Dainik Navajyoti Logo
Friday 14th of May 2021
 
खास खबरें

अजब गजब: इस झील को माना जाता है दुनिया की सबसे रहस्यमयी झील, रात में नीला हो जाता है इसका पानी

Friday, February 26, 2021 10:45 AM
इंडोनेशिया की कावाह इजेन झील।

पूरी दुनिया में रहस्यों की कमी नहीं है, दुनियाभर के वैज्ञानिक भी इन रहस्यों के बारे में आज तक पता नहीं लगा पाए। आज हम आपको एक ऐसे ही रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो एक झील में छिपा हुआ है। इस झील का रहस्य यह हैं कि यह झील रात के वक्त किसी नीले रंग के पत्थर की तरह चमकने लगती है। इसीलिए इस झील को दुनिया की सबसे रहस्यमयी झील के नाम से जाना जाता है। दरअसल, हम बात कर रहे हैं इंडोनेशिया की कावाह इजेन नाम की झील के बारे में।

झील के पानी का तापमान हमेशा 200 डिग्री सेल्सियस
यह झील इंडोनेशिया की सबसे अधिक अम्लीय यानी खारे पानी की झील भी है। इस झील की सबसे बड़ी खासियत यह है कि दिन में तो ये बिल्कुल अन्य झीलों की तरह ही दिखाई देती है लेकिन रात के वक्त इसका पानी बिल्कुल नीले रंग का हो जाता है। तब ऐसा महसूस होता है कि ये कोई नीले रंग का पत्थर हो। इस झील के पानी का तापमान हमेशा 200 डिग्री सेल्सियस तब गर्म रहता है। यानी इसमें अगर कोई जीव गिर जाए तो कुछ ही सेकंड में भाप बन गए उड़ जाएगा।

रिसर्च के बाद भी वैज्ञानिक खाली हाथ
झील का पानी हमेशा खौलता रहता है। जैसे इसके नीचे किसी ने भट्टी जला रखी हो। इस वजह से झील के आसपास कोई आबादी नहीं रहती है। हालांकि, इस झील की कई बार सैटेलाइट इमेज जारी हो चुकी है, जिसमें रात के समय झील के पानी से नीली-हरी रोशनी निकलती दिखती है। सालों के रिसर्च के बाद वैज्ञानिकों ने इस झील से निकलने वाली रंगीन रोशनी की वजहों का पता नहीं लगाया जा सका।

आसपास कई सक्रिय ज्वालामुखी
झील के आसपास कई सक्रिय ज्वालामुखी मौजूद हैं, जिसके कारण झील से हाइड्रोजन क्लोराइड, सल्फ्यूरिक डाइऑक्साइड जैसी कई तरह की गैसें भी निकलती रहती हैं। ये सभी गैसें आपस में मिलकर प्रतिक्रिया करती हैं, जिससे नीला रंग पैदा होता है। कावाह इजेन झील इतनी खतरनाक है कि इसके आसपास वैज्ञानिक भी लंबे समय तक रहने की हिम्मत नहीं कर सकते हैं। एक बार झील की अम्लीयता जांचने के लिए अमेरिकी वैज्ञानिकों की एक टीम ने तेजाब से भरे इस पानी में एलुमीनियम की मोटी चादर को लगभग 20 मिनट के लिए डाला था। इस चादर को निकालने के बाद देखा गया कि चादर की मोटाई पारदर्शी कपड़े जितनी रह गई थी।
 

यह भी पढ़ें:

अजब गजब: दुनिया की सबसे ऊंची वीरान बिल्डिंग, जहां जाने से थरथर कांपते हैं लोग

उत्तर कोरिया में मौजूद होटल की बिल्डिंग ऐसी ही भूतिया जगहों में से एक है। उत्तर कोरिया में एक ऐसा होटल मौजूद है, जिसको शापित और भूतिया कहा जाता है। यह होटल पिरामिड जैसे आकार और नुकीले सिरे वाली गगनचुंबी इमारत के रूप में बनाया गया है। इस होटल का निर्माण कार्य बीच में ही रोक दिया गया और 33 साल बीत जाने के बावजूद इसका निर्माण कार्य आज भी अधूरा ही है।

27/02/2021

जानिए, कितना है इंफोसिस के सीईओ का सैलरी पैकेज

आईटी कंपनी इन्फोसिस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सलिल पारेख को बीते वित्त वर्ष 2018-19 में 24.67 करोड़ रुपए का सैलरी पैकेज मिला।

21/05/2019

गुजरात के इस माता के मंदिर में नवरात्री के नौवें दिन बहती है घी की नदी

गुजरात में गांधीनगर जिले के रूपाल गांव में वरदायिनी माता की पल्ली पर सोमवार को करीब चार लाख किलोग्राम शुद्ध घी का अभिषेक किया जाएगा।

07/10/2019

दिल्ली से जयपुर और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन चलाने की तैयारी

रेलवे ने बुलेट ट्रेन के लिए दिल्ली-जयपुर-उदयपुर-अहमदाबाद समेत 6 नए कॉरिडोर चिन्हित किए हैं। इसकी डीपीआर एक साल में तैयार हो जाएगी। इनमें हाई स्पीड कॉरिडोर पर ट्रेन की रफ्तार 300 किलोमीटर प्रति घंटे होगी, जबकि सेमी हाई स्पीड कॉरिडोर पर ट्रेन 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी।

30/01/2020

राजस्थान में अब तक 30 हजार दुर्लभ वस्तुओं का रजिस्ट्रेशन

दुर्लभ वस्तुओं का कलेक्शन कर सहेजकर रखना हर किसी के बस की बात नहीं है। जयपुर ही नहीं बल्कि प्रदेश के कई जिलों में ऐसे संग्रहकर्ता मिल जाएंगे, जो किसी ना किसी एंटीक चीजों का कलेक्शन करते हैं।

12/12/2019

नवी मुंबई में इकट्ठा हुए हजारों प्रवासी राजहंस पक्षियों के झुंड, तस्वीरें आई सामने

कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश को लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में इंसान खुद को प्रकृति के नजदीक महसूस कर रहा है और नेचर भी लोगों को प्रभावित करने से पीछे नहीं हट रही है। कुछ ऐसा ही नजारा मुंबई में देखा गया, जहां माइग्रेंट (प्रवासी) फ्लेमिंगो (राजहंस) को देखकर ऐसा लग रहा है मानों धरती पर गुलाबी-सफेद चादर बिछ गई है।

20/04/2020

जल संचय की अनूठी पहल, 'हाफ गिलास वाटर' अभियान की शुरुआत

भीलवाड़ा। जिले में जल संचय के लिए अनूठी पहल करते हुए हाफ गिलास वाटर अभियान की शुरुआत की गई है। जिला कलेक्टर भीलवाड़ा राजेन्द्र भट्ट ने जिले में जब आपको आधे गिलास पानी की प्यास हो तो आप पूरा गिलास पानी क्यों मंगाए और जितना पीएं उतना व्यर्थ क्यों बहाएं।

20/08/2019