Dainik Navajyoti Logo
Sunday 9th of August 2020
 
स्वास्थ्य

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

Tuesday, May 14, 2019 12:05 PM

जयपुर। ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी। सर्जरी के पहले के लक्षण काफी दर्दनाक होते हैं। मरीज को चलने में काफी दिक्कत आती है। इसलिए कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना जरूरी है जिससे ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बाद परेशानी ना हो। यदि इन बातो का ध्यान ना रखा जाए तो सर्जरी के बाद भी बेहतर परिणाम प्राप्त होना मुश्किल हैं।

ओवरवेट तो वजन कम करें
सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन डॉ. एस.एस. सोनी ने बताया कि, अगर आपका वजन आपकी हाइट के मुताबिक ज्यादा है और आप ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बारे में सोच रहे हैं, तो पहले वजन कम करना पड़ेगा। इसका फायदा यह होता है कि इससे सर्जरी के बाद कॉम्पलिकेशंस कम हो जाती हैं साथ ही सर्जरी की सफलता की संभावना भी कई गुणा अधिक हो जाती है।
अन्य बीमारियों पर हो कंट्रोल

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी से पहले जरूरी है कि अगर आपको कोई ओर दिक्कत है, तो उसे कंट्रोल में करें, जैसे- हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल या डायबिटीज। अगर आप स्मोक करते हैं, तो इसका दुष्प्रभाव भी सर्जरी पर पड़ सकता है। अगर आपको कोई स्किन प्रॉब्लम है या डेंटल डिजीज है, तो भी डॉक्टर को बताएं, क्योंकि दांतों की दिक्कत से सर्जरी के दौरान हिप या नी में इंफेक्शन फैलने का डर होता है। अगर आपको रुमेटॉयड आर्थराइटिस है, तो सर्जरी से एक महीना पहले इसकी दवाईयां रोकनी पड़ सकती हैं, ताकि ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ठीक से हो जाए।

हिप और नी रिप्लेसमेंट सर्जरी डेढ़ से तीन घंटे की होती है। आजकल अत्याधुनिक तकनीक से सर्जरी के बाद आप मूवमेंट कर सकते हैं और 48 घंटों के बाद घर भी जा सकते हैं। ऐसा उनमें होता है, जिनमें कॉम्पलिकेशंस ना हों। यदि कॉम्पलिकेशन्स हो तो डॉक्टर्स कुछ समय का प्रीकॉशन्स लेकर सर्जरी के बाद अधिक समय का विश्राम कह सकते हैं।
-डॉ. एस.एस. सोनी, सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन।

यह भी पढ़ें:

गर्दन में डैंस की हड्डी का डॉक्टरों ने किया सफल ऑपरेशन

रामअवतार यादव उंचाई से गिर गया था, जिसके कारण उसकी गर्दन में गहरी चोट लग गई थी। एक्स-रे में सामने आया कि मरीज की गर्दन में डैंस की हड्डी का फैक्चर है।

19/10/2019

फिटनेस और गेम्स का कॉम्बीनेशन पसंद आ रहा है शहरवासियों को

शहर के पार्कों में हो रहे योगिक फिटनेस बूट कैम्प्स में भाग लेकर जयपुरवासी अपनी सेहत को अच्छा रखने के साथ साथ शरीर की इंटरनल पॉवर में इजाफा कर रहे हैं।

22/04/2019

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019

तनावयुक्त जीवनशैली, अनियमित दिनचर्या से होती हैं ये बीमारियां

विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर राजस्थान स्वास्थ्य योग परिषद ट्रस्ट, योग भवन, शास्त्री नगर में न्यूरो केयर, जागरण शिविर का आयोजन हुआ, जिसमें संतोकबा दुर्लभजी अस्पताल के न्यूरो फि जिशियन डॉ. नीरज भूटानी और न्यूरो सर्जन डॉ. डीपी शर्मा ने व्याख्यान दिया।

08/04/2019

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020

बच्चों पर शोध: खांसी-जुकाम नहीं बल्कि बुखार के साथ उल्टी दस्त, पेट दर्द होने पर भी हो सकता है कोरोना

अब तक खांसी जुकाम या बुखार के लक्षण होने पर ही कोरोना वायरस की पुष्टि होना माना जा रहा था। लेकिन बच्चों में बुखार के साथ उल्टी दस्त होने पर भी कोरोना वायरस होना पाया गया है। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर में बच्चों पर हुए एक शोध में इसकी पुष्टि हुई है।

03/06/2020

ई-संजीवनी ओपीडी सेवा से मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे मिल रहा परामर्श

कोरोना के चलते आमजन को घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है। जिससे अस्पतालों में भीड़ नियंत्रण कर संक्रमण को कम किया जा सके और आमजन को सरलता से परामर्श सेवा प्राप्त हो सके। इस सुविधा का आमजन लाभ भी उठा रहे हैं।

21/05/2020