Dainik Navajyoti Logo
Friday 18th of June 2021
 
स्वास्थ्य

जेके लॉन अस्पताल में अब 'लिसा तकनीक' से होगा नवजात शिशुओं का इलाज

Monday, May 18, 2020 12:15 PM
लिसा तकनीक से होगा नवजात शिशुओं का इलाज।

जयपुर। जेके लॉन हास्पिटल में नवजात शिशुओं के फेफड़ों को विकसित करने के लिए अब लिसा (लेस इनवेसिव सर्फेंक्टेंट एडमिनिस्ट्रेशन) तकनीक से उपचार किया जाएगा। जेके लॉन अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई में इस मशीन को रखा गया है। डॉ. गुप्ता ने बताया कि नवजात शिशु इकाई में भर्ती ज्यादातर प्री मैच्योर बच्चे श्वास संबंधित बीमारी रेस्पिरेटरी डिस्ट्रैस सिंड्रोम से ग्रस्त होते हैं, जिसकी वजह से इन शिशुओं को जन्म के समय श्वास लेने में तकलीफ होती है। जिससे इन्हें वेंटिलेटर पर लेकर श्वास नली में इंडोट्राकेअल टयूब से सर्फेक्टेंट डाला जाता है तथा स्थिति में सुधार के बाद ही वेंटिलेटर से निकालने की कोशिश की जाती हैं एवं मरीज को सी-पैप मशीन का सपोर्ट दिया जाता है। नवजात को इस प्रक्रिया में जहां एक तरफ सांस लेने में फायदा मिलता है वहीं दूसरी तरफ टयूब एवं वेंटीलेटर के साइड इफैक्ट आने की संभावना बनी रहती है क्यूंकि प्री मैच्योर नवजात के फेफड़े अत्यंत नाजुक होते हैं। इन साइड इफैक्ट को कम करने के लिए लिसा तकनीक काफी महत्वपूर्ण है।

नवजात के फेफड़ों को क्षति से बचाना है उद्देश्य
नवजात गहन चिकित्सा इकाई के सह प्रभारी डॉ. विष्णु पंसारी (सहायक आचार्य) ने कहा कि डॉ. गुप्ता के निर्देशन में नवजात को सी-पैप मशीन पर रखते हुए वेंटीलेटर सपोर्ट व टयूब के बजाय सर्फेंक्टेंट दवा को बारीकी केथिटर से डालकर फेफड़ों को विकसित किया जाता है तथा बाद में कैथिटर को वापस निकाल लिया जाता है जिससे उसे वेंटिलेटर पर लेने की संभावना कम हो जाती है। इस तकनीक के इस्तेमाल का मुख्य उद्देश्य है नवजात के नाजुक फेफड़ों को ज्यादा से ज्यादा क्षति होने से बचाना हैं। अभी इस तकनीक से 1500 ग्राम से कम वजनी बच्चों का प्रारंभिक तौर पर उपचार किया जा रहा है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

कोरोना से अटकी 'रोशनी', संक्रमण के चलते दान नहीं हो सकी आंखें

राजस्थान में कोरोना महामारी के कारण अंधता से जूझ रहे हजारों लोगों के जीवन में रोशनी का इंतजार और लंबा हो गया है। संक्रमण के खतरे के चलते आंखें यानि कार्निया दान करने की रफ्तार पर ब्रेक से लग गए। प्रदेश में इस साल मार्च में कोरोना की दस्तक के बाद से कार्निया दान होने की प्रक्रिया एक तरह से थम सी गई।

04/01/2021

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे।

08/02/2020

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक से बोन कैंसर का इलाज, रिकवरी में लगने वाला समय और खर्च भी होगा कम

आइसक्रीम स्टिक टेक्निक बोन कैंसर से जुझ रहे रोगियों के इलाज की नवीनतम तकनीक के रूप में सामने आई है। इस तकनीक की सहायता से रोगी की कैंसर ग्रसित बोन को लिक्विड नाइट्रोजन की सहायता से कैंसर मुक्त करना संभव है।

12/06/2020

एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित मरीज की हिप जॉइंट सर्जरी, 3डी प्रिंटिंग तकनीक से राजस्थान में पहले ऑपरेशन का दावा

राजधानी के एचसीजी अस्पताल में 20 साल से एंकालूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस बीमारी से पीड़ित मरीज की सफल सर्जरी की गई। इस बीमारी में कूल्हे के जोड़ के एक जगह जड़ हो गए। डॉक्टर्स ने इस जटिल केस को 3डी प्रिंटिंग तकनीक की सहायता से सफलतापूर्वक ठीक कर दिया। दावा है कि राजस्थान में इस तरह की सर्जरी का यह पहला मामला है।

03/12/2019

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

SMS अस्पताल में कैंसर रोगियों को मिलेंगी आधुनिक सुविधाएं

एसएमएस अस्पताल में अब कैंसर सर्जरी और मेडिसिन विभाग के भर्ती मरीजों को अत्याधुनिक वातानुकूलित वार्ड की सुविधा मिलना शुरू हो गई है।

13/04/2019

विश्व में टीबी के करीब 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित : गुप्ता

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी के चयेरमैन डॉ. एसडी गुप्ता ने कहा कि विश्व में टीबी के लगभग 20 प्रतिशत मामले तम्बाकू सेवन से संबंधित हैं।

05/12/2019