Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 26th of February 2020
 
स्वास्थ्य

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

Friday, October 04, 2019 18:45 PM
फोटो साभार, ट्विटर @swayamhealth

नई दिल्ली। देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे स्वयं एएचएम कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा। इसे स्टार्टअप कंपनी संस्कारी टेक स्मार्ट सोल्यूशन्स प्राइवेट लिमिटेड ने विकसित किया है। यह एक हेल्थ केयर सुविधा है। जो हाल ही में शुरू हुई है। स्वयं एनीटाइम हेल्थ मॉनिटरिंग उपकरण शायद भारत का सबसे उन्नत और स्वयं निगरानी करने वाला स्वास्थ्य जांच POCT सिस्टम है। स्टार्टअप के प्रतिनिधि ने बताया कि स्वयं एएचएम उपयोग करने में बहुत आसान है। उपयोगकर्ता सामान्य प्रक्रिया से ही इसे काम ले सकेगा। यूजर को कम्प्यूटर की बेसिक जानकारी होनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि फिलहाल मशीन 58 तरह की जांच कर सकती है, जिसमें खून में ग्लूकोज, डेंगू, हीमोग्लोबिन, टाइफाइड, एचआईवी, मलेरिया, चिकनगुनिया, एलिफेंटियासिस, मूत्र परीक्षण, ईसीजी, कान का परीक्षण और त्वचा का परीक्षण शामिल है। यह हाईटेक जांच प्रणाली कुछ ही मिनटो में प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक दोनो प्रारूप में रिपोर्ट दे देता है, जबकि आम तौर पर ऐसी रिपोर्ट प्राप्त करने में कुछ घंटे या कुछ दिन जाते हैं।

स्टार्टअप कंपनी का कहना है कि स्वयं एएचएम भारत निर्मित उपकरण है, जो देश में मेडिकल जांच के परिदृश्य में एक क्रांति ला देगा। कंपनी का कहना है कि इसके निर्माण पर काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया आई है। हमें निजी और सरकारी क्षेत्रों के संगठनों की ओर से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली है। कंपनी ने कहा कि जहां कहीं भी हमने पिछले 6 महीने में विचारों का प्रमाण पेश किया, हर किसी ने हमारा हौसला बढ़ाया है। हमें भारत के विभिन्न हिस्सों जैसे भुवनेश्वर, गुड़गांव और इंदौर से ऑर्डर मिले और हमने वहां मशीन भी पहुंचा दी है।

स्टार्टअप के संस्थापकों में से एक प्रीतम कुमावत ने बताया कि स्वयं कियोस्क को कॉर्पोरेट भवनों, बिजनेस पार्क, ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्रों, चिकित्सकों के क्लिनिकों, शॉपिंग मॉल, हवाई अड्डों, उद्योगों और आवासीय कॉलोनियों में स्थापित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है।

13/02/2020

युवाओं और महिलाओं में बढ़ रहे हार्ट फेलियर के मामले, 50 साल से कम उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित

जयपुर में एक चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। दरअसल 50 साल से कम आयु वर्ग के मरीजों में हार्ट फेलियर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि आमतौर पर 60 से 65 वर्ष की आयु के लोगों में हार्ट फेलियर होता है।

14/02/2020

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

तनावयुक्त जीवनशैली, अनियमित दिनचर्या से होती हैं ये बीमारियां

विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर राजस्थान स्वास्थ्य योग परिषद ट्रस्ट, योग भवन, शास्त्री नगर में न्यूरो केयर, जागरण शिविर का आयोजन हुआ, जिसमें संतोकबा दुर्लभजी अस्पताल के न्यूरो फि जिशियन डॉ. नीरज भूटानी और न्यूरो सर्जन डॉ. डीपी शर्मा ने व्याख्यान दिया।

08/04/2019

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019

फिट मूवमेंट के तहत प्रदेश के युवाओं को करेंगे अवेयर

फिट इंडिया मूवमेंट की तर्ज पर एक वेलफेयर सोसायटी की ओर से फिट राजस्थान मूवमेंट का आयोजन किया जाएगा।

03/12/2019

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है।

19/02/2020