Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 1st of April 2020
 
खेल

83 साल की उम्र में महान फुटबॉलर पीके बनर्जी का निधन, भारतीय फुटबॉल का एक युग समाप्त

Friday, March 20, 2020 18:15 PM
प्रदीप कुमार बनर्जी (फाइल फोटो)

कोलकाता। भारत के महान फुटबॉलर, पूर्व ओलम्पियन और पूर्व कोच प्रदीप कुमार बनर्जी का निधन हो गया है। वह 83 वर्ष के थे। उनके परिवार में दो पुत्रियां हैं। प्रदीप कुमार बनर्जी भारतीय फुटबॉल में पीके बनर्जी के नाम से लोकप्रिय थे। उनके निधन से भारतीय फुटबॉल में शोक की लहर दौड़ गई। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने बनर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। बनर्जी 1962 में जकार्ता एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली टीम के सदस्य थे। बनर्जी ने फाइनल में दक्षिण कोरिया के खिलाफ गोल दागा, जिसकी बदौलत भारत ने 2-1 से ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी। उन्हें 1961 में अर्जुन पुरस्कार और 1990 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।

पीके बनर्जी पिछले काफी समय से सीने में इंफेक्शन से जूझ रहे थे। बीते दिनों स्वास्थ्य खराब होने के बाद उन्हें कोलकाता के मेडिका सुपरस्पेशिएलिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बनर्जी कई दिनों से वेंटिलेटर पर थे और शुक्रवार को उन्होंने रात 12 बजकर 40 मिनट पर दुनिया को अलविदा कह दिया। उन्हें पर्किन्सन, दिल की बीमारी और भूलने की बीमारी भी थी। उनके निधन से भारतीय फुटबॉल का एक युग समाप्त हो गया।

जलपाईगुड़ी के बाहरी इलाके स्थित मोयनागुड़ी में 23 जून 1936 को जन्मे बनर्जी बंटवारे के बाद जमशेदपुर आ गए। उन्होंने भारत के लिए 85 मैच खेलकर 65 गोल किए। वह अर्जुन पुरस्कार पाने वाले पहले खिलाड़ी थे। अर्जुन पुरस्कार की शुरुआत 1961 में हुई था और यह पुरस्कार पहली बार बनर्जी को ही दिया गया था। भारत के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलरों में शुमार बनर्जी ने अपने करियर में कुल 45 फीफा ए क्लास मैच खेले और 14 गोल किए। वैसे उनका करियर 85 मैचों का था, जिनमें उन्होंने कुल 65 गोल किए। 3 एशियाई खेलों (1958 टोक्यो, 1962 जकार्ता और 1966 बैंकाक) में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले पीके बनर्जी ने दो बार ओलंपिक में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने एशियाई खेलों में भारत के लिए 6 गोल किए जो एक रिकॉर्ड है।

बनर्जी ने 1960 रोम ओलंपिक में भारत की कप्तानी की थी और फ्रांस के खिलाफ 1-1 से ड्रॉ रहे मैच में बराबरी का गोल किया था। इससे पहले वह 1956 की मेलबोर्न ओलम्पिक टीम में भी शामिल थे और क्वॉर्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया पर 4-2 से मिली जीत में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने 19 साल की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण 18 दिसम्बर 1955 को सीलोन (अब श्रीलंका) के खिलाफ ढाका में चौथे क्वाड्रेंगुलर कप में किया था और अपने पदार्पण मैच में दो गोल किए थे जिसकी बदौलत भारत ने यह मैच 4-3 से जीता था। बनर्जी ने क्लब स्तर पर ईस्टर्न रेलवे की तरफ से खेलते हुए 190 गोल किए।

प्रदीप कुमार बनर्जी एकमात्र ऐसे प्रमुख खिलाड़ी थे, जो कभी भी कोलकाता के दो प्रमुख क्लबों मोहन बागान और ईस्ट बंगाल की तरफ से नहीं खेले। एक खिलाड़ी के तौर पर उन्होंने बंगाल के लिए तीन बार संतोष ट्रॉफी (1955, 1958 और 1959) तथा रेलवे के लिए तीन बार (1961, 1964 और 1966) जीती। उन्होंने 1952 और 1956 में बिहार का प्रतिनिधित्व भी किया था। बिहार के लिए संतोष ट्रॉफी में 1952 में पदार्पण करने वाले बनर्जी भारतीय फुटबॉल की उस धुरंधर तिकड़ी के सदस्य थे जिसमें चुन्नी गोस्वामी और तुलसीदास बलराम शामिल थे।

यह भी पढ़ें:

Video: एशियन महिला यूथ हैण्डबॉल चैम्पियनशिप में दक्षिण कोरिया ने चीन को हराया

एसएमएस स्टेडियम में चल रही 8वीं एशियन महिला यूथ हैण्डबॉल चैम्पियनशिप में खिताबी मुकाबला दक्षिण कोरिया ने जीत लिया है।

30/08/2019

यशस्विनी ने जीता स्वर्ण और नौंवा ओलंपिक कोटा

भारत की 22 वर्षीय युवा निशानेबाज यशस्विनी सिंह देशवाल ने पूर्व ओलंपिक और विश्व चैंपियन यूक्रेन की ओलेना कोस्तेविच को चौंकाते हुए आईएसएसएफ विश्वकप राइफल/पिस्टल टूर्नामेंट में महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने के साथ-साथ देश को नौंवा ओलंपिक कोटा भी दिला दिया।

01/09/2019

श्रीलंकाई ऑलराउंडर इसुरू उदाना पुणे टी-20 से बाहर, दूसरे मुकाबले में पीठ में लगी थी चोट

श्रीलंकाई ऑलराउंडर इसुरू उदाना पीठ की चोट के कारण पुणे में शुक्रवार को भारत के खिलाफ टी-20 सीरीज के अंतिम करो या मरो के मुकाबले से बाहर हो गए हैं। 31 साल के उदाना को दूसरे टी 20 मुकाबले के दौरान उस समय चोट लगी थी जब वह शॉर्ट थर्ड मैन पर गेंद को रोकने का प्रयास कर रहे थे।

09/01/2020

इंटरनेशनल क्रिकेटर जोंटी रोड्स ने बच्चों को सीखाए स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के गुर

नेशनल एकेडमी आफ इवेन्ट मैनेजमेंट एन्ड डेवलपमेंट (एनएईएमडी) और नेशनल एकेडमी आफ स्पोर्ट्स मैनेजमेंट (एनएएसएम) की ओर से आज भट्टारक जी की जैन नसिया,

25/05/2019

रणजी ट्रॉफी: राजस्थान ने बंगाल को पहली पारी में 123 रन पर किया ढेर, 118 रन की ली बढ़त

सवाई मानसिंह स्टेडियम में बंगाल के खिलाफ खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी ग्रुप ए और ग्रुप बी मुकाबले में दूसरे दिन टीम राजस्थान ने बंगाल को पहली पारी में 123 रन पर ढेर कर दिया और 118 रन की बढ़त ले ली है।

05/02/2020

भारत की जीत में चमका राजस्थान का दीपक, टीम इंडिया ने सीरीज 2-1 से जीती

तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने कहर बरपाते हुए हैट्रिक सहित छह विकेट लेकर बांग्लादेश को तीसरे और निर्णायक टी-20 मुकाबले में रविवार को 144 रन पर ढेर कर दिया और भारत ने यह मुकाबला 30 रन से जीतकर तीन मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली।

11/11/2019

भारत की 16 साल की शेफाली वर्मा ने रचा इतिहास, टी-20 रैंकिंग में बनीं नंबर-1 बल्लेबाज

आईसीसी टी-20 महिला विश्वकप में विस्फोटक प्रदर्शन कर रहीं भारत की 16 साल की युवा सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा आईसीसी की ताजा टी-20 रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर पहुंच गई। शेफाली ने ऑस्ट्रेलिया में चल रहे टी-20 विश्व कप में अब तक शानदार प्रदर्शन किया है जिसका फायदा उन्हें बल्लेबाजों की रैंकिंग में मिला।

04/03/2020