Dainik Navajyoti Logo
Saturday 6th of June 2020
 
स्वास्थ्य

Video: जानिए, अस्थमा के इलाज से जुड़ी इनहेलेशन थैरेपी के बारे में

Tuesday, May 07, 2019 12:25 PM

जयपुर। जागरुकता का अभाव, बदलती जीवनशैली, अनुचित खानपान और उससे बढ़ता मोटापा सहित प्रदूषण से अस्थमा तेजी से बढ़ रहा है। जानकारी के अनुसार हर वर्ष कुल अस्थमा रोगियों की तुलना में दस प्रतिशत से ज्यादा नए अस्थमा रोगी बढ़ रहे हैं। मरीजों में इस बीमारी को लेकर जागरुकता का अभाव और डॉक्टर्स की ओर से मरीजों को सही जानकारी, दवा देने का तरीका चाहे वो ओरल हो चाहे इनहेलेशन हो दोनों ही मरीज को नही बताया जाना भी इस बीमारी के बढ़ने का आज के समय में बड़ा कारण है। इसके साथ ही बच्चों में आउटडोर गतिविधियों का कम होना और इंडोर एक्टीविटी का ज्यादा होना भी बच्चों में इसके बढ़ने की बड़ी वजह है। साथ ही इस बीमारी के प्रति जो भ्रांतियां समाज में फैली है जैसे कि इन्हेलेशन थेरेपी से जुड़ी भ्रांतियों को खत्म करना बेहद जरूरी है।

इसलिए कारगर है इनहेलेशन थैरेपी
एसएमएस अस्पताल के पूर्व वरिष्ठ अस्थमा एवं श्वांस रोग विशेषज्ञ डॉ. नलिन जोशी ने बताया कि हर साल अस्थमा के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इसके इलाज के लिए इनहेलेशन थेरेपी के प्रति लोगों की धारणा बदलना बेहद जरूरी है। किसी भी उपचार विधि के प्रभावशीलता और सुरक्षा के लिए दवा की सही तरीके से डिलीवरी महत्वपूर्ण है। इनहेलेशन थैरेपी के मामले में दवा सीधे श्वास मार्ग में छोटी खुराक के रूप में पहुंचती है जो उसके संभावित साइड इफेक्ट्स को सीमित कर देती है। ओरल मेडिकेशन में दवा की खुराक इनहेलेशन के मुकााबले कई गुना होती है। दवा की यह अधिक खुराक फिर शरीर के अन्य हिस्सों में भी पहुंचती है जहां पर इसकी जरूरत नहीं थी और सिस्टम में साइड इफेक्ट्स को बढ़ावा देती है।

सही तरीका सीखना जरूरी
डॉ. जोशी ने बताया कि इनहेलेशन थैरेपी ओरल थैरेपी के मुकाबले कई गुना कारगर है लेकिन यह तभी असर दिखाएगी जब मरीज को इसे लेने की सही विधि पता होगी और यह विधि मरीज को बताने का काम डॉक्टर्स का है। अगर डॉक्टर्स या उनका स्टाफ मरीज को सही विधि नहीं बताएगा तो मरीज ठीक ढंग से दवा नहीं ले पाएगा और उसका मर्ज भी ठीक नहीं होगा। ऐसे में डॉक्टर्स का मरीज को समय देना बेहद जरूरी है, जिससे उसकी भ्रांतियां दूर हो सके और मरीज का इलाज सही दिशा में हो पाए।

 

यह भी पढ़ें:

इस खास तकनीक से बिना सीना चीरे बदला हार्ट वाल्व

कभी बुजुर्गों की मानी जाने वाले हृदय की बीमारियां अब युवा पीढ़ी को भी अपनी चपेट में ले रही है । यह समाज के लिए बड़ी चुनौती है।

07/11/2019

तनावयुक्त जीवनशैली, अनियमित दिनचर्या से होती हैं ये बीमारियां

विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर राजस्थान स्वास्थ्य योग परिषद ट्रस्ट, योग भवन, शास्त्री नगर में न्यूरो केयर, जागरण शिविर का आयोजन हुआ, जिसमें संतोकबा दुर्लभजी अस्पताल के न्यूरो फि जिशियन डॉ. नीरज भूटानी और न्यूरो सर्जन डॉ. डीपी शर्मा ने व्याख्यान दिया।

08/04/2019

ब्रेस्ट कैंसर के खतरे से बचाती है मैमोग्राफी स्क्रीनिंग

भारत में हर साल करीब डेढ़ लाख महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर होता है। अगर एक उम्र के बाद रूटीन चेकअप कराया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर के गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है।

03/05/2019

जयपुर में जुटे देश-विदेश के नामचीन शिशु रोग विशेषज्ञ

बंदोपाध्याय ने कहा कि देश में शिशु मृत्युदर चिंता का विषय है, इसे कम करने के लिए हमें समाज की मानसिकता को बदलना होगा।

05/10/2019

देश में 40 लाख से अधिक लोग अल्जाइमर से पीड़ित

अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है जो सामान्यतया बुजुर्गों में 60 वर्ष के बाद शुरू होती है। इससे पीड़ित सामान रखकर भूल जाते हैं।

21/09/2019

देश का पहला मामला: 9 साल के बच्चे में कोरोना के लक्षण नहीं, 10 बार रिपोर्ट आई पॉजिटिव

जेकेलोन अस्पताल में एक ऐसा केस भी सामने आया, जिसमें एक 9 साल के बच्चे को कोई लक्षण नहीं थे। बावजूद इसके उसकी कुल 10 रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ चुकी है। हालांकि अस्पताल के चिकित्सकों के कमाल के चलते 28 और 30 मई को बच्चे की दोनों रिपोर्ट लगातार नेगेटिव आने पर उसे 1 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

04/06/2020

गंभीर कैंसर रोगियों का दर्द कम करती है पैलिएटिव थैरेपी

कैंसर एक घातक व दिल दहला देने वाली जानलेवा बीमारी है। दुनिया भर में होने वाली छह में से एक व्यक्ति की मौत का कारण कैंसर है।

18/04/2019