Dainik Navajyoti Logo
Friday 30th of October 2020
 
स्वास्थ्य

हार्ट फेलियर इलाज के लिए नई दवा मंजूर, हृदय रोगियों को मिलेगी राहत

Saturday, August 29, 2020 09:35 AM
कॉन्सेप्ट फोटो।

जयपुर। हाल ही में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने हार्ट फेलियर विद रिड्यूज्ड इजेक्शन फ्रैक्शन (एचएफआरईएफ) से पीड़ित वयस्क मरीजों के इलाज के लिए डैपाग्लिफ्लोजिन नाम की दवा को मंजूरी दी है। इससे दिल की बीमारी और हार्ट फेलियर से होने वाली मरीजों की मौत का जोखिम कम होगा। इससे पहले मई के महीने में यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इस दवा को मंजूरी दी थी। दुनियाभर में हाइपरटेंशन या हाई ब्लड प्रेशर को दिल के रोगों और मरीजों की समय से पहले होने वाली मौत का खतरा होने के प्रमुख कारणों में से एक माना गया है। भारत में भी हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों की तादाद में बढ़ोतरी हो रही है।

जयपुर के इटरनल हॉस्पिटल के डीएम कार्डियोलॉजी और इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी के डायरेक्टर डॉ. संजीव के शर्मा के अनुसार डायबिटीज और कोलेस्ट्रोल के साथ हाई ब्लड प्रेशर भारत में कोरोनेरी हार्ट डिजीज के प्रमुख कारणों में से है, जिससे हार्ट फेल होता है। भारत में अन्य देशों के मुकाबले हार्ट फेलियर के काफी ज्यादा मरीज हैं। इसका प्रमुख कारण है कि भारतीयों में डायबिटीज और हाइपरटेंशन और कोलेस्ट्रोल ज्यादा पाया जाता है। इसके साथ ही उनमें धूम्रपान और बहुत ज्यादा मात्रा में शराब पीने की आदत होती है।

कारगर है नई दवा
डॉ. शर्मा ने बताया कि डैपाग्लिफ्लोजिन नाम की ओरल टैबलेट को मंजूरी मिली है। इस दवा का उद्देश्य दिल की बीमारियों से होने वाली मरीजों की मौत और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने का जोखिम कम करना है। डॉक्टर इस दवा को मंजूरी मिलने के बाद यह उम्मीद कर रहे हैं कि हार्ट फेलियर विद रिड्यूज्ड इजेक्शन फ्रेक्शन से पीड़ित मरीजों को ट्रीटमेंट का एक और अतिरिक्त विकल्प मिलेगा, जिससे रोगियों के जीवित रहने की दर में सुधार आएगा।
 

यह भी पढ़ें:

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है।

18/05/2020

गर्दन में डैंस की हड्डी का डॉक्टरों ने किया सफल ऑपरेशन

रामअवतार यादव उंचाई से गिर गया था, जिसके कारण उसकी गर्दन में गहरी चोट लग गई थी। एक्स-रे में सामने आया कि मरीज की गर्दन में डैंस की हड्डी का फैक्चर है।

19/10/2019

शोध पूरा हो तो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव, खर्च सिर्फ 4 हजार रुपए प्रतिमाह

कैंसर जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी का इलाज संभव हो गया है, वह भी महज कुछ हजार रुपए की मासिक दवा पर। यह दावा है प्रसिद्ध कैन्सर वैज्ञानिक डॉ. मंजु रे का। करीब चालीस वर्षों के गहन शोध के बाद उन्होंने कैंसर की दवा खोज निकाली है जिसका प्रथम और द्वितीय ट्रायल हो चुका है लेकिन बाजार में दवा आने से पहले तीसरा ट्रायल होना है।

10/10/2019

Video: मेंढक के स्टेम सेल से बनाया दुनिया का पहला जिंदा रोबोट, जो करेगा कैंसर का इलाज

अफ्रीकी मेंढक के स्टेम सेल से अमेरिका के वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला जिंदा और सबसे छोटा रोबोट तैयार किया है, जिसका आकार में इंच के 25वें भाग यानी 1 मिमी जितना है।

15/01/2020

गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन, मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ

जयपुर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने एक मरीज के गर्दन के ट्यूमर की जटिल सर्जरी कर उसे नया जीवन दिया है। ऑपरेशन में ट्यूमर को पूरी तरह निकाल दिया गया है। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है और खाना-पीना कर रहा है। इसके बाद अब मरीज की अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

19/08/2020

दक्षिण कोरिया के नौसेना स्टेशन में विस्फोट के बाद एक की मौत, 3 घायल

दक्षिण कोरिया के दक्षिण पूर्व में एक नौसेना स्टेशन पर एक पनडुब्बी पर मरम्मत के काम के दौरान दुर्घटनावश विस्फोट होने के बाद एक सैनिक की मौत हो गई और अन्य लापता हैं.

16/08/2016

SMS अस्पताल: हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद मरीज को वेलिंलेटर से हटाया, तबीयत में हो रहा सुधार

सवाई मानसिंह अस्पताल (SMS) में जिस मरीज का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ, उस मरीज को वेंटिलेटर से हटा दिया गया है और उसकी तबीयत में सुधार है।

17/01/2020