Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of June 2020
 
शिक्षा जगत

बंद हो सकता है राजस्थान यूनिवर्सिटी का 30 साल पुराना जनसंचार केन्द्र

Tuesday, May 14, 2019 11:30 AM
राजस्थान विश्वविद्यालय का जनसंचार केन्द्र अब बंद होने के कगार पर पहुंच गया है। इसका मुख्य कारण शिक्षकों की कमी है।

जयपुर। राजस्थान विश्वविद्यालय का जनसंचार केन्द्र अब बंद होने के कगार पर पहुंच गया है। इसका मुख्य कारण शिक्षकों की कमी है। यहां पर अभी पढ़ा रहे शिक्षक अब हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय जयपुर में आगामी शैक्षणिक सत्र 2019-20 में शिफ्ट होंगे। इसके बाद यहां पर आरयू का एक भी शिक्षक नहीं रहेगा। ऐसे में आरयू प्रशासन को इस विभाग को चलाना संभव नहीं हो पाएगा।

दरअसल बीजेपी ने संसाधनों की कमी का हवाला देकर हरिदेव जोशी पत्रकारिता विवि को बन्द किया, जिसे कांग्रेस सरकार ने फिर से शुरू कर दिया है। जिसके चलते आरयू के पास इस विभाग को बंद करने की समस्या सामने आ गई है। जबकि यह विभाग पिछले 30 सालों से चल रहा है। आरयू में सत्र 1991-92 से स्ववित्त पोषित (एसएफएस) आधार पर जनसंचार केंद्र शुरू किया गया था। जिसमें एक वर्षीय स्रातकोत्तर डिप्लोमा कोर्स कराया जाता था। 1992-93 से डिप्लोमा के स्थान पर एक वर्षीय स्नातक कोर्स शुरू किया गया। 2001 से दो वर्षीय स्रातकोत्तर कोर्स एसएफएस स्कीम में चलाया गया।

विरोध में आए शिक्षक और छात्र
इसके विरोध में शिक्षक, छात्र और पूर्व छात्र आ गए है तथा इसे पत्रकारिता विभाग को नियमित रूप से चालू रखने की मांग कर रहे हैं। एबीवीपी मंगलवार को आरयू मुख्य द्वार पर विरोध-प्रदर्शन करेगी। ऐसे में अब सरकार को इस विवि के लिए भी नए पद सृजन कर इस विभाग के संचालन में मदद करनी चाहिए। उधर, आरयू के पूर्व अध्यक्ष डॉ.अखिल शुक्ला ने भी इस केन्द्र को बंद करने का विरोध किया है।

इनका कहना है
शिक्षकों की कमी के चलते यह विभाग बंद होने की कगार पर है, लेकिन हम इसको बंद करने के बजाए बीच का कोई भी रास्ता निकालकर का प्रयास करेंगे और इस सेंटर को चलाने का प्रयास करेंगे।’
- प्रो.आरके कोठारी, कुलपति, राजस्थान विश्वविद्यालय

 

यह भी पढ़ें:

स्टूडेंट्स के भीतर छुपे टैलेंट को पहचानेगा स्कूल चैंप्स

बच्चों के भीतर वैज्ञानिक छुपा है या डॉक्टर या फिर इंजीनियर, स्कूल चैंप्स ओलंपियाड से आप आसानी से यह जान सकेंगे।

10/12/2019

इंद्रधनुष के रंगों पर बच्चों ने दी परफॉर्मेंस

इंद्रधनुष में सात रंगों में एक भी रंग नहीं होगा, तो वह इंद्रधनुष नहीं कहलाएगा। इसी थीम को बच्चों ने मंच पर अपनी परफॉर्मेंस से बखूबी साकार किया।

05/12/2019

राजस्थान: सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को गले में लटकाने होंगे परिचय-पत्र

सरकारी स्कूलों में शिक्षकों को गले में लटकाने होंगे परिचय-पत्र राज्य के लिए 155 लाख का बजट मंजूर

20/01/2020

UGC ने स्टूडेंट्स की शिकायतों के समाधान के लिए शुरू की हेल्पलाइन, प्रकोष्ठ का किया गठन

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए लॉकडाउन से होने वाली समस्यायों के मद्देनजर विश्वविद्यालय एवं कॉलेज के छात्रों की शिकायतों को सुलझाने के लिए एक प्रकोष्ठ का गठन किया है। यूजीसी द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार इन छात्रों की शिकायतों के निराकरण के लिए एक हेल्पलाइन भी शुरू की गई है।

11/05/2020

नार्थ इंडिया इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस का समापन

इन्टरनेशनल स्कूल आॅफ इन्फोर्मेटिक्स एण्ड मैनेजमेन्ट टैक्निकल कैम्पस (आईआईआईएम), इंडिया डवलपमेंट कोएलिशन आॅफ अमेरिका (आईडीसीए), रोटरी क्लब गुरूकुल एवं जयपुर संकल्प के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित दो दिवसीय 9वीं नार्थ इंडिया इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस का समापन हुआ।

27/02/2020

शिक्षकों को ही अटपटी लग रही ऑनलाइन पढ़ाई, माना अव्यवहारिक

कोरोना के कारण स्कूली बच्चों की एग्जाम और उसके बाद की पढ़ाई में परेशानी के बदले ऑनलाइन पढ़ाई की सरकारी मंशा में शिक्षकों की सहमति ही नहीं बन पा रही। अधिकांश शिक्षकों ने इसे अव्यवहारिक माना है। कुछ शिक्षक संगठनों का मानना है कि सरकार ने बच्चों और अभिभावकों को राहत देने के लिए ऐसा करने की बात कही है, लेकिन राजस्थान में पिछड़े जिलों और गांवों में यह व्यवस्था व्यवहारिक रूप नहीं ले पाएगी।

11/04/2020

स्पेशल चाइल्ड ने दी बेस्ट परर्फोमेंस

पॉश इंफोटेनमेंट एवं श्री गज लक्ष्मी इवेंट कंपनी की ओर से बुधवार को मानसरोवर स्थित विल्फ्रैड कॉलेज में ग्रैंड क्रिसमस कार्निवल-2019 का आयोजन हुआ।

26/12/2019