहां पहले से ही सशस्त्र दस्ते हैं और अपने अभियान जारी रखे हैं, तो यह सवाल स्वाभाविक है कि सीआरपीएफ की 50, एसएसबी की 30, बीएसएफ और आईटीबीपी की 10-10 कंपनियां, यानी 100 कंपनियों के 10,000 जवान, तैनात क्यों किए जा रहे हैं? क्या कोई बड़ी कार्रवाई विचाराधीन है? क्या कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35-ए को खत्म करने की भूमिका तैयार की जा रही है? क्या भारत सरकार पाक अधिकृत कश्मीर में अपना कब्जा लेने के लिए कोई बड़ा आॅपरेशन करने जा रही है, जैसा कि सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने ‘कारगिल विजय दिवस’ की अपनी हुंकार में संकेत दिया था? क्या कश्मीर में किसी महत्त्वपूर्ण राजनीतिक फैसले-चुनाव आदि से पहले माहौल बनाने की कवायद है? अथवा आतंकियों के नेटवर्क को ध्वस्त करके कानून-व्यवस्था को सामान्य बनाने की रणनीति है? तैनाती की बुनियादी वजह इन्हीं में से कोई एक है, लेकिन यह एक आम-सामान्य कवायद नहीं है, लिहाजा महबूबा मुफ्ती सरीखे कश्मीरी सियासतदानों का उछलना और किलसना स्वाभाविक है। करीब 3 दशकों से लहुलुहान कश्मीर में अर्से बाद अच्छी खबर आई है कि वहां के भटके हुए युवाओं में आतंकवादी कैंप में भर्ती को लेकर क्रेज कम हुई है। अब ये युवा बंदूक को फैक कर मुख्यधारा में लौटने की कोशिश कर रहे है। सुरक्षा बलों और मोदी सरकार की आतंक को लेकर जीरो टौलरेंस नीति की बहुत बड़ी जीत है। यहीं नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने जिस तरह से कश्मीर के अलगाववादी नेताओं की धड़-पकड़ की और उनको मिलने वाले सुविधाएं पर रोक लगा दी इससे भी कश्मीर में हवा के रुख बदलने में कामयाबी मिली है। इसमें दो राय नहीं है। आईएएस अफसर की नौकरी छोड़ सियासत में आए और अब जेकेपीएम के अध्यक्ष शाह फैसल ने भी अनुच्छेद 370 और 35-ए को लेकर आशंकाएं जताई हैं। कश्मीर के हालात बेहद नाजुक हैं। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने कश्मीर को सबसे खतरनाक जगह करार दिया था।

बहरहाल आतंकवाद और आतंकियों को लेकर जनरल रावत ने स्पष्ट बयान दिया है कि यदि अब किसी भी आतंकी ने बंदूक उठाई, तो उस आतंकी को कब्र में गाड़ दिया जाएगा और बंदूक हम हासिल कर लेंगे। नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी ‘डर का माहौल’ बनाने का आरोप लगाया है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के महासचिव अली मोहम्मद असगर ने कहा है कि एक तरफ  केंद्र और राज्यपाल कश्मीर के हालात सुधरने की बात कर रहे हैं और दूसरी ओर अतिरिक्त सैनिक घाटी में भेजे जा रहे हैं। इस नई नीति के मद्देनजर मौलवियों के साथ-साथ कथित आतंकियों के माता-पिता, भाई-बहन और पड़ोसियों, सगे-संबंधियों को समझाया जा रहा है। यानी आतंकवाद के खिलाफ अभियान अब नए रूप में भी सामने आएगा। हालांकि ‘आपरेशन आॅल आउट’ के बावजूद 2018 में आतंकवाद करीब 80 फीसदी बढ़ा है और 191 कश्मीरी नौजवान आतंकी संगठनों में शामिल हुए हैं, लेकिन 2019 में ही जुलाई माह तक 128 आतंकियों को मारा जा चुका है। चूंकि कारगिल युद्ध की 20वीं वर्षगांठ अभी मनाई गई है, लिहाजा 1999 से आज तक का विश्लेषण करें, तो 14,351 आतंकी घटनाएं हुईं हैं, जिनमें 14000 से ज्यादा आतंकी ढेर किए गए, लेकिन 4198 पराक्रमी जवान भी ‘शहीद’ हुए हैं। यह रिकॉर्ड गृह मंत्रालय का है। अहम सवाल तो यह है कि अतिरिक्त 10,000 जवान कश्मीर में तैनाती के बाद क्या करेंगे? हमारा आकलन है कि मोदी सरकार और चुनाव आयोग इसी साल जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराने के पक्षधर हैं। अति संवेदनशील और आतंकग्रस्त राज्य होने के कारण यह तैनाती की जा रही हो, ताकि चुनाव का माकूल माहौल बन सके, लेकिन कश्मीर में एक तबका ऐसा है, जो कश्मीर को एक सियासी मसला मानता है और सेना, सुरक्षा बलों को कोई समाधान नहीं मानता।           

- डॉ. श्रीनाथ सहाय
(ये लेखक के अपने विचार हैं)


 

यह भी पढ़ें:

चक्रव्यूह रचने में माहिर अमित शाह

तमाम अंतर्विरोधों और विरोधाभासों के बावजूद भाजपा लगातार दूसरी बार अपने ही बूते पर सरकार बनाने में सफल हुई है, इसके पीछे नरेन्द्र मोदी की करिश्माई शख्सियत की तो सबसे बड़ी भूमिका रही ही लेकिन साथ ही इसमें भाजपा

29/05/2019

भ्रष्टाचार पर मोदी की सर्जिकल स्ट्राइक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार पर प्रहार का वादा देशवासियों से किया था और कहा था कि ‘ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा’। लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कई बार यह बयान दोहराया था कि जिन्होंने देश को लूटा है, उन्हें पाई-पाई लौटानी पड़ेगी।

04/09/2019

जानें राज काज में क्या है खास

असर तो असर ही होता है और जब अपने खुद ही विरोध करे, तो उसके असर और भी ज्यादा बढ़ जाता है। अब देखो ना पिछले दिनों इंदिरा गांधी भवन में बने हाथ वालों के ठिकाने में पर इसका असर कुछ ज्यादा ही दिखाई दिया।

11/11/2019

महिला सशक्तिकरण की अनिवार्यता

स्त्री और पुरूष के बीच समानता का सिद्धान्त भारत के संविधान की प्रस्तावना में मौलिक अधिकार राज्य के कर्तव्य तथा नीति निर्देशक सिद्धांतों में अन्तर्निहित है।

21/05/2019

आर्थिक संकट से जूझता संयुक्त राष्ट्र

साफ है कि आर्थिक मंदी के बीच, जो काम अमेरिका जैसे विकसित देश नहीं कर सके वो काम आर्थिक मंदी से जूझ रहे भारत के मोदी सरकार ने कर दिखया है।

23/10/2019

भारत-चीन में दोस्ती का बदलता स्वरूप

अंतर्राष्ट्रीय राजनीति में न कोई स्थायी मित्र होता है और न कोई स्थायी शत्रु। केवल देशों के अपने हित स्थायी होते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निमंत्रण पर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग दो दिनों के लिए भारत आए। दोनों नेताओं ने जमकर अकेले में घंटों बात की और वे इस नतीजे पर पहुंचे कि वे दोनों देशों के मतभेदों को विवाद नहीं बनने देंगे।

17/10/2019

नदी जोड़ने के विकल्प

पंजाब में कुछ क्षेत्रों में जल भराव हो रहा है फिर भी पंजाब अपना पानी देने को तैयार नहीं है। इस परिस्थिति में अन्तरराज्यीय नदी जोड़ने के कार्यक्रम कतई सफल नहीं हो सकती हैं।

20/08/2019