Dainik Navajyoti Logo
Monday 17th of May 2021
 
खास खबरें

अजब गजब: बिहार में उगाई जा रही दुनिया की सबसे महंगी सब्जी, कीमत सुनकर उड़ जाएंगे होश

Friday, April 02, 2021 10:05 AM
बिहार में हॉप शूट्स की खेती।

आपने अपने जीवन में कई तरह की सब्जियां खरीदी और खाई होंगी। लेकिन आज तक आपने ऐसी सब्जी नहीं खाई होगी जिसे दुनिया की सबसे महंगी सब्जी होने का दर्जा प्राप्त है। आज हम आपको एक ऐसी ही सब्जी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे दुनिया की सबसे महंगी सब्जी कहा जाता है। दुनिया की सबसे महंगी सब्जी को आमतौर पर आप बाजार में ढूंढ नहीं पाएंगे। लेकिन भारत का एक किसान बिहार में इस सब्जी की खेती कर रहा है। बता दें कि इस सब्जी का जायका लेने के लिए आपको करीब एक लाख रुपए खर्च करने पड़ेंगे। दुनिया की सबसे महंगी और अनोखी सब्जी नाम हॉप शूट्स है।

फूल का इस्तेमाल बीयर बनाने में
जिसे अब बिहार के औरंगाबाद में रहने वाले एक किसान ने पैदा करना शुरू कर दिया है। हॉप शूट्स नाम की इस सब्जी का फूल भी लोगों को काफी अच्छा लगता है। इसे हॉप कोन्स भी कहा जाता है। इसके फूल का इस्तेमाल बीयर बनाने में किया जाता है। जबकि बाकी टहनियों को खाने के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। इस सब्जी में औषधीय गुण का भंडार होता है। जिसका इस्तेमाल एंटीबॉयोटिक दवाई बनाने में किया जाता है। इस सब्जी की सबसे खास खूबी ये हैं कि इसका इस्तेमाल दांत और टीबी जैसी गंभीर बीमारियों से छुटकारा देने में सबसे लाभकारी होता है।

इसका उपयोग अचार के रूप में भी
इसे लोग कच्चा भी खाते हैं। इसकी टहनियों का इस्तेमाल सलाद के तौर पर भी कर सकते हैं। इसी के साथ इसका उपयोग अचार के रूप में भी किया जा सकता है। बता दें कि करीब 800 ईसवीं के आसपास लोग इसे बीयर में मिलाकर पीते थे और तब से लेकर अब तक इसका प्रयोग होता आ रहा है। सबसे पहले इसकी खेती उत्तरी जर्मनी में शुरू हुई थी। उसके बाद धीरे-धीरे पूरे विश्व में इसका प्रसार हो गया। हाल ही में आईएएस अधिकारी सुप्रिया साहू ने अपने ट्विटर अकाउंट से दो तस्वीरें शेयर कीं।

यह भी पढ़ें:

अजब गजब: इस झील को माना जाता है दुनिया की सबसे रहस्यमयी झील, रात में नीला हो जाता है इसका पानी

पूरी दुनिया में रहस्यों की कमी नहीं है, दुनियाभर के वैज्ञानिक भी इन रहस्यों के बारे में आज तक पता नहीं लगा पाए। आज हम आपको एक ऐसे ही रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो एक झील में छिपा हुआ है। इस झील का रहस्य यह हैं कि यह झील रात के वक्त किसी नीले रंग के पत्थर की तरह चमकने लगती है।

26/02/2021

छात्रों के लिए दुनिया का सर्वश्रेष्ठ शहर बना लंदन

वैश्विक शिक्षा कंसल्टेंसी क्यूएस क्वॉक्यूरेली सायमंडस ने नई वैश्विक रैंकिंग सूची जारी की है। इस रैंकिंग में लंदन को छात्रों के लिए लगातार दूसरे साल सर्वश्रेष्ठ शहर का खिताब मिला है।

01/08/2019

उत्तरप्रदेश के इस शहर में रावण को देखा जाता है संकट मोचक की भूमिका में

देश भर में आयोजित रामलीलाओं में खलनायक की भूमिका में नजर आने वाला रावण उत्तर प्रदेश के इटावा के जसवंतनगर में संकट मोचक की भूमिका में पूजा जाता है। यहां रामलीला के समापन में रावण के पुतले को दहन करने के बजाय उसकी लकड़ियों को घर ले जा कर रखा जाता है ताकि साल भर उनके घर में विघ्न या कोई बाधा उत्पन्न न हो सके।

05/10/2019

अब बायोलॉजिकल पार्क में भी हाथी सफारी

गुलाबी नगरी आने वाले देशी-विदेशी पर्यटकों को में हाथी सफारी का क्रेज देखा जा सकता है। आमेर महल में पर्यटक लाइन में लगकर हाथी सफारी में अपने नम्बर आने का इंतजार करते देखे जा सकते हैं।

04/07/2019

गहलोत सरकार कर रही अच्छा काम, वसुंधरा की भाजपा में हो रही अनदेखी: महेश जोशी

सरकारी मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने भाजपा नेताओं की राज्य सरकार के खिलाफ बयानों को खारिज करते हुए कहा है कि भाजपा नेता नॉन इश्यू को इश्यू बना रहे हैं।

08/01/2020

जयपुर की ईशा गुप्ता ने किया SMS मेडिकल कॉलेज टॉप

राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, जयपुर (आरयूएचएस) के एमबीबीएस फाइनल वर्ष के परिणाम में एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर की छात्रा इशा गुप्ता ने प्रदेश में द्वितीय स्थान प्राप्त किया है तो कॉलेज में प्रथम स्थान प्राप्त करके प्रदेशभर में कॉलेज और अपने परिवार का नाम रोशन किया है।

05/04/2019

धनतेरस पर करें मां लक्ष्मी, कुबेर और धन्वंतरि की पूजा, राशि के अनुसार करें खरीदारी

धन्वंतरी को हिन्दू धर्म में देवताओं के वैद्य माना जाता है। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ये भगवान विष्णु के अवतार समझे जाते हैं। इनका पृथ्वी लोक में अवतरण समुद्र मंथन के समय हुआ था। शरद पूर्णिमा को चंद्रमा, कार्तिक द्वादशी को कामधेनु गाय, त्रयोदशी को धन्वंतरी, चतुर्दशी को काली माता और अमावस्या को भगवती लक्ष्मी जी का सागर से प्रादुर्भाव हुआ था, इसीलिए दीपावली के दो दिन पूर्व धनतेरस को भगवान धन्वंतरी का जन्म धनतेरस के रूप में मनाया जाता है।

13/11/2020