Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of June 2021
 
राजस्थान

फीडिंग हैंड्स संस्था आई आगे, एसएमएस-जयपुरिया में रोजाना 600 लोगों को कराएंगे भोजन

Monday, July 06, 2020 11:40 AM
सीएस राजीव स्वरूप ने भोजन के पैकेट्स बांटने के कार्य की शुरुआत की।

जयपुर। सामाजिक संगठन फीडिंग हैंड्स जयपुर के एसएमएस और जयपुरिया अस्पताल परिसर में रोजाना 300-300 लोगों को भोजन के पैकेट्स निशुल्क वितरित करेगा। इसके लिए इन दोनों स्थानों पर भोजन वितरण वाहन खड़े किए जाएंगे। यह व्यवस्था रविवार से शुरू हो गई है। जयपुरिया अस्पताल परिसर में यातायात मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास और एसएमएस अस्पताल परिसर में मुख्य सचिव राजीव स्वरूप ने आज इन वाहनों से भोजन के पैकेट्स बांटने के कार्य की शुरुआत की। जयपुरिया अस्पताल परिसर में मीडिया से बात करते हुए खाचरियावास ने कहा कि कोरोना के वर्तमान दौर में राजस्थान में प्रवासी श्रमिकों सहित प्रत्येक जरूरतमंद व्यक्ति तक भोजन पहुंचाया गया है। यह सुनिश्चित किया गया कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। इसमें फीडिंग हैंड्स जैसे सामाजिक संगठनों की भी बड़ी भूमिका रही है। खाचरियावास ने लोगों से अपील की है कि वे प्रेरणा लेते हुए सामाजिक कार्यों में आगे आए।

संस्था ने किया प्रशंसनीय कार्य
एसएमएस अस्पताल में भोजन वितरण कार्यक्रम के बाद मुख्य सचिव राजीव स्वरूप ने कहा कि लॉकडाउन के समय भी फीडिंग हैंड्स ने प्रशंसनीय कार्य किया। उन्होंने पूरे प्रदेश के भामाशाहों का आह्वान किया कि उन्हें भी ऐसे कामों में आगे आना चाहिए और सरकार की मदद करनी चाहिए। उन्होंने फीडिंग हैंड्स के पदाधिकारियों को सलाह दी कि अस्पताल में भर्ती मरीजों की देखभाल करने वालों के लिए भी मुफ्त भोजन की व्यवस्था की जानी चाहिए। इस काम में सरकार की तरफ से हर संभव मदद दी जाएगी। मुख्य सचिव बनने के बाद उनका यह पहला सार्वजनिक कार्यक्रम था। इस मौके पर उनकी धर्मपत्नी, जयपुर जिला कलेक्टर जोगाराम, एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भण्डारी, कवि शर्मा, फीडिंग हैंड्स के संचालक योगेश नरूला, अमरजीत सोनी और पंकज जैन भी उपस्थित थे।

दो साल में साढ़े छह लाख को कराया भोजन
फीडिंग हैंड्स के संचालकों में से एक पंकज जैन ने बताया कि यह एक गैर लाभकारी संगठन है जो पिछले दो वर्षों से एसएमएस हॉस्पिटल के गेट नम्बर 5 पर प्रतिदिन 1200 असहाय और निर्धन लोगों को मुफ्त भोजन करा रही है। यह भोजन अन्नपूर्णा वैन के माध्यम से उपलब्ध कराया जा रहा था। अब तक करीब 6 लाख 50 हजार लोगों को मुफ्त भोजन वितरित किया जा चुका है। इससे संगठन से जुड़े योगेश नरूला और अमरजीत सोनी के अनुसार कोरोनोकाल में अन्नपूर्णा वैन बंद होने के बावजूद भी फीडिंग हैंड्स ने लगातार स्वयं के प्रयासों से 2800 लोगों को प्रतिदिन भोजन कराया। इस दौरान करीब एक लाख लोगों को मुफ्त भोजन वितरित किया गया। लॉकडाउन अवधि में संस्था द्वारा करीब 5350 राशन पैकेट्स का वितरण भी किया गया।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

प्रॉपर्टी व्यवसायी अपहरण मामले में तीन बदमाश और गिरफ्तार

जवाहर सर्किल थाना पुलिस ने प्रॉपर्टी व्यवसायी का अपहरण पैर में गोली मारने के आरोप में तीन बदमाशों को और गिरफ्तार कर लिया है।

22/10/2019

AC में सोने वाले ने थाने में पंखे के नीचे काटी रात

कोटा की एसीबी कोर्ट ने शुक्रवार को रिश्वत लेने के आरोपी लाखेरी के तत्कालीन पुलिस उप-अधीक्षक ओमप्रकाश चांदोलिया को 15 दिन के लिए न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया है।

08/06/2019

घूसखोरों के खिलाफ एसीबी की कार्रवाई, बूंदी में आबकारी निरीक्षक व कांस्टेबल रिश्वत लेते गिरफ्तार

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) मुख्यालय के निर्देश पर भ्रष्ट अधिकारियों पर रखी जा रही सतत निगरानी में शुक्रवार को कार्रवाई करते हुए एसीबी की बूंदी इकाई ने बूंदी शहर के आबकारी थाना के प्रहराधिकारी शिवप्रताप सिंह राणा व आबकारी थाना केशवरायपाटन के कांस्टेबल रामनिवास थाना को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है।

20/11/2020

एडीजी एसओजी एटीएस ने बचा लिए सरकार के 85 हजार रुपए, 5 आरोपितों पर घोषित इनाम के आदेश निरस्त

एडीजी एसओजी अशोक राठौड़ ने 5 फरार आरोपितों पर घोषित की गई इनाम राशि के आदेशों को निरस्त कर दिया। पूर्व एडीजी ने इन पांचों पर अलग-अलग इनाम की राशि घोषित की थी। ऐसे में एडीजी राठौड़ ने इनामी आदेश को निरस्त कर राज्य सरकार के 85 हजार रुपए बचाए हैं, साथ ही गलत प्रक्रिया के तहत होने वाली कार्रवाई को भी रोका है।

25/09/2020

सिकराय विकास अधिकारी की गाड़ी का नहीं लगा सुराग, कार्मिकों ने किया प्रदर्शन

मानपुर पुलिस के हाथ दूसरे दिन भी खाली रहे। पुलिस गाड़ी को ढूंढने के लिए जगह-जगह दबिश दे रही है।

16/10/2019

पुलिस की तर्ज पर सभी कर्मचारियों को भी मिले रोडवेज में यात्रा की सुविधा, कर्मचारी संगठनों ने उठाई मांग

पुलिस की तर्ज पर प्रदेश सरकार के सभी कर्मचारी और अधिकारियों को राजस्थान रोडवेज की बसों में रियायती दरों पर यात्रा का प्रावधान होना चाहिए। इससे रोडवेज की आय के साथ कर्मचारियों को भी यात्रा की सुविधा मिल सकेगी। वहीं मंत्रालयिक कर्मचारियों को भी इस सुविधा का लाभ मिलना चाहिए। इसके लिए कर्मचारी को हर महीने 300 रुपए का भुगतान करना पड़ेगा। इनमें से 100 रुपए राज्य सरकार देगी।

04/01/2021

राजस्थान में दूसरी संतान के जन्म पर भी महिलाओं को मिलेगी आर्थिक सहायता

राजस्थान में अब दूसरी संतान के जन्म पर भी महिलाओं को आर्थिक सहायता दी जाएगी। केंद्र सरकार की पीएम मातृवंदना योजना में केवल एक संतान के जन्म के बाद आर्थिक सहायता दी जाती है, लेकिन प्रदेश की प्रसूताओं को अब गहलोत सरकार की इंदिरा मातृत्व पोषण योजना का लाभ मिल सकेगा।

17/03/2020