Dainik Navajyoti Logo
Sunday 13th of June 2021
 
स्वास्थ्य

17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट अस्पताल से डिस्चार्ज, कुछ दिनों तक रहेगा चिकित्सकों की निगरानी में

Friday, February 07, 2020 09:45 AM
अस्पताल से डिस्चार्ज हुआ हार्ट रिसिपिएंट।

जयपुर। प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल में गत दिनों हुए उत्तर भारत के पहले सरकारी स्तर के हार्ट ट्रांसप्लांट किए जाने के बाद 17 वर्षीय हार्ट रिसिपिएंट को गुरुवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। वह अब पूरी तरह से स्वस्थ्य है और अपने रोजमर्रा के जरूरी काम करने में सक्षम है। लेकिन उसके बावजूद अस्पताल प्रशासन की ओर से उसे एतिहात के लिए बनीपार्क जयसिंह हाइवे स्थित माधव आश्रम में रखा गया। यहां वह 24 घंटे एक ट्रेंड आईसीयू स्टाफ और परिजनों की निगरानी में रहेगा।

एसएमएस अस्पताल सीटी सर्जरी विभाग के वरिष्ठ आचार्य एवं विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल शर्मा ने बताया कि हार्ट रिसिपिएंट को यहां से डिस्चार्ज करने के बाद करीब 15 दिनों के लिए बनीपार्क स्थित माधव आश्रम में डॉक्टर्स के ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा। गुरुवार दोपहर को डॉक्टर की टीम ने उसे माधव आश्रम पहुंचाया। हार्ट रिसिपिएंट की देखदेख के लिए एसएमएस का एक डॉक्टर 24 घंटे उसकी देखरेख में रहेगा।

अस्पताल प्रशासन देगा मरीज के परिजनों को ट्रेनिंग
डॉ. शर्मा ने बताया कि मरीज की समय-समय पर जांच भी कराई जाएगी। उसके बाद उसे गांव भेजा जाएगा। मरीज की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण उसके गांव में भी उसके रहने के लिए विशेष इंतजाम किए जाएंगे ताकि उसे किसी प्रकार का इंफेक्शन नहीं हो। इसके लिए मरीज के परिजनों को डॉक्टर्स की तरफ  से ट्रेनिंग भी दी जाएगी। गौरतलब है कि गत 16 जनवरी को सवाईमाधोपुर निवासी 17 वर्षीय युवक को ब्रेन डेड सांवरमल का हार्ट प्रत्यारोपित किया गया था। सांवरमल के परिजनों ने हार्ट के अलावा दोनों किडनियां और लिवर भी डोनेट किया था।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोट निभाएंगे महत्वपूर्ण भूमिका

भविष्य में सर्जिकल गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में रोबोटिक सर्जरी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इस दिशा में ऐसा ह्यूमनॉइड रोबोट का निर्माण, जो मनुष्यों की न्यूनतम सहायता से सर्जरी कर सके, वर्तमान में सर्वाधिक चर्चा का विषय है।

20/09/2019

लॉकडाउन में 10 हजार से ज्यादा कैंसर मरीजों का किया इलाज, WHO के सुरक्षा नियमों को अपनाते हुए उपचार

कैंसर रोगियों को समय पर उपचार मिले और उनकी बीमारी को फैलने से रोका जा सके इसके लिए लॉकडाउन के समय में भी भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर जयपुर की ओर से 10 हजार से ज्यादा कैंसर रोगियों को उपचार सुविधाएं उपलब्ध कराई गई।

15/06/2020

थ्रीडी टेक्नोलॉजी से दिया न्यूरो सर्जरी का लाइव डेमो, 12 साल की एकता का सफल ऑपरेशन

एसएमएस अस्पताल के न्यूरो सर्जरी विभाग में पहली बार एक्सप्लोर क्रेनिया वर्टिब्रल जंक्शन वर्कशॉप का आयोजन किया गया। एम्स नई दिल्ली सहित देश के नामचीन न्यूरो सर्जन्स ने तिरछी रीढ़ की हड्डी को सीधी करने तथा क्रिमियो वर्टिब्रल जंक्शन के फ्रैक्चर के थ्रीडी तकनीक से लाइव ऑपरेशन किए।

30/12/2019

वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे: बच्चों में इन लक्षणों को ना करें अनदेखा, हो सकता है ब्रेन कैंसर

बच्चों में ब्लड कैंसर के बाद सर्वाधिक होने वाला कैंसर ब्रेन ट्यूमर है। नेशनल हेल्थ प्रोग्राम की ओर से जारी एक रिपोर्ट के अनुसार बड़ों के मुकाबले बच्चों में यह बीमारी ज्यादा तेजी से बढ़ रही है। इसके लक्षणों को अनदेखा करना हजारों बच्चों के अकाल मौत का कारण बन रहा है।

08/06/2020

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर आपातकाल किया घोषित

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 212 हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लगातार बढ़ने के कारण अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है।

31/01/2020

डीआरडीओ ने हिमालय की जड़ी-बूटियां से बनाई सफेद दाग की दवा

देश के प्रमुख रक्षा शोध संगठन ने सफेद दाग की हर्बल दवा मरीजों के विकसित की थी। ये दवा मरीजों के लिए रामबाण साबित हो रही है।

25/06/2019

27 साल पहले हार्ट में लगी पेसमेकर की तार को बिना सर्जरी के निकाला, राजस्थान में इस तरह का पहला केस

वर्षों पहले लगे पेसमेकर में संक्रमण होने के कारण उसे तार समेत हार्ट से निकालने के जटिल मामले को शहर के डॉक्टर्स ने सफलतापूर्वक कर दिखाया। प्रदेश में पहली बार इस तरह का केस हुआ है जब मरीज को 27 साल पहले लगे पेसमेकर और तार को इंफेक्शन होने पर बिना ओपन हार्ट सर्जरी के हृदय में से निकाला गया। लीड एक्सट्रैक्शन नामक यह प्रक्रिया इतनी जटिल थी कि तार निकालने में जरा भी चूक होती तो मरीज की उसी समय मौत हो सकती थी।

09/07/2020