Dainik Navajyoti Logo
Monday 2nd of August 2021
 
राजस्थान

RAS परीक्षा में रिश्तेदारों के चयन पर बोले डोटासरा, प्रतिभा के दम पर पास हुए, रिश्तेदार होने से नबंर नहीं मिले

Wednesday, July 21, 2021 15:05 PM
डोटासरा ने आरोपों का किया खंडन।

जयपुर। शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा की पुत्रवधु प्रतिभा के भाई गौरव पूनिया और बहन प्रभा पूनिया के आरएएस बनने और इंटरव्यू में 80 फीसदी अधिक अंक मिलने के मामले में सोशल मीडिया पर जमकर बहस चल रही है। चर्चा इस बात की चल रही है कि डोटासरा ने अपने पद का इस्तेमाल करते हुए उनका चयन करवाया, हालांकि डोटासरा ने इन आरोपों का खंडन किया है। डोटासरा ने कहा कि राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से जारी आरएएस के रिजल्ट से उनका कोई लेना-देना नहीं है। बहुत सारे लोगों को इंटरव्यू में 75-80 फीसदी के बीच नंबर मिले हैं। मेरे जो रिश्तेदार परीक्षा में पास हुए हैं, वे अपनी प्रतिभा के दम पर हुए हैं। अगर किसी को मेरे नाम से फायदा मिलता तो क्या वह अपने बड़े बेटे और पुत्रवधु को भी आरएएस नहीं बनवा देते।

डोटासरा ने कहा कि राजस्थान प्रशासनिक सेवा (आरएएस) परीक्षा पास करना प्रतिभा पर आधारित है। ऐसे में जो बच्चे टैलेंडेट होते हैं वो सफल होते हैं। पहले प्री और फिर बाद में मेन परीक्षा पास करते हैं और उसके बाद इंटरव्यू होता है जिसमें बोर्ड मेंबर और एक्सपर्ट बैठते हैं। इसमें किसी भी राजनेता का कोई लेना देना नहीं होता है। ऐसे में अंक मुद्दा नहीं होना चाहिए। इंटरव्यू से पहले प्री और मेन पास करनी पड़ती है। पारिवारिक संबंधों के कारण किसी को इंटरव्यू में नंबर नहीं मिलते हैं। यह सोशल मीडिया पर चलाया गया प्रोपेगेंडा है। जिस बच्चे की बात हो रही है वह दिल्ली यूनिवर्सिटी का टॉपर रहा और जो बच्ची है वह मेडिकल पास करके दो बच्चों को पालते हुए मेहनत करके आरएएस बनी है।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि मेरा बेटा 2016 में पास हुआ था वो भी आरएएस बना है। पुत्रवधु जब पास हुई थी तब हमारा रिश्ता नहीं हुआ था। रिश्ता रिजल्ट के 20 महीने बाद जब वो ट्रेनिंग में आ गई उसके बाद हुआ। तब तो भाजपा का राज था। जिनका सलेक्शन नहीं होता है वे खीझ मिटाने के लिए ऐसी बातें करते हैं। उन्होंने कहा कि आरपीएससी इस परीक्षा को बहुत पारदर्शिता के साथ कराता रहा है चाहे किसी भी सरकार का शासन रहा हो। प्रतिभाशाली बच्चे अपने मुकाम हासिल करते हैं। इसमें किसी राजनेता का कोई लेना देना नहीं होता है।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

'गहलोत सरकार ने पूरा किया 141 बिंदुओं पर काम, 216 पर काम जारी'

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार अपने जन घोषणा पत्र के 141 बिंदु पर काम पूरा कर जनता को राहत प्रदान की है, जबकि घोषणा पत्र के अन्य बिंदुओं पर कार्रवाई अभी जारी है।

10/01/2020

सीएचओ के 1500 अतिरिक्त पदों पर भर्ती को मुख्यमंत्री गहलोत की मंजूरी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ) के 6310 पदों पर प्रक्रियाधीन भर्ती प्रक्रिया में 1500 अतिरिक्त पद जोड़ने का निर्णय लिया है।

19/10/2020

प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन ने जयपुर पहुंचकर लिया फीडबैक, तीनों सीट जीतने का किया दावा

राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन सोमवार को अपने एक दिवसीय दौरे पर जयपुर पहुंचे। एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए भी कहा कि विधानसभा उपचुनाव में नाम तय करने के सिलसिले में वे जयपुर आए है। सीएमआर और पीसीसी में इसी को लेकर एक महत्वपूर्ण बैठक रखी गई है। माकन ने दावा किया कि तीनों सीटें कांग्रेस जीतेगी।

22/03/2021

महाशिवरात्रि पर गहलोत ने की पूजा

देशभर में महाशिवरात्रि पर्व मनाया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी पूजा-अर्चना की।

21/02/2020

युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए जल्द नई स्टार्ट-अप पॉलिसी लाएंगे: अशोक गहलोत

अशोक गहलोत ने कहा कि ऐसे समय में जबकि देश आर्थिक हालातों को लेकर चिंतित है, हमारी सरकार प्रदेश में उद्यमियों को निवेश के लिए उपयुक्त माहौल प्रदान करने में कोई कमी नहीं रखेगी

22/09/2019

जयपुर बम ब्लास्ट के गुनहगारों को 4 बजे सजा का ऐलान, विशेष कोर्ट आज सुनाएगी फैसला

बम कांड मामलों की विशेष कोर्ट जयपुर में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में दोष सिद्ध किए चार अभियुक्तों मोहम्मद सैफ, सैफुर उर्फ सैफुर्रमान सलमान और सरवर आजमी को आज शाम चार बजे सजा सुनाएगी

20/12/2019

RU के शिक्षकों का किसान आंदोलन के पक्ष में प्रदर्शन, सरकार से अन्नदाता के पक्ष में फैसला लेने की मांग

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को राजस्थान यूनिवर्सिटी के शिक्षकों ने भी अपना समर्थन दिया है। केंद्र सरकार के 3 कृषि कानूनों के विरोध में राजस्थान यूनिवर्सिटी के शिक्षकों ने हाथों में तख्तियां लेकर प्रदर्शन किया और एक स्वर में किसान आंदोलन के प्रति सरकार के दमनकारी रवैये की कड़े शब्दों में आलोचना की।

01/12/2020