Dainik Navajyoti Logo
Friday 15th of November 2019
 
ओपिनियन

पर्यावरण के लिए पटाखे बनते परेशानी

Friday, October 25, 2019 13:15 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

पर्यावरण को बचाना आज हमारी सबसे बड़ी जरूरत है। विकास की अंधी दौड़ में प्रकृति का लगातार दोहन हो रहा है। ऐसे में समन्वय बना रहे इस पर हमें ध्यान देना होगा। हमारी परंपरा और संस्कृति में पर्यावरण के संरक्षण की बात कही गई है। पर्यावरण के बगैर मानवीय जीवन का अस्तित्व संभव नहीं है। दीपावली साफ सफाई का पर्व है। दीपावली बुराई पर अच्छाई का पर्व है। दीपावली शीत ऋतु के आगमन का पर्व है। लेकिन दीपावली के त्यौहार के महीने भर पहले ही बाजारों में पटाखों की दुकानें सजने लग जाती हैं। प्रति वर्ष दीपावली पर करोड़ों रुपयों के पटाखों का व्यापार होता है। यह सिलसिला कई दिनों तक चलता है। कुछ लोग इसे फिजूलखर्ची मानते हैं, तो कुछ इसे परंपरा से जोड़कर देखते हैं। पटाखों से बसाहटों, व्यावसायिक, औद्योगिक और ग्रामीण इलाकों की हवा में तांबा, कैल्शियम, गंधक, एल्यूमीनियम और बेरियम प्रदूषण फैलाते हैं। उल्लिखित धातुओं के अंश कोहरे के साथ मिलकर अनेक दिनों तक हवा में बने रहते हैं। उनके हवा में मौजूद रहने के कारण प्रदूषण का स्तर कुछ समय के लिए काफी बढ़ जाता है। गौरतलब है कि विभिन्न कारणों से देश के अनेक इलाकों में वायु प्रदूषण सुरक्षित सीमा से अधिक है। ऐसे में पटाखों से होने वाला प्रदूषण भले ही अस्थायी प्रकृति का होता है लेकिन उसे और अधिक हानिकारक बना देता है।

औद्योगिक इलाकों की हवा में विभिन्न मात्रा में राख, कार्बन मोनोऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और अनेक हानिकारक तथा विषैली गैसें और विषाक्त कण होते हैं। इन इलाकों में पटाखे फोड़ने से प्रदूषण की गंभीरता तथा होने वाले नुकसान का स्तर कुछ दिनों के लिए बहुत अधिक बढ़ जाता है। महानगरों में वाहनों के ईंधन से निकले धुएं के कारण सामान्यत: प्रदूषण का स्तर सुरक्षित सीमा से अधिक होता है। पटाखे उसे कुछ दिनों के लिए बढ़ा देते हैं। उसके कारण अनेक जानलेवा बीमारियों मसलन- हृदय रोग, फेफड़े, गॉल ब्लैडर, गुर्दे, यकृत एवं कैंसर जैसे रोगों का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा पटाखों से मकानों में आग लगने तथा लोगों खासकर बच्चों के जलने की संभावना होती है एवं हवा के प्रदूषण के अलावा पटाखों से ध्वनि प्रदूषण होता है। कई बार शोर का स्तर सुरक्षित सीमा को पार कर जाता है। यह शोर कई लोगों तथा नवजात बच्चों की नींद उड़ा देता है।

नवजात बच्चों और गर्भवती महिलाओं को डराने के साथ यह पशु-पक्षियों तथा जानवरों के लिए भी अभीष्ट नहीं है। इसके अतिरिक्त पटाखे पृथ्वी के जीवन कवच ‘ओजोन परत’ को भी भारी नुकसान पहुंचाते हैं। पटाखों से निकले धुएं के कारण वातावरण में दृश्यता घटती है। दृश्यता घटने से वाहन चालकों को कठिनाई होती हैं और कई बार यह दुर्घटना का कारण बनती है। इसके अलावा पटाखे बनाने वाली कंपनियों के कारखानों में होने वाली दुर्घटनाएं और मौतें कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिनसे सबक लेना चाहिए। इन मुद्दों में स्वास्थ्य मानकों की अनदेखी, बाल मजदूरी नियमों की अवहेलना या असावधानी मुख्य हैं। इन सब दुष्परिणामों के बाद सवाल है कि क्या पटाखे फोड़ना हमारे लिए जरूरी हैं? क्या पटाखे फोड़ने से ही दीपावली मनाना संभव है? क्या बिना पटाखों के दीपावली नहीं मनाई जा सकती है? क्या पटाखों के जरिए हम अपने रुपयों में आग नहीं लगा रहे हैं? क्या पटाखे फोड़कर हम पर्यावरण प्रदूषण नहीं फैला रहे हैं? करोड़ों सूक्ष्म जीवों ने हमारा क्या बिगाड़ा हैं? कुछ नहीं ना, तो हम पटाखे फोड़ के उन सूक्ष्म जीवों को क्यों मारे? पहले हमारे देश में मिट्टी के दिए जलते थे। बाद में इसका स्थान केरोसिन के दिए ने ले लिया। उसके बाद झालर और लाइट लगाने की परंपरा आ गई, जिसका स्थान चाइनीज सामानों ने ले लिया। पुन: पटाखों ने दीपावली में घुसपैठ जमाई।

हम सभी अब दीपावली के नाम पर पर्यावरण को दूषित कर रहे हैं। अब हमें पुन: अपनी परंपरा को समझना होगा। हमें मिट्टी के दिए जलाने की परंपरा की पुन: शुरुआत करनी होगी। इससे कीड़े मकोड़े मरते हैं। झालर और लाइट से कीड़े नहीं मरते। हमारी संस्कृति सरसों के तेल के दिए जलाना है, अच्छे पकवान बनाना, मिठाइयां खाना और पड़ोसी को भी खिलाना, लोगों को उपहार देना आदि है। लेकिन लोग अब उतने समझदार नहीं हैं इसलिए पटाखे छूटेंगे। ऐसे में पटाखे फोड़ने की जगह खुला क्षेत्र होना चाहिए क्योंकि पटाखों की वजह से कई पशु और जानवर मारे जाते हैं। कई बार नियम बनाने पड़ते हैं जिससे शहर में लोगों को दिक्कत नहीं हो। जैसे दिल्ली क्योंकि ये पहले से ही काफी प्रदूषित है और दीपावली की रात तो इसे बर्बाद कर देता है। कई लोग पटाखे फोड़ने के लिए धर्म का सहारा लेते हैं। वे लोग मनोरंजन के आगे मानवता को तुच्छ समझते हैं। व्यापारी लोग पटाखे बेचने के लिए धर्म का सहारा लेते हैं क्योंकि उन्हें अपना पटाखा बेचना है। दूसरी तरफ चीन अपने पटाखे भारतीय बाजार में बेच रहा है जो ज्यादा प्रदूषण फैलाता है। कई लोग पटाखे फोड़ने से रोकने के तर्क को अपने धर्म की हानि समझते हैं। ये हमारे धर्म के सबसे बड़े दुश्मन हैं। जब तक हमारी परंपरा और संस्कृति सुरक्षित है हमारा धर्म भी सुरक्षित रहेगा। दिखावा धर्म की सुरक्षा का प्रतीक कभी नहीं हो सकता। हमारे धर्म ग्रंथों में दीपक जलाने की बात कही गई है। आतिशबाजी का कई नामोनिशान तक नहीं है।

पूर्वजों ने भी इसी का पालन किया दीपक जलाकर, रंगबिरंगी रोशनी के माध्यम से इस पर्व को खुशी की सौगात दी है। ज्यादा ही मनीषा हुई तो फुलझड़ी जला के मन को प्रसन्न कर लिया। आतिशबाजी और पटाखेबाजी केवल आधुनिक विकृतियां हैं। बेकार की फिजूलखर्ची है। क्षण भर में लाखों रुपयों का नुकसान के साथ-साथ अमूल्य पर्यावरण को भी हानि है। अत: हमें मानवीय नजरिया रखते हुए ‘शुभ दीपावली’ अशुभ पटाखा की परंपरा की शुरुआत करनी चाहिए। दीपावली का त्योहार चार दिनों में ही सम-सामयिक समाज की नैतिकता के विभिन्न आयामों पर प्रकाश डालता है ये क्या सोचा है आपने?
देवेन्द्रराज सुथार (ये लेखक के अपने विचार हैं)