Dainik Navajyoti Logo
Friday 17th of September 2021
 
राजस्थान

संसदीय प्रणाली पर जयपुर में हुआ मंथन, सहसा निकल गया भाजपा की राजनीति पर एक सच

Tuesday, September 14, 2021 14:05 PM
राजस्थान विधानसभा CPA सेमिनार में नितिन गडकरी और गुलाम नबी आजाद।

 जयपुर। राजस्थान विधानसभा में सोमवार को दो सत्रों में संसदीय प्रणाली और जन अपेक्षाओं को लेकर मंथन हुआ। राष्ट्रमंडल संसदीय संघ की राजस्थान शाखा के तत्वावधान में हुए इस मंथन में कांग्रेस के कद्दावर नेता गुलाम नबी आजाद तथा केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन जयराम गडकरी ने अपने विचार व्यक्त किए। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी वर्तमान संसदीय प्रणाली में विधायकों के दु:ख को लेकर बोले। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने राजनीति से हटकर काम करने की सलाह दी। सेमिनार के समापन सत्र में गडकरी ने कहा कि इस समय विधायक से लेकर मुख्यमंत्री तक दु:खी हैं। समस्या सबके साथ है। विधायक इसलिए दुखी है कि वे मंत्री नहीं बने। मंत्री बन गए तो  इसलिए दुखी हैं कि अच्छा विभाग नहीं मिला और जिन मंत्रियों को अच्छा विभाग मिल गया, वे इसलिंए दुखी हैं कि मुख्यमंत्री नहीं बन पाए। मुख्यमंत्री इसलिए दुखी हैं कि पता नहीं कब तक पद पर रहेंगे। व्यंग्यकार शरद जोशी का उदाहरण देते हुए गडकरी ने कहा कि उन्होंने लिखा था कि जो नेता राज्यों में काम के नहीं थे, उन्हें दिल्ली भेज दिया। जो दिल्ली में काम के नहीं थे, उन्हें राज्यपाल बना दिया और जो वहां भी काम के नहीं थे उन्हें एंबेसडर बना दिया। गडकरी ने कहा कि संसदीय प्रणाली में जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लिए वन डे मैच की तरह खेलने की जरूरत है। भविष्य की कतई चिन्ता नहीं करनी चाहिए। राजनीति में हार-जीत चलती रहती है, लेकिन आदमी हारने से समाप्त नहीं होता और नहीं लड़ने से खत्म होता है। राजनेताओं को तो जीवनभर लड़ना है, चाहे वह सत्ता में रहे या फिर विपक्ष में।    राजनीति किसी भी दल की करें, लेकिन उतार-चढ़ाव के समय भी उसके प्रति लॉयल रहना चाहिए।


राजनीति में कटुता के लिए जगह नहीं होनी चाहिए : आजाद
मेरे सबसे रहे बेहतर संबंध : आजाद

सेमिनार के उद्घाटन सत्र में आजाद ने कहा कि राजनीति में कटुता के लिए जगह नहीं होनी चाहिए। मेरे सबसे बेहतर संबंध रहे हैं। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि एक बार मैं पूर्व सीएम भैरोसिंह शेखावत के खिलाफ  प्रचार करने उनके निर्वाचन क्षेत्र में जा रहा था। एयरपोर्ट पर ही शेखावत साहब मिल गए। उन्होंने मुझसे कहा कि उनका एक वर्कर निर्वाचन क्षेत्र में मिलेगा, वह आपके लिए गोश्त लेकर आएगा। तुम कश्मीरी हो गोश्त खाने वाले हो। मैं उनके खिलाफ  प्रचार करने आया था और उन्होंने मेरे लिए गोश्त भिजवाया, यह संबंधों की प्रगाढ़ता होती है। आजाद ने कहा कि पक्ष और विपक्ष में बेहतर सामंजस्य से जनता को फायदा होता है। अंडरस्टैंडिंग नहीं होगी तो लोकतंत्र नहीं चलेगा। हमारे आज विधायक और सांसद सबसे लाचार हैं। विदेशों में 70 फीसदी लोगों ने सर्वे में कहा विधायकों-सांसदों का काम कानून बनाना है, क्योंकि संविधान में हमारी पहली जिम्मेदारी कानून बनाने की हैं।


आज अमेरिका, यूके विकसित देशों में यह बातें इसलिए की जाती हैं, क्योंकि वहां विधायक और सांसद के पास पानी बिजली, सड़क बनाने की सिफारिश के लिए कोई नहीं आता। हमारे देश में अलग दिक्कत है। विधायक तथा सांसद को अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों की बुनियादी सुविधाओं के लिए सिफारिश करनी होती है। राजनीति में खासकर विधायक और सांसदों की हमारी प्राइवेसी रहती ही नहीं है, जबकि कार्यपालिका और न्यायपालिका में यह दिक्कत नहीं है। मैं एक बार मेरे बच्चों के स्कूल गया तो उसके दोस्तों ने कहा कि तेरे पापा जैसे लगते हैं, जबकि मैं खुद था। यह इसलिए क्योंकि हम बच्चों और परिवार को समय दे ही नहीं पाते। जब हम 70 साल के हो जाएंगे, तब इसका अहसास होता है।

धन के प्रभाव के कारण पंचायत चुनाव होते हैं प्रभावित
विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने कहा है कि संसदीय लोकतंत्र में जनता की नेताओं से उम्मीदें बढ़ी हैं। पंचायत और नगरपालिकाओं के नियमित चुनाव के बाद जनता की अपेक्षाएं अलग-अलग हैं। हमने जनता को शिक्षित नहीं किया। आज गांव का आदमी यह अपेक्षा करता है कि नाली का काम भी विधायक करेगा। आप नीति कितनी ही अच्छी बना लें, लेकिन राज्य काम नहीं करेगा तो उसका कोई फायदा नहीं। राज्य कितनी ही नीति बना लें, लेकिन पंचायत काम नहीं करेगी तो कारगर नहीं होगी। जोशी ने कहा कि 1980 में पहले सरपंच साहब कहलाता था, आज सरपंच कहलाता है। धन के प्रभाव के  
कारण पंचायत के चुनाव प्रभावित होते हैं। विधायक का काम नाली और सड़क बनाना नहीं है। जनता की बढ़ती अपेक्षाओं के बीच नीचे के स्तर पर काम होने जरूरी हैं। देश की एकता के लिए संसदीय लोकतंत्र जरूरी है। हमें यह सोचना होगा कि क्या कारण थे कि जेपी आंदोलन हुआ, अन्ना आंदोलन हुआ और अब किसान आंदोलन खड़ा हो गया है। हमें इसकी तह तक जाना होगा। यदि इन बातों को नहीं समझा गया तो हम जन अपेक्षाओं को कैसे पूरा करें। जीएसटी लागू होने के बाद दिक्कतें बढ़ी हैं, सेस का पैसा राज्य को नहीं मिलता।  

हम सबका एक ही लक्ष्य है, देश-जनता की भलाई
विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि संसदीय प्रणाली से बेहतर कुछ नहीं है। हम सबका एक ही लक्ष्य है, देश-जनता की भलाई। सत्तारूढ़ दल अपने कामों से जनता का हित करता है, जबकि विपक्ष जनता से जुड़े मुद्दे लाकर सदन में उठाता है, लेकिन विधानसभा में आकर हम पक्ष और विपक्ष हो जाते हैं। इतने चुनाव होने के बावजूद आज तक सरकार में बदलाव के लिए हिंसा नहीं हुई, हमारा देश सौभाग्यशाली है। उन्होंने कहा कि संसदीय प्रणाली में जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लिए राजनेता को पक्ष विपक्ष से उठकर काम करना होगा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

रात्रि गश्त और होगी तेज, अपराधों पर लगेगा अंकुश : प्रीति चन्द्रा

भारतीय पुलिस सेवा की अधिकारी और जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट की पश्चिम क्षेत्र की उपायुक्त प्रीति चंद्रा ने सोमवार को अपना पदभार ग्रहण किया। पदभार ग्रहण करने के साथ ही उन्होंने अपने अधीनस्थ अधिकारियों से पश्चिम क्षेत्र में होने वाली अपराधिक गतिविधियों की जानकारी लेने के साथ पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से शिष्टाचार मुलाकात की।

08/07/2019

प्रदेश में बड़े स्तर पर खरीद फरोख्त के प्रयास, विधायकों को दिया जा रहा प्रलोभन: गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बातचीत में कहा कि हमारे विधायकों को प्रलोभन दिया जा रहा है। प्रदेश में बड़े स्तर पर खरीद फरोख्त के प्रयास किए जा रहे हैं। एक विधायक को 25 करोड़ का आॅफर दिया गया।

11/06/2020

Video: स्वतंत्रता सेनानी ईश्वर सिंह बेदी की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात

ईश्वर सिंह बेदी को आज राष्ट्रपति भवन में स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान में रखे गए एट होम कार्यक्रम में राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया गया था।

09/08/2019

बरसात, ओलावृष्टि और सर्द हवाओं ने ठिठुराया, आने वाले दिनों में और गिरेगा दिन रात का तापमान

पश्चिमी विक्षोभ से प्रदेश के अनेक हिस्सों में बादल गरजने के साथ बरसात हुई, जिससे तापमान में अचानक गिरावट आ गई। वहीं धौलपुर के कंचनपुर थाना क्षेत्र के टोंटरी पंचायत में पशुओं को चारा लेकर लौट रहे युवक पर आकाशीय बिजली गिरने से उसकी मौत हो गई।

17/11/2020

जेलों में ऑपरेशन फ्लश आउट: मादक पदार्थ पहुंचाने पर 2 जेल प्रहरी बर्खास्त, 17 सस्पेंड, 26 पर अनुशासनात्मक कार्रवाई

कई बार जब बड़ी वारदात होती हैं तो जेल में बंद बदमाशों के नाम भी सामने आते हैं। ऐसे में जेल को अपराध का गढ़ माना जाता है। ऐसे क्राइम को रोकने के लिए पहली बार डीजी जेल ने 'ऑपरेशन फ्लश आउट' चलाया है। इस ऑपरेशन में जेलों में बंद बदमाशों और जेलकर्मियों के मिलीभगत का बड़े स्तर पर भंडाफोड़ हुआ है। डीजी जेल राजीव दासोत ने सख्त कार्रवाई कर दो जेल प्रहरी सोहन लाल विश्नोई और रमेश विश्नोई को नौकरी से ही बर्खास्त कर दिया।

29/12/2020

जनता और कानून की अदालत में हार चुके राहुल गांधी सार्वजनिक मांफी मांगें: सुधांशु त्रिवेदी

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व राज्यसभा सांसद डॉ. सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि राहुल गांधी के आचरण से लगता है कि उनमें अभी परिपक्वता का अभाव है।

17/11/2019

केन्द्रीय अध्ययन दल ने अभावग्रस्त गांवों में लिया हालात का जायजा

केन्द्रीय अध्ययन दल की टीम सोमवार शाम करीब 8 बजे सेतरावा गांव में पहुंची। यहां अकाल के हालात का जायजा लिया।

17/12/2019