Dainik Navajyoti Logo
Thursday 9th of July 2020
 
स्वास्थ्य

नई तकनीकों से संभव है ब्रेन ट्यूमर का इलाज

Saturday, June 08, 2019 11:45 AM
कांसेप्ट फोटो

जयपुर। 30 साल के हुलासमल और 50 साल की यशोदा को जब पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है तो मानों उनकी जिंदगी जैसे थम सी गई थी। जबकि नई तकनीकों से ब्रेन ट्यूमर का ईलाज संभव है और व्यक्ति जिंदगी पहले की तरह ही जी सकता है। वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे के मौके पर नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पीटल में इलाज से पूरी तरह ठीक हो चुके कुछ मरीजों ने अपनी कहानी, अपनी जुबानी बयां कर लोगों को बताया कि ब्रेन ट्यूमर होने का मतलब यह नहीं कि जिंदगी खत्म, इसका इलाज संभव है और बाकी की जिंदगी खुशहाल जी सकते हैं।

लगा कि कभी बोल नहीं पाऊंगा
बीकानेर के तीस वर्षीय हुलासमल जांगिड़ के ब्रेन में स्पीच वाले एरिया में ट्यूमर था। जानकारों की सलाह पर सीनियर न्यूरो सर्जन डॉ. के के बंसल के पास आया तो हौसला बंधा। डॉ. बंसल ने उसकी स्थिति देखते हुए उसे बिना बेहोश किए अवेक ब्रेन ट्यूमर सर्जरी की ताकि स्पीच वाले भाग को नुकसान न हो। ट्यूमर निकल गया और अब जिंदगी फिर से खुशियों से भर गई है।

हाथ पैरों में सुन्नपन था, निकला ट्यूमर
अजमेर की 50 वर्षीय गृहणी यशोदा ने बताया कि मुझे हाथ पैरों में अजीब सुन्नपन और आंखें स्थिर रहने की शिकायत थी। जांच कराई तो ब्रेन ट्यूमर सामने आया। सुनकर पैरों तले से जमीन खिसक गई कि अब बच्चों को कैसे पाल पाउंगी। मगर तीन साल पहले यहां सर्जरी कराई और आज तक कोई परेशानी नहीं हुई, घर का सारा काम पहले की तरह कर पा रही हूं।

नारायणा हॉस्पिटल के न्यूरो सर्जन डॉ. केके बंसल ब्रेन ट्यूमर क्यों होते हैं इसका वास्तविक कारण तो अभी तक पता नहीं चला है, मगर इससे बचाव हो सकता है। पूरी नींद लें, मोबाइल फोन स्क्रीन से जितना हो सके दूर रहें, रेडिएशन वाले क्षेत्र से दूरी बनाएं, खानपान संतुलित रखें, तनाव से दूर रहें। अत्याधिक तकनीकों ने इसका इलाज संभव कर दिया है।

सीनियर न्यूरो सर्जन डॉ. कृष्णहरि शर्मा का कहना है कि ब्रेन ट्यूमर से अब डरने की जरूरत नहीं है। अब पूरा ब्रेन खोले बिना ही एंडोस्कॉपिक व माइक्रोस्कॉपिक तकनीक से ऑपरेशन किए जा रहे हैं। भविष्य में जेनेटिक इंजनियरिंग विकसित होने पर ब्रेन में ट्यूमर बढ़ने को भी रोका जा सकेगा।    

यह भी पढ़ें:

डीआरडीओ ने हिमालय की जड़ी-बूटियां से बनाई सफेद दाग की दवा

देश के प्रमुख रक्षा शोध संगठन ने सफेद दाग की हर्बल दवा मरीजों के विकसित की थी। ये दवा मरीजों के लिए रामबाण साबित हो रही है।

25/06/2019

वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे: कोरोना वायरस महामारी के दौरान जानलेवा हो रहा है हाइपरटेंशन

रक्तचाप से जुड़ी बीमारी हाइपरटेंशन आज दुनियाभर में अपनी जड़ें जमा चुकी है। कोरोना के बीच कई ऐसी रिसर्च भी आई हैं, जिसमें यह सामने आया है कि हाइपरटेंशन के मरीजों को कोरोना का संक्रमण होता है तो यह उनके लिए अन्य मरीजों की अपेक्षा अधिक जानलेवा है।

17/05/2020

एसएमएस अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में बनेगा स्पेशियलिटी क्लीनिक

सवाई मानसिंह अस्पताल में अब मिर्गी, लकवा, डिमेंशिया एवं मूवमेंट डिस ऑर्डर के मरीजों के लिए राहत की खबर है। इन मरीजों के लिए अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग में जल्द ही स्पेशियलिटी क्लीनिक शुरू की जाएगी।

22/11/2019

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे।

08/02/2020

स्तन हटाए बिना लेजर से कैंसर का कारगर इलाज

देश में महिलाओं की मौत के सबसे बड़े कारण स्तन कैंसर से जंग में लेजर तकनीक काफी कारगर सिद्ध हो रही है। कैंसर सर्जरी के कुल मामलों में 80 प्रतिशत मुख तथा स्तन कैंसर के हैं ऐसे में इस नई तकनीक को सभी के लिए सुलभ बनाने की सख्त जरूरत है।

22/11/2019

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।

08/01/2020