Dainik Navajyoti Logo
Thursday 4th of June 2020
 
स्वास्थ्य

850 ग्राम की जन्मे शिशु ने जीती जिंदगी की जंग, डॉक्टरों की मेहनत लाई रंग

Saturday, October 19, 2019 11:30 AM
डॉक्टरों की टीम के साथ मासूम बच्ची

जयपुर। जन्म के बाद 57 दिनों तक जिंदगी की लड़ाई नवजात ने जीत ही ली। गर्भावस्था के 28वें हफ्ते में ही पैदा हुई राजवी (परिवर्तिन नाम) का वजन मात्र 850 ग्राम था और उसके आतंरिक अंग भी पूरी तरह से विकसित नहीं हुए थे, लेकिन डॉक्टरों के दिन-रात किए गए प्रयास रंग लाए और राजवी 1.6 किग्रा की होकर अपने माता-पिता के साथ घर रवाना हुई। अपनी तरह का यह अनूठा मामला जयपुर के नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल का है, जहां 850 ग्राम की प्री-मैच्योर डिलीवरी हुई बच्ची को बचा लिया गया।

मां गर्भावधि डायबिटीज से ग्रसित थी
नवजात राजवी की मां बीना मीणा (29), गर्भावधि डायबिटीज से ग्रसित थी और शुरूआत से ही उनकी गर्भावस्था काफी जटिल रही थी जिसे नारायणा हॉस्पिटल की स्त्री रोग विशेषज्ञ टीम द्वारा अच्छी तरह से प्रबंधित किया जा रहा था। जब गर्भावस्था के 28वें हफ्ते में ही सुरक्षात्मक एमनियोटिक द्रव (मां के गर्भाशय में बच्चे के चारों ओर सुरक्षात्मक द्रव) लीक हो गया तो उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। 28वें हफ्ते में भ्रूण के फेफड़े सहित अन्य अंग पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं, ऐसे में इमरजेंसी प्री-टर्म डिलीवरी से पहले ही माँ का आवश्यक उपचार किया गया जिससे बच्चे के जीवित रहने की संभावना को बढ़ाया जा सके।

 

फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं हुए थे
नारायणा हॉस्पिटल के बाल एवं शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश पाठक ने बताया कि जब बच्ची का जन्म गर्भावस्था के 28वें हफ्ते (7वें महीने) में हुआ था तो उसके फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं हुए थे, इसलिए उसे सांस संबंधित समस्या को रोकने की दवा दी गई और वेंटीलेटर पर रखा गया। जन्म के तुरंत बाद किए गए जरूरी प्रयासों से उसके फेफड़ों को पूरी तरह से परिपक्व करने में मदद मिली एवं धीरे-धीरे वेंटीलेटर और फिर बाहरी ऑक्सीजन को चरणों में हटा लिया गया। जन्म के समय बच्ची का वजन सिर्फ 850 ग्राम था और वह बहुत कमजोर थी। इसीलिए वह 24 घंटे एन.आई.सी.यू. में पीडियाट्रिक्स विशेषज्ञों की निगरानी में थी।

गर्भ जैसा माहौल देकर की नवजात की देखभाल
डॉ. राजेश पाठक ने बताया कि यूं तो माँ के गर्भ की तरह स्थितियां बनाना संभव नहीं है लेकिन फिर भी हमने सही तापमान, न्यूनतम शोर और प्रकाश के साथ सबसे उन्नत नवजात देखभाल प्रदान करने की कोशिश की है। कई दवाओं, पोषक तत्वों के अलावा तापमान मॉनिटर, हृदय गति मॉनिटर और एपनिया मॉनिटर की सहायता से बच्चे की स्थिति पर 24 घंटे निगरानी की गई।

यह भी पढ़ें:

ये 'मेडिकल ATM' चंद मिनटों में करेगा 58 तरह की मेडिकल जांच

देश में जल्दी ही बिना कठिनाई और अत्यधिक तेज मेडिकल जांच हर किसी के लिए संभव हो सकेगी। ऐसा एटीएम जैसे एक कियोस्क के कारण होगा। जो लोगों के लिए 58 तरह के अधिक बुनियादी और उन्नत पैथोलॉजी परीक्षणों की सुविधा देगा और अपनी रिपोर्ट भी तत्काल दे देगा।

04/10/2019

900 मिलियन एंड्रॉयड डिवाइस में हैं ये खामियां

एंड्रॉयड यूजर्स एक बार फिर से खतरे में हैं. रिपोर्ट के मुताबिक क्वॉलकॉम के चिपसेट वाले स्मार्टफोन्स और टैबलेट में क्वॉड रूटर पाया गया है. यानी दुनिया भर के 900 मिलियन एंड्रॉयड स्मार्टफोन और टैबलेट में मैलवेयर अटैक हो सकता है.

16/08/2016

क्या है कोरोना वायरस, पढ़िए इसके लक्षण और इससे बचाव की पूरी जानकारी

चाइना में कहर बरपाने के बाद कोरोना वायरस अब भारत में भी अपनी दस्तक दे चुका है। मुंबई में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मामले सामने आए हैं। दोनों संदिग्धों को कस्तूरबा हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

24/01/2020

जानिए गाइनेकोमेस्टिया के बारे में, जो पुरुषों की लाइफस्टाइल को प्रभावित करता है

कई बार अलग शारीरिक बनावट के कारण हमें समाज में शर्मिंदा होना पड़ जाता है। ऐसी ही तेजी से बढ़ती एक समस्या है पुरुषों में ब्रेस्ट विकसित होने की है, जिसे गाइनेकोमेस्टिया कहते है।

11/09/2019

हीमोफीलिया के इलाज में मददगार है ये थैरेपी

हीमोफीलिया से पीड़ित लोगों को सामान्य जीवन जीने में मदद करने में जल्दी जांच, उपचार तक पहुंच और फिजियोथेरेपी का अहम योगदान है।

17/04/2019

गंभीर कैंसर रोगियों का दर्द कम करती है पैलिएटिव थैरेपी

कैंसर एक घातक व दिल दहला देने वाली जानलेवा बीमारी है। दुनिया भर में होने वाली छह में से एक व्यक्ति की मौत का कारण कैंसर है।

18/04/2019

सात वचन निभाये, बाईपास सर्जरी भी कराई एक साथ

जीवन के सभी सुख-दुख साथ बांटने का वादा लिये एक जोड़े ने हार्ट की बायपास सर्जरी जैसा उपचार भी एक ही दिन, एक ही अस्पताल में और एक ही सर्जन से कराया।

05/11/2019