Dainik Navajyoti Logo
Friday 5th of June 2020
 
स्वास्थ्य

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

Wednesday, April 17, 2019 11:40 AM
कांसेप्ट फोटो

जयपुर। हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है। फैक्टर रिप्लेसमेंट थैरेपी तक आसान पहुंच और फिजियोथैरेपी के जरिए हीमोफीलिया के मरीज विशेष रूप से बच्चे खून से संबंधित इस जानलेवा बीमारी से लड़ सकते हैं।

आधारभूत जानकारी की कमी और हीमोफीलिया का इलाज नहीं हो पाने के कारण जान जाने का खतरा बहुत ज्यादा होता है। चिकित्सकों ने सरकारी केंद्रों पर जांच की सुविधा, फैक्टर रिप्लेसमेंट थेरेपी और फिजियोथेरेपी तक पहुंच सुनिश्चित करने में सरकार के सहयोग पर भी जोर दिया है। हीमोफीलिया फेडरेशन (इंडिया) के मुताबिक भारत में हीमोफीलिया के 20 हजार से ज्यादा रजिस्टर्ड मरीज हैं। हालांकि भारत की आबादी को देखते हुए अनुमान है कि यह संख्या कहीं ज्यादा हो सकती है।

विशेषज्ञों की राय
जेके लोन हॉस्पिटल जयपुर के मेडिकल सुपरिन्टेन्डेन्ट (पेडिअट्रिशन) डॉ. गोविन्द गुप्ता ने बताया कि पर्याप्त फिजियोथेरेपी की भी यह सुनिश्चित करने में अहम भूमिका रहती है कि ऐसे बच्चे सक्रिय और स्वस्थ बने रहें। समाज और सरकार को खून से जुड़ी इस बीमारी से लड़ने की दिशा में हाथ मिलाने की जरूरत है। बीमारी के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं होने और पर्याप्त प्रबंध नहीं होने से यह बीमारी जानलेवा साबित हो सकती है। हीमोफीलिया का इलाज जरूरत के अनुरूप फैक्टर रिप्लेसमेंट थेरेपी से किया जा सकता है। खून का थक्का जमाने वाले फैक्टर के प्रोफिलैक्टिक इंफ्यूजन के जरिए खून के असामान्य बहाव को रोका जा सकता है। डॉ. गुप्ता ने बताया कि फैक्टर रिप्लेसमेंट थेरेपी और बीमारी की जांच के लिए सरकारी केंद्र उपलब्ध हैं, लेकिन देश में इसको लेकर पर्याप्त जागरुकता नहीं है।

हीमोफीलिया क्या है? 
हीमोफीलिया खून से जुड़ा एक आनुवांशिक जेनेटिक विकार है, जिसमें शरीर में खून का थक्का जमाने की क्षमता खत्म हो जाती है। इस दुर्लभ बीमारी के शिकार व्यक्ति में खून सामान्य लोगों की तुलना में तेजी से नहीं बहता है, लेकिन ज्यादा देर तक बहता रहता है। उनके खून में थक्का जमाने वाले कारक (क्लोटिंग फैक्टर) पर्याप्त नहीं होते हैं। क्लोटिंग फैक्टर खून में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है, जो चोट लगने की स्थिति में खून को बहने से रोकता है। यह एक गंभीर बीमारी है, जिसमें ज्यादा खून बहने के कारण मरीज की जान भी जा सकती है। 

यह भी पढ़ें:

विषम परिस्थितियों में नई तकनीक व प्रोटोकॉल डिजाइन कर नवजात की सफल हार्ट सर्जरी

फोर्टिस हॉस्पिटल के शिशु हृदय रोग सर्जरी विषेशज्ञ डॉ. सुनिल कौशल ने 15 दिन के बच्चे की दुर्लभ सफल आर्टियल स्वीच सर्जरी की। इस सर्जरी के दौरान डॉ. कौशल ने चिकित्सा जगत में नए आयाम स्थापित किए। डॉ. सुनील ने बताया की बच्चे को हृदय की दुर्लभ जन्मजात बीमारी थी, जिसे ट्रांसपोजीशन ऑफग्रेट आर्टरी कहा जाता है और उसका एक मात्र ईलाज आर्टियल स्वीच नामक हार्ट का ऑपरेशन ही है।

02/05/2020

मिलिट्री हॉस्पिटल में लाइफ स्टाइल क्लीनिक शुरू

जयपुर के मिलिट्री हॉस्पिटल में दक्षिण पश्चिमी कमान के एमजी मेजर जनरल मनु अरोड़ा ने लाइफ स्टाइल क्लीनिक का उद्घाटन किया। क्लीनिक में मरीजों को फिजिशियन, डाइटीशियन, मनोचिकित्सक, हड्डी रोग विशेषज्ञ, फिजियोथैरेपिस्ट और मोटिवेशन के लिए परामर्श दिया जाएगा।

27/09/2019

एक्सप्रेस-वे पर दो दुर्घटनाओं में मां-बेटे सहित आठ लोगों की मौत, 15 घायल

मथुरा : दिल्ली-आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे पर आज तड़के सड़क किनारे खड़ी बस को टैंकर ने पीछे से टक्कर मार दिया, जिसके कारण बस के बाहर खड़े लोगों में से छह की मौके पर ही मौत हो गयी.

16/08/2016

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019

एसएमएस अस्पताल में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल के चिकित्सकों ने एक महीने के भीतर दो हार्ट ट्रांसप्लांट कर इतिहास रच दिया है।

13/02/2020

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019