Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 2nd of June 2020
 
स्वास्थ्य

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

Friday, October 04, 2019 18:45 PM
फोटो साभार, ट्विटर @swayamhealth

नई दिल्ली। देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे स्वयं एएचएम कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा। इसे स्टार्टअप कंपनी संस्कारी टेक स्मार्ट सोल्यूशन्स प्राइवेट लिमिटेड ने विकसित किया है। यह एक हेल्थ केयर सुविधा है। जो हाल ही में शुरू हुई है। स्वयं एनीटाइम हेल्थ मॉनिटरिंग उपकरण शायद भारत का सबसे उन्नत और स्वयं निगरानी करने वाला स्वास्थ्य जांच POCT सिस्टम है। स्टार्टअप के प्रतिनिधि ने बताया कि स्वयं एएचएम उपयोग करने में बहुत आसान है। उपयोगकर्ता सामान्य प्रक्रिया से ही इसे काम ले सकेगा। यूजर को कम्प्यूटर की बेसिक जानकारी होनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि फिलहाल मशीन 58 तरह की जांच कर सकती है, जिसमें खून में ग्लूकोज, डेंगू, हीमोग्लोबिन, टाइफाइड, एचआईवी, मलेरिया, चिकनगुनिया, एलिफेंटियासिस, मूत्र परीक्षण, ईसीजी, कान का परीक्षण और त्वचा का परीक्षण शामिल है। यह हाईटेक जांच प्रणाली कुछ ही मिनटो में प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक दोनो प्रारूप में रिपोर्ट दे देता है, जबकि आम तौर पर ऐसी रिपोर्ट प्राप्त करने में कुछ घंटे या कुछ दिन जाते हैं।

स्टार्टअप कंपनी का कहना है कि स्वयं एएचएम भारत निर्मित उपकरण है, जो देश में मेडिकल जांच के परिदृश्य में एक क्रांति ला देगा। कंपनी का कहना है कि इसके निर्माण पर काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया आई है। हमें निजी और सरकारी क्षेत्रों के संगठनों की ओर से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली है। कंपनी ने कहा कि जहां कहीं भी हमने पिछले 6 महीने में विचारों का प्रमाण पेश किया, हर किसी ने हमारा हौसला बढ़ाया है। हमें भारत के विभिन्न हिस्सों जैसे भुवनेश्वर, गुड़गांव और इंदौर से ऑर्डर मिले और हमने वहां मशीन भी पहुंचा दी है।

स्टार्टअप के संस्थापकों में से एक प्रीतम कुमावत ने बताया कि स्वयं कियोस्क को कॉर्पोरेट भवनों, बिजनेस पार्क, ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्रों, चिकित्सकों के क्लिनिकों, शॉपिंग मॉल, हवाई अड्डों, उद्योगों और आवासीय कॉलोनियों में स्थापित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:

सेरेब्रल मलेरिया की दस्तक, चपेट में आई बालिका

डेंगू बुखार और सामान्य मलेरिया के बाद अब प्रदेश में सेरेब्रल मलेरिया ने भी दस्तक दे दी है। इस बीमारी को जानलेवा फालस्पिैरम मलेरिया के नाम से भी जाना जाता है।

18/10/2019

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

Video: जानिए, अस्थमा के इलाज से जुड़ी इनहेलेशन थैरेपी के बारे में

जागरुकता का अभाव, बदलती जीवनशैली, अनुचित खानपान और उससे बढ़ता मोटापा सहित प्रदूषण से अस्थमा तेजी से बढ़ रहा है।

07/05/2019

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है।

13/02/2020

विश्व में टीबी के करीब 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित : गुप्ता

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चयेरमैन डॉ. एसडी गुप्ता ने कहा कि विश्व में टीबी के लगभग 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित हैं।

05/12/2019

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है।

03/06/2019

नाइजीरियन युवक के खराब हो चुके कूल्हे के जोड़ों का प्रत्यारोपण

नाईजीरिया के अमादि ओजी कूल्हों के जोड़ों में असहनीय दर्द के चलते चलने-फिरने तक के लिए भी मोहताज हो गए। मरीज जब जयपुर आया तो यहां जटिल ऑपरेशन कर मरीज के दोनों कूल्हे के जोड़ प्रत्यारोपण किया गया।

11/09/2019