Dainik Navajyoti Logo
Saturday 22nd of February 2020
 
राजस्थान

सेन्ट्रल जेल में अब नहीं होगी फांसी

Friday, February 14, 2020 14:40 PM
फाइल फोटो

जयपुर। सेन्ट्रल जेल में मौत की सजा पाने वाले आरोपियों को अब फांसी नहीं दी जाएगी। फांसी देने के लिये जयपुर की सेन्ट्रल जेल नहीं, बल्कि दौसा की विशेष जेल को चुना गया है। जेल मे फांसी देना उपयुक्त नहीं माना जा रहा है। जेल बदलने का कारण यह है कि यह जेल तीन तरफ से रिहायशी इलाकों से घिरा हुआ है और फांसी परिसर भी एक खुले मैदान में स्थित है। जेल परिसर के आसपास रहने वाला कोई भी व्यक्ति फांसी का फंदा देख सकता है, जो सही नहीं है। केंद्रीय जेल में फांसी का फंदा भी नहीं है। दौसा जिले के शियालावास में स्थित विशेष जेल में एक विशाल परिसर है। परिसर में पर्याप्त जगह है, जहां फांसी दी जा सकती है और इस जेल के पास कोई रिहायशी इलाका भी नहीं है।

इस मामले पर जेल डीआईजी विकास कुमार ने बताया कि जेल अधीक्षक की तरफ से एक प्रस्ताव भेजा गया है, जिसमें जेल मे फांसी देना किसी कारणों से उपयुक्त नहीं माना गया है। मुद्दा गोपनीयता का है और सेन्ट्रल जेल चारदीवारी के आस पास बना हुआ है और आवासों से जेल के अन्दर दिखाई देता है। इसलिए यह उपयुक्त नहीं है कि यहां फांसी दी जाएं।

दौसा की विशेष जेल क्यों है खास
40 एकड़ में फैले शिलावास की विशेष जेल में 14 वार्ड हैं, जिनमें 53 बैरक हैं। इनमें 157 कैदी बंद हैं। इन 14 वार्डों में एक जुदाई वार्ड भी शामिल है, जिसमें 32 बैरक हैं। फांसी की सजा पाने वालों को इस वार्ड में स्थानांतरित किया जा सकता है। अगर प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है, तो जयपुर केंद्रीय जेल का भार भी कम हो सकता है। जेल निदेशालय के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार जयपुर केंद्रीय जेल की क्षमता 1163 है और वर्तमान में 1685 कैदी इसमें बंद हैं।


 

यह भी पढ़ें:

दीया कुमारी ने नितिन गडकरी से की मुलाकात

सांसद दीया कुमारी ने देसूरी नाल में हुए हादसे के बाद मेवाड़ और मारवाड़ क्षेत्र में जागी जन चेतना को विशेष मद्देनजर रखते हुए केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी से मुलाक़ात की।

05/09/2019

दी बार एसोसिएशन जयपुर के चुनावों की जोर-शोर से चल रही तैयारियां

दी बार एसोसिएशन की चुनावों की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। 29 जुलाई को होने वाले मतदान को लेकर प्रत्याशी और उनके समर्थक मतदाताओं की मानमनुहार में जुटे हुए हैं।

27/07/2019

राजस्थान यूनिवर्सिटी में जनसंचार केन्द्र बंद करने के विरोध में स्टूडेंट्स ने किया प्रदर्शन

राजस्थान विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग को विश्वविद्यालय प्रशासन की आरे से शिक्षक नहीं होने का हवाला देते हुए बंद किया जा रहा है।

14/05/2019

देश की सबसे बेहतरीन और त्वरित कार्रवाई करने वाली फोर्स है राजस्थान पुलिस: कपिल गर्ग

राजस्थान पुलिस देश की सबसे बेहतरीन और त्वरित कार्रवाई करने वाली फोर्स है। यह कहना है राज्य को पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग का। अजमेर यात्रा पर आए गर्ग ने शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि राज्य में अपराध के मामलों में काफी गिरावट आई है

14/06/2019

पाकिस्तानी जेल में बंद अजमेर के युवक को रिहाई का इंतजार, 1 साल पहले कर चुका सजा पूरी

पाकिस्तान की जेल में बंद अजमेर के 35 साल के एक युवक को अपनी रिहाई का इंतजार है। वह 8 साल से कराची की मलीर जेल में बंद है। आरोप है कि उसने अवैध रूप से पाकिस्तान में प्रवेश किया है। उसकी सजा एक साल पहले एक जनवरी 2018 को ही पूरी हो गई।

24/12/2019

अरविन्द को किया पण्डित झाबरमल पुरस्कार से सम्मानित

पाटोदिया सभागृह में एमजेएफ द्वारा अभिनंदन समारोह का आयोजन किया गया, जिसके मुख्य अतिथि जिला कलक्टर रवी जैन थे।

10/12/2019

गहलोत, वसुंधरा एवं सात सांसदों की प्रतिष्ठा दांव पर, वैभव ने भरा नामांकन

राजस्थान में लोकसभा चुनाव के पहले चरण में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे दो केन्द्रीय मंत्री तथा सात सांसदों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है।

09/04/2019