Dainik Navajyoti Logo
Sunday 9th of August 2020
 
स्वास्थ्य

लिगामेंट चोट में अब नई डबल बंडल तकनीक

Wednesday, May 08, 2019 11:45 AM

जयपुर। एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट घुटनों की चोट में सर्वाधिक चोटिल होने वाला लिगामेंट है। लिगामेंट दो हड्डियों की संरचना को जोड़ने वाली इकाई है, जो हड्डियों की चाल को आसान बनाती है। ज्यादातर खेलों में या किसी गंभीर चोट के कारण इस लिगामेंट को क्षति होती है। इसके इलाज के लिए अब मामूली चीरे वाली अत्याधुनिक तकनीक डबल बंडल एसीएल रिकंस्ट्रेकशन आ गई है। जयपुर में भी अब यह नई तकनीक उपलब्ध है। नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल के ज्वाइन्ट रिप्लेसमेंट सर्जन एवं स्पोर्टस आर्थोस्कॉपी स्पेशलिस्ट डॉ. हेमेन्द्र कुमार अग्रवाल ने बताया किए एसीएल लिगामेंट की चोट खिलाड़ियों में बहुत आम है। खेल के दौरान किसी गलत ढंग से मुड़ना या इस तरह की हरकत से यह समस्या हो सकती है।

डबल बंडल देती है घुटनों को मजबूती
डॉ. हेमेन्द्र ने बताया कि एसीएल लिगामेंट में प्राकृतिक रूप से दो बंडल होते हैं। चोट आने पर या टूटने पर आमतौर पर सर्जरी की जरूरत होती है। सिंगल बंडल सर्जरी की अपेक्षा लिगामेंट चोट में डबल बंडल सर्जरी घुटने को अत्याधिक मजबूती एवं स्थिरता प्रदान करने में एवं मूवमेंट आसान करने में ज्यादा कारगर है।

दो ग्राफ्ट से करते हैं लिगामेंट तैयार
उन्होंने बताया कि डबल बंडल एसीएल रिकंस्ट्रक्शन तकनीक में शरीर की हेमेस्ट्रिंग मसल्स से दो छोटे ग्राफ्ट लेकर दोबारा लिगामेंट तैयार किया जाता है। आर्थोस्कॉपिक तकनीक से इस सर्जरी में छोटा सा चीरा लगाया जाता है। मामूली चीरे के कारण मरीज की रिकवरी तेजी से होती है और वह अगले ही दिन से चल-फिर सकता है और दो-तीन महीने में खिलाड़ी फिर से मैदान में उतर सकता है।

 

यह भी पढ़ें:

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से कैंसर ग्रस्त रहे मरीज का जबड़ा फिर लगा

दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के चिकित्सकों ने अपनी तरह की अनूठी एवं पहली शल्य क्रिया के तहत 3डी प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी की मदद से एक मरीज का जबड़ा पुननिर्मित करके उसे फिर से खाना खाने में सक्षम बना दिया है।

19/02/2020

युवा ले रहे अत्यधिक स्टेरोयड्स, हो रही ये बीमारी

आमतौर पर बुढ़ापे में सताने वाला आर्थराइटिस रोग अब युवाओं में भी देखने को मिल रहा है। बॉडी बनाने के लिए स्टेरोइड सेवन, स्पोर्ट्स इंजरी की अनदेखी, फिजिकल एक्टीविटी नहीं करने के कारण युवाओं में यह बीमारी सामने आ रही है।

12/10/2019

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019

खिलाड़ी की मांसपेशियों के दबाव पर अब मशीन रखेगी नजर

स्पोर्ट्स मेडिसिन में अब ऐसी तकनीक आ गई है, जिसमें वेट लिफ्टर या दूसरे एथलीट्स अपनी मांसपेशियों पर एक जैसा दबाव बनाए रखेंगे और उनकी क्षमता बढ़ा सकेंगे।

08/02/2020

Video: जानिए, अस्थमा के इलाज से जुड़ी इनहेलेशन थैरेपी के बारे में

जागरुकता का अभाव, बदलती जीवनशैली, अनुचित खानपान और उससे बढ़ता मोटापा सहित प्रदूषण से अस्थमा तेजी से बढ़ रहा है।

07/05/2019

हार्ट फेल और खराब फेफड़े होने पर एक्मो तकनीक से बच सकती है जान, वर्कशॉप में विशेषज्ञों ने दी ट्रेनिंग

कई बार मरीजों को गंभीर कार्डियक फेलियर, फेफड़े खराब होने के कारण सांस की तकलीफ के कारण अस्पताल में इमरजेंसी में लाया जाता है। मरीज का हृदय या फेफड़े सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम नहीं रहते और रोगी सांस लेने में असमर्थ हो जाता है। ऐसे मरीजों की जान उन्नत एक्मो तकनीक से बचाई जा सकती है।

20/01/2020