Dainik Navajyoti Logo
Monday 1st of June 2020
 
स्वास्थ्य

सर्जरी में रखे ध्यान, बेहतर होंगे परिणाम

Tuesday, May 14, 2019 12:05 PM

जयपुर। ज्वाइंट रिप्लेसमेंट का मतलब शरीर के किसी भी हिस्से का ज्वाइंट हो सकता है। इसमें घुटनों का बदलना भी शामिल है और हिप रिप्लेसमेंट भी। सर्जरी के पहले के लक्षण काफी दर्दनाक होते हैं। मरीज को चलने में काफी दिक्कत आती है। इसलिए कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना जरूरी है जिससे ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बाद परेशानी ना हो। यदि इन बातो का ध्यान ना रखा जाए तो सर्जरी के बाद भी बेहतर परिणाम प्राप्त होना मुश्किल हैं।

ओवरवेट तो वजन कम करें
सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन डॉ. एस.एस. सोनी ने बताया कि, अगर आपका वजन आपकी हाइट के मुताबिक ज्यादा है और आप ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के बारे में सोच रहे हैं, तो पहले वजन कम करना पड़ेगा। इसका फायदा यह होता है कि इससे सर्जरी के बाद कॉम्पलिकेशंस कम हो जाती हैं साथ ही सर्जरी की सफलता की संभावना भी कई गुणा अधिक हो जाती है।
अन्य बीमारियों पर हो कंट्रोल

ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी से पहले जरूरी है कि अगर आपको कोई ओर दिक्कत है, तो उसे कंट्रोल में करें, जैसे- हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल या डायबिटीज। अगर आप स्मोक करते हैं, तो इसका दुष्प्रभाव भी सर्जरी पर पड़ सकता है। अगर आपको कोई स्किन प्रॉब्लम है या डेंटल डिजीज है, तो भी डॉक्टर को बताएं, क्योंकि दांतों की दिक्कत से सर्जरी के दौरान हिप या नी में इंफेक्शन फैलने का डर होता है। अगर आपको रुमेटॉयड आर्थराइटिस है, तो सर्जरी से एक महीना पहले इसकी दवाईयां रोकनी पड़ सकती हैं, ताकि ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ठीक से हो जाए।

हिप और नी रिप्लेसमेंट सर्जरी डेढ़ से तीन घंटे की होती है। आजकल अत्याधुनिक तकनीक से सर्जरी के बाद आप मूवमेंट कर सकते हैं और 48 घंटों के बाद घर भी जा सकते हैं। ऐसा उनमें होता है, जिनमें कॉम्पलिकेशंस ना हों। यदि कॉम्पलिकेशन्स हो तो डॉक्टर्स कुछ समय का प्रीकॉशन्स लेकर सर्जरी के बाद अधिक समय का विश्राम कह सकते हैं।
-डॉ. एस.एस. सोनी, सीनियर ज्वाइंट रिपलेसमेंट सर्जन।

यह भी पढ़ें:

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

थ्रीडी टेक्नोलॉजी से दिया न्यूरो सर्जरी का लाइव डेमो, 12 साल की एकता का सफल ऑपरेशन

एसएमएस अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में पहली बार एक्सप्लोर क्रेनिया वर्टिब्रल जंक्शन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। एम्स नई दिल्ली सहित देश के नामचीन न्यूरो सर्जन्स ने तिरछी रीढ़ की हड्डी को सीधी करने तथा क्रिमियो वर्टिब्रल जंक्शन के फ्रैक्चर के थ्रीडी तकनीक से लाइव ऑपरेशन किए।

30/12/2019

क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप संपन्न, वेंटीलेटर पर बदलेगा सांस लेने का पैटर्न, बचेगी जान

खासाकोठी सर्किल स्थित एक होटल में संपन्न हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल क्रिटीकल केयर वेंटीलेशन वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने गंभीर मरीजों को बचाने की नई तकनीकों पर चर्चा की।

18/11/2019

डॉक्टर्स ने 75 दिन के अथक प्रयासों के बाद 670 ग्राम की बच्ची को दिया जीवनदान

इतने लंबे समय तक सरकारी अस्पताल में किसी नवजात को भर्ती रखने का संभवत: यह पहला मामला है।

08/01/2020

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है।

19/02/2020

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019

Video: डॉक्टर्स ने पेट से निकाला बालों का बड़ा गुच्छा

सर्जन एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल त्रिपाठी ने बताया कि मरीज के पेट में दर्द, भूख ना लगना, उल्टी होना, वजन कम होना इत्यादि लक्षणों की शिकायत कुछ महीनों से थी।

23/12/2019