Dainik Navajyoti Logo
Thursday 22nd of April 2021
 
स्वास्थ्य

पीठ से महाधमनी में घुसकर जांघ तक पहुंचा मशीन का टुकड़ा, सर्जरी कर पैर बचाया

Friday, September 25, 2020 11:10 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। जाको राखे साइंया, मार सके न कोय कहावत कोटा के 35 वर्षीय राजेंद्र कुमार (परिवर्तित नाम) के साथ चरितार्थ हुई। मार्बल की खदान में हुए एक हादसे में बंदूक की गोली से तेज रफ्तार में मशीन का टुकड़ा पीठ से उनकी छाती में घुसकर हृदय की महाधमनी को भेदता हुआ अंदर चला गया। वहीं रक्त के बहाव के साथ जांघ तक जा पहुंचा और जांघ की नस को बाधित कर दिया, जिसके कारण मरीज का पैर पैरालाईज (लकवा) जैसा हो गया। इस हादसे के कारण मरीज की छाती में खून भी भर गया था। ऐसे मामलों में महाधमनी छिलने से आंतरिक रक्तस्त्राव के कारण रोगी के बचने की संभावना न्यूनतम रहती है, लेकिन एक तरह से ईश्वरीय चमत्कार एवं शहर के नारायणा हॉस्पिटल की रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस व कार्डियक सर्जरी टीम के संयुक्त प्रयासों से मरीज की जान बच गई। आश्चर्य वाली बात यह रही है कि जिस जगह महाधमनी छीली थी, वहां का जख्म थ्रोमबोसिस (ब्लड क्लॉटिंग) के कारण अपने आप ही भर गया, जो अपने आप में एक रेयर मामला है।

महाधमनी व दूसरे हिस्सों को पहुंचा नुकसान
हादसे में मशीन की ब्लेड का एक टुकड़ा टूटकर गोली से भी तेज रफ्तार से मरीज की पीठ में घुसा और हृदय की महाधमनी (एओर्टा) को भेदता हुआ रक्त के बहाव के साथ जांघ की बड़ी नस में चला गया और फंस गया। हादसे की वजह से मरीज खदान में ही अचेत सा हो गया था, उसे तुरंत पास के अस्पताल में ले जाया गया, जहां प्रारंभिक उपचार किया गया। मरीज के पैर में फिर भी दर्द, सूजन एवं लकवे जैसी स्थिति थी, इसलिए उसके परिजन उसे तुरंत जयपुर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल ले आए, जहां सीनियर कार्डियक सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने उनका केस डायग्नोस किया और जटिल सर्जरी कर उनकी जान बचाई।

सर्जरी कर जांघ से निकाला 2 इंच का बड़ा टुकड़ा
नारायणा हॉस्पिटल के सीनियर कार्डियो-थोरेसिक व वैस्कुलर सर्जन डॉ. अंकित माथुर ने बताया कि ऐसे मामलों में रेपिड इमरजेंसी रेस्पांस एवं टीम वर्क का बहुत महत्व है। अगर समय पर मरीज के जांघ की सर्जरी नहीं की जाती तो पैर में गैंगरीन हो जाता और पैर काटना पड़ता। करीब 3 घंटे चली सर्जरी में 2 इंच से बड़े टुकड़े को पैर से बहुत सावधानी से, नस को नुकसान पहुंचाए बिना निकाला गया और फिर वहां पैच लगाया गया। छाती एवं महाधमनी में हुई क्षति को कंजर्वेटिवली (दवाईयों द्वारा) मैनेज किया गया। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और उसे अस्पताल से डिसचार्ज कर दिया गया है।
 

यह भी पढ़ें:

ईएसआई मॉडल हॉस्पिटल में मनाया गया विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस

अजमेर रोड स्थित ईएसआई हॉस्पिटल में मनोरोग विभाग की ओर से विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर चिकित्सकों के लिए अवसाद एवं आत्महत्या के उपचार और रोकथाम को लेकर सेमिनार एवं मानसिक स्वास्थ्य प्रदर्शनी का आयोजन किया गया।

10/10/2019

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर आपातकाल किया घोषित

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 212 हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लगातार बढ़ने के कारण अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है।

31/01/2020

डीआरडीओ ने हिमालय की जड़ी-बूटियां से बनाई सफेद दाग की दवा

देश के प्रमुख रक्षा शोध संगठन ने सफेद दाग की हर्बल दवा मरीजों के विकसित की थी। ये दवा मरीजों के लिए रामबाण साबित हो रही है।

25/06/2019

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020

Video: मेंढक के स्टेम सेल से बनाया दुनिया का पहला जिंदा रोबोट, जो करेगा कैंसर का इलाज

अफ्रीकी मेंढक के स्टेम सेल से अमेरिका के वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला जिंदा और सबसे छोटा रोबोट तैयार किया है, जिसका आकार में इंच के 25वें भाग यानी 1 मिमी जितना है।

15/01/2020

डेंगू होने से फेफड़ों ने काम करना बंद कर दिया, वेंटीलेटर भी फेल, डॉक्टर्स ने बचाया

डेंगू के गंभीर स्थिति में हो जाने के बाद प्रिंस के फेफड़ों ने काम करना बंद कर दिया था। कृत्रिम सांस देने के लिए लगाया गया वेंटीलेटर भी फेल हो गया था।

18/10/2019