Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of June 2020
 
शिक्षा जगत

प्रतियोगी परीक्षाओं की तरफ बढ़ा स्टूडेंट्स का रुझान

Tuesday, May 14, 2019 11:50 AM

जयपुर। आज के दौर में स्टूडेंट्स कॅरिअर मेंकिग के  लिए 12वीं के  बाद ही अलग-अलग प्रवेश परीक्षा और सरकारी नौकरी के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी को प्राथमिकता दे रहे है। इसके पीछे का मुख्य कारण यह है कि आज स्नातक और स्नातकोत्तर की पढ़ाई करने के बाद भी युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही है। ऐसे में अधिकांश युवा 12वीं कक्षा पास करने के तुरंत बाद कॅरिअर के लिए अवेयर हो रहे है और आगे की पढ़ाई से पहले नौकरी की तरफ अधिक फोकस कर रहे है।

पहले होता था, अब नहीं
अगर आज के 5-7 साल पहले से तुलना की जाए तो 12वीं व 10वीं के बोर्ड एग्जाम के  बाद बच्चे अपनी समर वेकेशन्स को एंजाय करने नानी, मामा के घर, कुछ अपने मम्मी-पापा के पास, कुछ घूमने-फिरने तो कुछ समर कैंप में निकल जाया करते थे, लेकिन आज के स्टूडेंट्स की सोच तो अलग ही लेवल की है, एक भी दिन की बर्बादी करना बच्चों को कतई पसंद नहीं है। आज हॉबी क्लासेज भी सिर्फ हॉबी रखने वाले बच्चों के लिए ही रह गई। जबकि पहले ये, एक चलन था कि गर्मी क ी छुट्टी मतलब अपने पसंद की कोई एक चीज सीखना, लेकिन अब कुकिंग, डांस, स्वीमिंग क्लास सिर्फ  किताबों से या पढ़ाई से थोड़ा समय निकालकर सीख रहे हैं।

बढ़ती चिताएं
बच्चे अपने भविष्य को लेकर जितने जागरुक है, उतने ही रिश्ते-नातों, घर-परिवार से अनभिज्ञ। किसी भी चीज के लिए समय निकालना बहुत मुश्किल है। बच्चों के लिए पहले जहां ग्रीष्मावकाश आराम के लिए होता था। वह अब चिता से घिरा हुआ नजर आ रहा है।

कोचिंग क्लासेज की तरफ बढ़ता रूझान
सबसे ज्यादा एजुकेशन सेक्टर में बढ़ोत्तरी कोचिंग सेंटर्स की तरफ हो रही है। प्रतियोगी परीक्षाओं की लाखों वेकेन्सीज के लिए करोड़ों विद्यार्थियों के फॉर्म भरते है और उन सभी लोगों के नाम किसी न किसी शहर के कोचिंग सेंटर के रजिस्टर में भी दर्ज होता है।

स्कूल के बाद कॉलेज की पढ़ाई कहा से करें और किस विषय से करें, इस बात को लेकर विद्यार्थियों में सबसे अधिक असमंजस की स्थिति बनी हुई है। वहीं, प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे की जाए ये जानने के लिए भी छात्र आज काउंसलर्स के पास आ रहे है।
-डॉ. दीपक सक्सेना, डायरेक्टर, विद्यार्थी
सूचना केन्द्र, आरयू, जयपुर

यह भी पढ़ें:

इग्नू ने की बीए पर्यटन प्रबंधन पर कोर्स की शुरुआत

वर्तमान में पर्यटन क्षेत्र की बढ़ती सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय ने बीए पर्यटन प्रबंधन पर कोर्स की शुरूआत की है, जिससे प्रदेश के साथ ही देशभर के युवा दूरस्थ शिक्षा से व्यावसायिक अध्ययन कर सकते है।

12/09/2019

एविएशन क्षेत्र में अपार संभावनाएं

एविएशन क्षेत्र में रोजगार की अपार संभावनाएं है। आवश्यक्ता है तो स्टूडेंट्स को अपना ध्यान केन्द्रित कर प्रयास करने की।

13/12/2019

अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में भारत के तीन उच्च शिक्षण संस्थान

देश के दो भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान सहित तीन उच्च शिक्षण संस्थान इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय क्यू एस रैंकिंग में टॉप 200 उच्च शैक्षणिक संस्थान में आ गए है।

19/06/2019

महिला पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इंफ्रास्ट्रक्टर और तकनीकी संसाधनों की कमी नहीं होगी: सुभाष गर्ग

तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने गांधीनगर स्थित राजकीय महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज में पंचरंग प्रदर्शनी का उद्घाटन किया है।

13/12/2019

राजस्थान के स्कूलों में 26 जनवरी से प्रार्थना सभा में संविधान प्रस्तावना का होगा वाचन

शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद डोटासरा ने शुक्रवार को कहा है कि 26 जनवरी से राज्य के विद्यालयों में प्रार्थना सभा में भारतीय संविधान की प्रस्तावना का भी वाचन करवाया जाएगा।

24/01/2020

सीएस कोर्स करना होगा आसान, छात्र कभी भी दें सकेंगे ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा

प्रदेश के साथ ही देशभर के विद्यार्थियों को भारतीय कंपनी सचिव संस्थान में आसानी से प्रवेश मिल सकेगा। इसके लिए संस्थान सीएस की परीक्षा के लिए ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा आयोजित करेगा, जिसको छात्र कभी भी अपनी सुविधा के अनुसार दे सकेंगे।

18/11/2019

राजस्थान हाईकोर्ट की सख्ती के बाद तीन जिलों में होगी एएलओ परीक्षा

राजस्थान हाईकोर्ट की सख्ती के बाद आरपीएससी कनिष्ठ विधि अधिकारी भर्ती-2019 की परीक्षा जयपुर, जोधपुर और अजमेर में आयोजित करेगा। कोर्ट के आदेश की पालना में आरपीएससी सचिव ने पेश होकर इस संबंध में अपना शपथ पत्र पेश किया।

20/12/2019