Dainik Navajyoti Logo
Sunday 20th of June 2021
 
स्वास्थ्य

मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो का खतरा

Wednesday, January 15, 2020 01:10 AM
टेनिस एल्बो से पीड़ित मरीज को इंजेक्शन लगाते हुए डॉक्टर।

जोधपुर। यह खबर हर घर हर अभिभावकों के लिए जरूरी है। मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वाले लोग टेनिस एल्बो से पीड़ित होने लगे हैं। इतना ही नहीं वे बच्चे जो आउटडोर गेम की बजाय दिनभर वीडियो गेम या मोबाइल में गेम खेलते रहते हैं, उन्हें भी टेनिस एल्बो का असहनीय दर्द हो सकता है। आमतौर पर खिलाड़ियों को होने वाले टेनिस एल्बो को लेकर हैरान करने वाली जानकारी सामने आई है।

मथुरादास माथुर अस्पताल की ओपीडी में मोबाइल के जरूरत से ज्यादा उपयोग करने वाले ऐसे कई लोग आए जिनकी जांच में टेनिस एल्बो पाया गया। औसतन हर ओपीडी में ऐसा एक केस आ रहा है तो बच्चों में गेमिंग से हाथ में असहनीय दर्द के हर ओपीडी में करीब 3 केस आ रहे हैं। बाड़मेर के रमेश को तो ज्यादा बाइक चलाने पर टेनिस एल्बो हो गया। वे पहले रोज 60 किमी बाइक चलाते थे,इस पर उनके हाथ में दर्द हुआ और जांच कराने पर टेनिस एल्बो पाया गया।


एक्सपर्ट व्यू
टेनिस एल्बो केवल खिलाड़ियों को ही नहीं होता। अभी ऐसे कई केस सामने आए हैं, जिसमें मोबाइल का हद से ज्यादा उपयोग करने वालों को टेनिस एल्बो हो गया। क्योंकि मोबाइल हाथ में रहता है और उपयोग के लिए यूज करना पड़ता है। ऐसे ही गेम में व्यस्त रहने वाले बच्चे भी इससे पीड़ित हुए हैं। ऐसी महिलाएं जो घरेलू काम-काज हद से ज्यादा करती है उन्हें भी टेनिस एल्बो हो गया। हाथ का जरूरत से ज्यादा उपयोग करने पर मशल्स में सूजन आ जाती है। इसके बाद सही तरीके से वह हाथ काम नहीं करता और असहनीय व लगातार दर्द होता है। 


क्या है टेनिस एल्बो
1.टेनिस प्लेयर में सबसे पहले इस रोग का खुलासा हुआ था, इसलिए इसका नाम टेनिस एल्बो पड़ा।
2.क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर भी अपने कॅरियर में इसके दर्द से परेशान रहे।
3.टेनिस एल्बो में हाथ की मशल्स में सूजन आती है, इससे तकलीफ होती है।


क्या है इसके लक्षण
1. टेनिस एल्बो होने पर कोहनी में दर्द की शिकायत होती है।
2.यह दर्द लगतार और असहनीय हो जाता है तो समझ लेना चाहिए कि टेनिस एल्बो है।
3. टेनिस एल्बो होने पर हाथ सही तरीके से काम नहीं करता है।


क्या है इसके बचाव
1. टेनिस एल्बो से बचाव करना है तो सबसे पहले उस हाथ का उपयोग कम करना चाहिए,जिसमें दर्द है।
2.तत्तकाल डॉक्टर्स से परामर्श लेना चाहिए।
3.फिजियो थैरोपिस्ट की बताई एक्सरसाइज समय पर करनी चाहिए।


घर के काम में अति व्यस्त रहने पर गृहणियों को भी टेनिस एल्बो हुआ
एमडीएम अस्पताल की ओपीडी में हड्डी रोग विशेषज्ञ उस समय हैरान रह गए जब गृहणियों में भी टेनिस एल्बो के लक्षण मिले। औसतन एक ओपीडी में 3 महिलाएं ऐसी मिली जिन्हें इस दर्द की शिकायत थी। घर के काम जैसे कपड़े धोना, चक्की चलाना, आटा गूंथना, झाड़ू-पौछे लगाना, सिलाई मशीन चलाना जैसे काम में व्यस्त व हाथ से ज्यादा काम करने से उन्हें टेनिस एल्बो हुआ। 

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

टीएवीआर तकनीक से 28 वर्षीय गर्भवती महिला का बदला हार्ट वॉल्व

शहर के चिकित्सकों ने एक महिला का तीन माह की गर्भावस्था के दौरान भी बिना सर्जरी के वॉल्व बदलने में सफलता प्राप्त की है। इस प्रोसीजर को सफलता पूर्वक अंजाम देने वाले शहर चीफ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. रवीन्द्र सिंह राव ने बताया कि 28 वर्षीय यह महिला सिम्पटोमैटिक एओर्टिक स्टेनोसिस से पीड़ित थी।

14/02/2021

बिना किसी सर्जिकल उपचार के झुर्रियों से छुटकारा, बोटोक्स ट्रीटमेंट से मिलेगा लाभ

ढलती उम्र की निशानियां हमारे शरीर में भी देखने के मिलती है और इसका पहला आईना चेहरा होता है। चेहरे पर बढ़ती झुर्रियां और कसावट कमजोर होने जैसी समस्या एक दिन सभी को झेलनी पड़ती है। लेकिन वातावरण में मौजूद प्रदूषण, वंशानुगत असर और लाइफस्टाइल जैसे कई कारक त्वचा को प्रभावित करते हैं और वक्त से पहले ही झुर्रियां आने लगती हैं। झुर्रियां के इलाज के लिए सबसे आम इलाज बोटोक्स ट्रीटमेंट है।

03/10/2019

इंसुलिनोमा टयूमर की हुई पहचान, मोलिक्यूर फंक्शनल इमेजिंग टेस्ट के जरिए कैंसर की जांच

शरीर में इंसुलिन की मात्रा को तेजी से बढ़ाने वाले कैंसर 'इंसुलिनोमा टयूमर' की पहचान राज्य में पहली बार हुई है। प्रदेश के भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के न्यूक्लियर मेडिसन विभाग में इस रेयर टयूमर को डायग्नोस किया गया है।

11/09/2019

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है।

19/02/2020

SMS में हुआ प्रदेश का 41वां अंगदान, 14 वर्षीय विशाल ने ब्रेन डैड होने के बाद 4 लोगों को दिया जीवनदान

सवाई मानसिंह अस्पताल में 41वां अंगदान किया गया है। प्राचार्य एसएमएस मेडिकल कॉलेज डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि देर रात तक अंगों का प्रत्यारोपण किया गया। दोनों किडनीयों को सवाई मानसिंह चिकित्सालय, लिवर को महात्मा गांधी अस्पताल, जयपुर में प्रत्यारोपित किया गया।

02/02/2021

गंभीर बीमारियों का इलाज भी होम्योपैथी से संभव

एक ओर जहां पूरा विश्व एलोपैथी दवाइयों और इलाज के पीछे भाग रहा है, वहीं होम्योपैथी पद्धति भी अब कई गंभीर रोगों के इलाज को संभव बना रही है।

10/04/2019

मंत्री रघु शर्मा और सुभाष गर्ग ने SMS अस्पताल को दी कई सौगातें

अस्थि रोग विभाग के नॉर्थ विंग-प्रथम वार्ड के नवीनीकरण का लोकार्पण और अस्पताल में ही स्थित डाटा सेंटर की आईटी सेल का शुभारंभ कर प्रदेशवासियों को सौगात दी।

30/11/2019