Dainik Navajyoti Logo
Sunday 9th of August 2020
 
स्वास्थ्य

कटिंग मशीन से अलग हुई हथेली को सर्जरी कर जोड़ा

Saturday, June 01, 2019 15:10 PM

जयपुर। श्रम करने और रोजी-रोटी के लिए इंसान के हाथ ही उसका सबसे बड़ा जरिया होते हैं, और जब वही शरीर से अलग हो जाएं तो जिंदगी थम सी जाती है। कुछ ऐसा ही 20 वर्ष के चेतन (परिवर्तित नाम) के साथ हुआ जब फैक्ट्री में काम करते हुए कटिंग मशीन से उसकी हथेली कट कर अलग हो गई। अपने कटे हाथ को लेकर इधर-उधर घूमने के बाद चेतन किसी तरह हैंड सर्जरी विशेषज्ञ डॉ. अमित मित्तल के पास पहुंचा जहां 10 घंटे की जटिल सर्जरी कर उसके हाथ को वापस जोड़ा जा सका।


पिछले दिनों हर रोज की तरह चेतन फैक्ट्री में काम कर रहा था। अचानक से कटिंग मशीन में उसका हाथ आ गया और हथेली कटकर अलग हो गई। चेतन करीब तीन घंटे तक इधर-उधर घूमता रहा। बाद में वह दुर्लभजी हॉस्पिटल पहुंचा, जहां सीनियर हैंड सर्जन डॉ. अमित मित्तल ने उसकी जरूरी जांच कर उसकी माइक्रो सर्जरी करने का निर्णय लिया और हथेली वापस जोड़ दी। हथेली की महीन संरचना को वापस जोड़ने के कारण यह सर्जरी मुश्किल रही। हाथ जुड़ने के बाद मरीज अपने हाथ की गतिविधियां कर पा रहा है।

क्यों जटिल थी सर्जरी ?
इस जटिल सर्जरी को सफलता से करने वाले डॉ. अमित ने बताया कि यह जोखिमभरी सर्जरी थी, क्योंकि हथेली की सघन संरचना में छोटी हड्डियों, मांसपेशियों और खून की नसों को हाथ के अगले व पिछले दोनों तरफ से वापस जोड़ना बहुत मुश्किल था। वहीं मरीज तीन घंटे बाद अस्पताल आया था, तब तक उसका काफी खून बह चुका था और शरीर के डेड पार्ट को फिर से जोडऩे पर डेड पार्ट का जहर बाकी शरीर में फैलने का भी खतरा था। मरीज की किडनी सहित दूसरे अंग प्रभावित हो सकते थे। वहीं कटे हुए हिस्से को शरीर से वापस जोडक़र उसमें रक्त का प्रवाह को बनाने भी मुश्किल था। इन सब खतरों का ध्यान रखते हुए मरीज का हाथ जोड़ा गया और अब मरीज अपने हाथ का मूवमेंट कर पा रहा है। मरीज का रेगुलर फॉलोअप किया जा रहा है और हाथा की मूवमेंट को बढ़ाने के की एक्सरसाइज कराई जा रही है।
 

यह भी पढ़ें:

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020

नाइजीरियन युवक के खराब हो चुके कूल्हे के जोड़ों का प्रत्यारोपण

नाईजीरिया के अमादि ओजी कूल्हों के जोड़ों में असहनीय दर्द के चलते चलने-फिरने तक के लिए भी मोहताज हो गए। मरीज जब जयपुर आया तो यहां जटिल ऑपरेशन कर मरीज के दोनों कूल्हे के जोड़ प्रत्यारोपण किया गया।

11/09/2019

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।

30/11/2019

वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे: बच्चों में इन लक्षणों को ना करें अनदेखा, हो सकता है ब्रेन कैंसर

बच्चों में ब्लड कैंसर के बाद सर्वाधिक होने वाला कैंसर ब्रेन ट्यूमर है। नेशनल हेल्थ प्रोग्राम की ओर से जारी एक रिपोर्ट के अनुसार बड़ों के मुकाबले बच्चों में यह बीमारी ज्यादा तेजी से बढ़ रही है। इसके लक्षणों को अनदेखा करना हजारों बच्चों के अकाल मौत का कारण बन रहा है।

08/06/2020

लॉकडाउन में 10 हजार से ज्यादा कैंसर मरीजों का किया इलाज, WHO के सुरक्षा नियमों को अपनाते हुए उपचार

कैंसर रोगियों को समय पर उपचार मिले और उनकी बीमारी को फैलने से रोका जा सके इसके लिए लॉकडाउन के समय में भी भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर जयपुर की ओर से 10 हजार से ज्यादा कैंसर रोगियों को उपचार सुविधाएं उपलब्ध कराई गई।

15/06/2020

दृढ़ इच्छा शक्ति और उचित इलाज से कैंसर को हराना होना चाहिए हमारा लक्ष्य: गहलोत

विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हमारा लक्ष्य उचित उपचार एवं इच्छा शक्ति के माध्यम से कैंसर को हराने का होना चाहिए। सकारात्मक सोच, प्रतिरोध क्षमता और काबू पाने का दृढ़ संकल्प कैंसर के खिलाफ लड़ाई लड़ने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।

04/02/2020