Dainik Navajyoti Logo
Friday 28th of February 2020
 
स्वास्थ्य

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

Thursday, October 03, 2019 18:20 PM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक हैं जो त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां देर से पड़ें इसलिए एंटी एजिंग उत्पादों का प्रयोग किया जाता है। इनमें सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है। एक विशेषज्ञ कॉस्मेटोलॉजिस्ट से परामर्श लेकर बोटोक्स का सही उपयोग करने से आप अपने चेहरे की झुर्रियों ठीक कर सकते हैं। यह ट्रीटमेंट तीस वर्ष से अधिक की उम्र के लोगों के लिए ही है। इस ट्रीटमेंट का लाभ पुरुष और महिलाएं दोनों उठा सकते हैं।

क्या होता है बोटोक्स ट्रीटमेंट
नारायणा मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के सीनियर कॉस्मेटिक सर्जन डॉ. सुनीश गोयल ने बताया कि बोटोक्स यानी बोटयुलिनस टॉक्सिन न्यूरोटॉक्सिंस नामक रसायन होता है जो हमारी त्वचा के लिए जवानी देने का काम करता है। बोटोक्स इंजेक्शन के द्वारा स्किन के मांसपेशियों में दी जाती है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

विशेषज्ञ से ही लें परामर्श
बोटोक्स के माध्यम से झुर्रियों का इलाज विश्व के कई देशों में किया जाता है लेकिन यह सर्जीकल उपचार की श्रेणी में नहीं आता। त्वचा में झुर्रियों की जांच करने के बाद ही उनमें बोटोक्स इंजेक्ट करने की मात्रा तय की जाती है। इसके लिए आपको एक अनुभवी विशेषज्ञ से ही झुर्रियों का उपचार कराना चाहिए। डॉ. गोयल ने बताया कि आमतौर पर एक से तीन इंजेक्शन हर मांसपेशी में लगाए जाते हैं, इंजेक्शन से होने वाले मामूली दर्द को डॉक्टर लोकल एनस्थीसिया देकर दूर करते हैं। इनके उपचार के 20 घंटे बाद ही सुइयों के निशान मिट जाते हैं।

यह भी पढ़ें:

गंभीर कैंसर रोगियों का दर्द कम करती है पैलिएटिव थैरेपी

कैंसर एक घातक व दिल दहला देने वाली जानलेवा बीमारी है। दुनिया भर में होने वाली छह में से एक व्यक्ति की मौत का कारण कैंसर है।

18/04/2019

मरने के बाद तीन लोगों को नई जिंदगी दे गया हरीश, लीवर और किडनी की डोनेट

28 साल का हरीश मरने के बाद भी तीन लोगों को नई जिन्दगी दे गया। रोड एक्सीडेंट के बाद ब्रेन डेड हुए जयपुर के हरीश के परिजनों ने ब्रेन डैड के लिए बनी कमेटी और अस्पताल के चिकित्सकों की समझाइश के बाद उसकी दोनों किडनी और लिवर दान करने की रजामंदी दी।

20/12/2019

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020

देश में 16 प्रतिशत बच्चों में बिस्तर गीला करने की बीमारी

देश में स्कूल जाने की उम्र वाले 12 से 16 प्रतिशत बच्चे सोते समय बिस्तर गीला करने की समस्या से जूझ रहे हैं। यह समस्या न सिर्फ उनके व्यक्तित्व को प्रभावित करती है बल्कि उनके आत्मविश्वास को भी कमजोर कर रही है।

06/04/2019

WHO ने कोरोना वायरस को दिया COVID-19 नाम, कहा- 18 महीने में तैयार होगी वैक्सीन

दुनिया के अलग-अलग हिस्‍सों में वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निपटने की मुहिम में लगे हैं। इस बीच जिनेवा में कोरोना पर दो दिवसीय वैश्विक अध्ययन और नवाचार सम्मेलन में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम गेब्रेयसेस ने कोरोना को COVID-19 का नाम दिया।

12/02/2020

डीआरडीओ ने हिमालय की जड़ी-बूटियां से बनाई सफेद दाग की दवा

देश के प्रमुख रक्षा शोध संगठन ने सफेद दाग की हर्बल दवा मरीजों के विकसित की थी। ये दवा मरीजों के लिए रामबाण साबित हो रही है।

25/06/2019

गतिहीन शुक्राणु लेकिन लेजर आईवीएफ पद्धति से पितृत्व सुख

उदयपुर। जयपुर के अविनाश कुमार के रूप में (बदला नाम) के शुक्राणु गतिहीन होने का एक अनूठा मामला सामने आया है।

23/09/2019