Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 2nd of June 2020
 
स्वास्थ्य

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

Saturday, June 01, 2019 15:10 PM

जयपुर। श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई। अपने कटे हाथ को लेकर इधर-उधर घूमने के बाद चेतन किसी तरह हैंड सर्जरी विशेषज्ञ डॉ. अमित मित्तल के पास पहुंचा जहां 10 घंटे की जटिल सर्जरी कर उसके हाथ को वापस जोड़ा जा सका।


पिछले दिनों हर रोज की तरह चेतन फैक्ट्री में काम कर रहा था। अचानक से कटिंग मशीन में उसका हाथ आ गया और हथेली कटकर अलग हो गई। चेतन करीब तीन घंटे तक इधर-उधर घूमता रहा। बाद में वह दुर्लभजी हॉस्पिटल पहुंचा, जहां सीनियर हैंड सर्जन डॉ. अमित मित्तल ने उसकी जरूरी जांच कर उसकी माइक्रो सर्जरी करने का निर्णय लिया और हथेली वापस जोड़ दी। हथेली की महीन संरचना को वापस जोड़ने के कारण यह सर्जरी मुश्किल रही। हाथ जुड़ने के बाद मरीज अपने हाथ की गतिविधियां कर पा रहा है।

क्यों जटिल थी सर्जरी ?
इस जटिल सर्जरी को सफलता से करने वाले डॉ. अमित ने बताया कि यह जोखिमभरी सर्जरी थी, क्योंकि हथेली की सघन संरचना में छोटी हड्डियों, मांसपेशियों और खून की नसों को हाथ के अगले व पिछले दोनों तरफ से वापस जोड़ना बहुत मुश्किल था। वहीं मरीज तीन घंटे बाद अस्पताल आया था, तब तक उसका काफी खून बह चुका था और शरीर के डेड पार्ट को फिर से जोडऩे पर डेड पार्ट का जहर बाकी शरीर में फैलने का भी खतरा था। मरीज की किडनी सहित दूसरे अंग प्रभावित हो सकते थे। वहीं कटे हुए हिस्से को शरीर से वापस जोडक़र उसमें रक्त का प्रवाह को बनाने भी मुश्किल था। इन सब खतरों का ध्यान रखते हुए मरीज का हाथ जोड़ा गया और अब मरीज अपने हाथ का मूवमेंट कर पा रहा है। मरीज का रेगुलर फॉलोअप किया जा रहा है और हाथा की मूवमेंट को बढ़ाने के की एक्सरसाइज कराई जा रही है।
 

यह भी पढ़ें:

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020

17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट अस्पताल से डिस्चार्ज, कुछ दिनों तक रहेगा चिकित्सकों की निगरानी में

प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल से 17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट को डिस्चार्ज कर दिया गया। वह अब पूरी तरह से स्वस्थ्य है और अपने रोजमर्रा के जरूरी काम करने में सक्षम है। लेकिन उअस्पताल प्रशासन की ओर से उसे एतिहात के लिए बनीपार्क जयसिंह हाइवे स्थित माधव आश्रम में रखा गया।

07/02/2020

ईएसआई मॉडल हॉस्पिटल में मनाया गया विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस

अजमेर रोड स्थित ईएसआई हॉस्पिटल में मनोरोग विभाग की ओर से विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर चिकित्सकों के लिए अवसाद एवं आत्महत्या के उपचार और रोकथाम को लेकर सेमिनार एवं मानसिक स्वास्थ्य प्रदर्शनी का आयोजन किया गया।

10/10/2019

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

CBSE की 10वीं-12वीं की परीक्षा के नतीजे जल्द, 9वीं, 11वीं के छात्रों को फेल होने पर मिलेगा एक और मौका

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जारी है और 50 दिन के भीतर यह काम पूरा हो जाएगा तथा जल्दी ही परीक्षा के नतीजे आ जाएंगे।

14/05/2020

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।

08/01/2020