Dainik Navajyoti Logo
Sunday 1st of August 2021
 
राजस्थान

युवा कार्मिकों को प्रोबेशन के दौरान मिल सकेगा पढ़ाई या परीक्षा की तैयारी के लिए अवकाश

Friday, February 26, 2021 15:50 PM
अशोक गहलोत (फाइल फोटो)

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य सेवा में चयनित प्रोबेशनर ट्रेनी कार्मिकों एवं अधिकारियों को प्रोबेशन अवधि के दौरान उच्च अध्ययन अथवा प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए असाधारण अवकाश की स्वीकृति देने का संवेदनशील निर्णय लिया है। इसके लिए शीघ्र ही असाधारण अवकाश की स्वीकृति के नियमों में संशोधन किया जाएगा। गहलोत ने इस संबंध में वित्त विभाग से प्राप्त प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया है। प्रस्ताव के अनुसार यदि कोई प्रोबेशनर राजकीय सेवा में नियुक्ति से पहले किसी उच्च अध्ययन कोर्स में अध्ययनरत है, तो उसे कोर्स पूरा करने के लिए असाधारण अवकाश दिया जा सकेगा। इसी प्रकार प्रोबेशनर को नियुक्ति के बाद आगामी दिनों में होने वाली प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए भी असाधारण अवकाश की स्वीकृति दी जा सकेगी।

गौरतलब है कि वर्तमान में राज्य सरकार की विभिन्न सेवाओं में नियुक्ति के बाद प्रोबेशनर ट्रेनी को उच्च अध्ययन अथवा प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए असाधारण अवकाश देय नहीं है, जिसके चलते नवनियुक्त युवा कार्मिक कठिनाई का अनुभव करते रहे हैं और विभिन्न प्रशासनिक विभागों एवं कर्मचारियों द्वारा इस नियम पर पुनर्विचार करने की आवश्यकता जाहिर की गई है। नए प्रस्ताव के अनुसार प्रोबेशन के दौरान असाधारण अवकाश स्वीकृत होने पर प्रोबेशनर ट्रेनी की प्रोबेशन अवधि का समय अवकाश अवधि के अनुरूप बढ़ जाएगा और किसी भी उद्देश्य के लिए इसकी गणना नहीं होगी। संशोधित नियमों के जारी होने से पूर्व प्राप्त हुए असाधारण अवकाश के आवेदनों पर भी नए आदेश के अनुसार विचार किया जा सकेगा। इस निर्णय से नवनियुक्त युवा कार्मिकों को राजकीय सेवा में रहते हुए उच्च अध्ययन तथा अन्य उच्च सेवाओं के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी का लाभ मिल सकेगा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

वसुंधरा समर्थकों को अरुण सिंह की सीधी चेतावनी, बयान देने वालों की सूची बनेगी, नहीं समझे तो कार्रवाई होगी

प्रदेश में भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व सीएम वसुंधरा राजे को प्रदेश का चेहरा और कमान सौंपने के उनके समर्थक नेताओं को चुप रहने की प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने सीधी चेतावनी दी है। उन्होंने साफ कहा है कि बयानबाजी से पार्टी को नुकसान होता है। अब बहुत हो चुका, पार्टी के खिलाफ बयान देने वालों की सूची बनेगी। उन्हें एक बार समझाएंगे-बुझाएंगे। अगर फिर भी नहीं माने तो कार्रवाई होगी।

23/06/2021

मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने की ऑक्सीजन आपूर्ति की समीक्षा, अधिकारियों को दिए दिशा निर्देश

मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने शुक्रवार को प्रदेश में कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति की समीक्षा की और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। आर्य ने शासन सचिवालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा में इस बात पर जोर दिया कि किस तरह राजस्थान को केन्द्र से ऑक्सीजन का आवंटन बढ़े और उसे प्रदेश तक लाने और अस्पतालों तक पहुंचाने में कोई समस्या ना हो।

30/04/2021

आखिरकार भाजपा ने जसकौर को दौसा सीट से मैदान में उतारा

भाजपा ने हुडला-किरोड़ी के बीच फंसी दौसा सीट पर आखिरकार प्रत्याशी की घोषणा कर दी है। दोनों से इतर भाजपा ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं सवाई माधोपुर से सांसद रह चुकी जसकौर मीणा को दौसा से अपना प्रत्याशी बनाया है।

15/04/2019

लाइब्रेरियन परीक्षा के पेपर लीक मामले में दो युवतियों समेत 6 शातिर गिरफ्तार

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड जयपुर की ओर से आयोजित पुस्तकालयाध्यक्ष भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करने वाले दो युवतियों समेत छह शातिर बदमाशों को पुलिस आयुक्तालय की क्राइम ब्रांच टीम ने गिरफ्तार किया है।

29/12/2019

राजधानी जयपुर में आंधी के बाद बरसे बदरा

तेज गर्मी और तेज धूप से लोगों को हल्की राहत मिली है। दोपहर बाद मौसम ने अचानक पलटी मारी है। कई इलाकों में हल्की बारिश हुई है, जिससे मौसम सुहावना हो गया है।

22/05/2019

राजसमंद: जिसे मृत समझकर किया अंतिम संस्कार, वह 10 दिन बाद घर लौटा, बोला- अभी में जिंदा हूं

प्रदेश के राजसमंद शहर में पुलिस और अस्पताल प्रशासन की लापरवाही का गंभीर मामला सामने आया है। यहां बिना पोस्टमार्टम करवाए ही पंचनामा बनाकर शव दे दिया गया और परिजनों ने औंकारलाल गाडोलिया लौहार समझकर उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया। पिछले 10 दिनों से परिवार में गम का माहौल था। रविवार शाम अचानक औंकारलाल घर लौट आया तो परिजन और रिश्तेदारों के साथ पड़ोसी भी चौंक गए।

25/05/2021

कोरोना संक्रमण का असरः हाईकोर्ट में अब 23 अक्टूबर तक वीसी से होगी सुनवाई

राजस्थान हाईकोर्ट प्रशासन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए केवल अति आवश्यक मामलों की वीसी के जरिए सुनवाई की चल रही व्यवस्था को 23 अक्टूबर तक बढ़ा दिया है। पहले यह व्यवस्था एक अक्टूबर तक लागू की गई थी। इसी तरह अधीनस्थ अदालतों के लिए भी अलग से निर्देश जारी किए गए हैं।

02/10/2020