Dainik Navajyoti Logo
Saturday 15th of August 2020
Dainik Navajyoti
 
राजस्थान

नेहरू बाजार में वाहनों की रेलमपेल में पैदल चलना मुश्किल, बेतरतीब पार्किंग से रोज जाम जैसे हालात

Tuesday, January 14, 2020 17:40 PM
सड़क के दोनों तरफ अतिक्रमण।

जयपुर। परकोटे के ज्यादातर बाजारों में समस्याओं का अम्बार है। ट्रैफिक की अव्यवस्था हो या फिर सड़क पर अतिक्रमण इन समस्याओं से आमजन ज्यादा त्रस्त है। सड़कों पर बेतरतीब दौड़ते वाहन, ठेले वालों के अतिक्रमण के कारण लोगों का पैदल चलना दूभर हो गया है। यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज सिटी की लिस्ट में शामिल होने के बावजूद भी परकोटे के कई बाजारों की हालत खराब है। कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला नेहरू बाजार में। दैनिक नवज्योति की टीम ने जब बाजार में समस्याओं का जायजा लिया तो लोगों को इन समस्याओं से जूझता पाया। बाजार की सड़क पर दौड़ते ई-रिक्शा कब किस मोड़ पर घूम जाएं या रूक जाए, पता नहीं चलता। ऐसे में उनके पीछे चल रहे वाहन चालक को संभलकर वाहन चलाना पड़ता है। इसके अतिरिक्त दुकानों के बाहर सड़क तक सामान रखे हुए हैं, जिससे वाहन चालकों और राहगीरों को चलने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। व्यापार मण्डल और दुकानदारों का कहना है कि अवैध अतिक्रमण की समस्या को लेकर कई बार प्रशासन को लिखकर दिया जा चुका है, लेकिन कार्रवाही के नाम पर कुछ नहीं होता।

दुकानों का सामान बरामदों तक
परकोटे के ज्यादातर बाजार में यह समस्या देखने को मिल रही है। दुकानों के बाहर तक सामान रखने से एकबारगी लगता है कि दुकानदारों में आपसी कोई प्रतिस्पर्धा चल रही है कि किसकी दुकान के आगे ज्यादा सामान रखा रहता है। नेहरू बाजार में दुकानों के आगे बरामदों तक सामानों के ढेर पड़े रहते हैं। नगर निगम से कोई गाड़ी आती है तो उस समय सारा सामान दुकानों के अंदर रख दिया जाता है, लेकिन जैसे ही गाड़ी आगे पहुंचती है, पीछे फिर से सामान बरामदों तक पहुंच जाता है। बाजार घूमने आने वाले लोगों और पर्यटकों को बरामदों में सामनों से बचकर निकलना पड़ता है। सड़क किनारे कपड़ों, फल, सब्जियों के ठेलों की भरमार देखने को मिलती है। इस कारण सड़के चौड़ी होने के कारण भी सिकुडी-सिकुडी सी लगती है। ऐसे में वाहन चालकों को सड़क पर गाड़ी चलाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

जगह टू व्हीलर, खड़ी फोर व्हीलर
नेहरू बाजार में दोपहिया वाहनों के लिए पार्किंग की जगह निर्धारित की है, लेकिन उस जगह लोग अपनी चौपहिया वाहनों को खड़ा कर जाते हैं। ऐसे में मोटरसाइकिल चालकों को वाहन पार्क करने में दिक्कत होती है। आलम यह है कि दुकानों के बरामदों तक लोग अपनी बाइक खड़ी कर देते हैं। सड़क किनारे बेतरतीब वाहन पार्किंग भी यहां की मुख्य समस्या है।

अतिक्रमण से पीड़ित बाजार
नेहरू बाजार में अतिक्रमण की समस्या बहुत देखने को मिली। जगह-जगह चार पहिए के वाहन खडेÞ हुए देखने को मिले। अतिक्रमण की वजह से जाम की स्थिति आए दिन पैदा होती रहती है। अतिक्रमण के कारण ग्राहकों को अपने वाहन खड़े करने की जगह नहीं मिलती है, जिस कारण से ग्राहक इस मार्केट से आना पसंद कम करते है। जगह-जगह सब्जी-फल के ठेले देखने को मिले जो कि अतिक्रमण की समस्या को और बढ़ाते हुए देखने को मिले। इन समस्या का जल्द से जल्द समाधान होना जरूरी है, जिससे मार्केट में ग्राहकों के वाहनों को खड़ा करने की जगह मिले और मार्केट में खरीदारों को किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़े।

ट्रांसफार्मर के नीचे खड़े ठेले
बाजार में स्थित ट्रांसफार्मर के बहुत समीप में ठेले और आॅटों खड़े देखने को मिले, जिससे किसी दिन बड़ी अनहोनी होने का खतरा बना रहता है। ऐसे में इन ठेलों को यहां से हटाना जरूरी है। जिससे ऐसी समस्याओं से किसी दिन रूबरू ना होना पड़े।

आए दिन लगता है जाम
बाजार में आए दिन जाम लगता रहता है। सड़क पर वाहन और ठेले खड़े होने की वजह से जाम की स्थिति कभी भी पैदा हो जाती है। इससे स्थानीय लोगों के साथ बाहर से आए खरीददारों को भी उठानी पड़ती है। बरामदों में अतिक्रमण के कारण राहगीरों को पैदल चलने की जगह नहीं मिलती है, जिस कारण से उन्हें मजबूरन सड़क पर चलना पड़ता है।

कई जगह दिखी गंदगी
वैसे तो बाजार में गंदगी कम देखने को मिली। परंतु कुछ जगहों पर गंदगी देखने को मिली। गंदगी के कारण कई तरह की बीमारियां होने का खतरा रहता है। इस कारण से जल्द से जल्द इसका निवारण होना जरूरी है।

अतिक्रमण की वजह से ढक गई रोड
नेहरू बाजार में अतिक्रमण की वजह से सड़क पर दुकानदारों ने सामान रख रखा है। इसकी वजह से पैदल चलने वाले फुटपाथ पर चलने की बजाय रोड पर चलते हैं। रोड के दोनों तरफ टू, थ्री और फोर व्हीलर्स पार्क रहते हैं। ठेला लगाने वाले बिना इजाजत रोड रोक कर बैठ जाते हैं। कभी फुटपाथ को खाली कराने के लिए प्रशासन के दिमाग में नहीं आया। ऐसा राहगीरों ने हमें नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया। आमराहगीरों की सुनता ही कौन है यह भी उन्होंने हमसे कहा। यहां तो सब तरफ बंदरबांट चल रही है। कोई अगर काम कराने के प्रति सिंसियर हो जैसे मंजीत सिंह जिन्होंने बरामदे खाली कराने थे। सो कैसे भी कराए तब लोगों को बरामदों में घूमने का सुख प्राप्त हुआ था। अब फिर से वहीं हाल है तो चल रहा है जैसा प्रशासन चला रहा है।

एक तरफा यातायात ही दोनों तरफ चलता है
ट्रैफिक रूल्स को फॉलो नहीं करने के कारण और जल्दबाजी में लोग बाजारों में ओवरटेक करके बगल वाले के साइड से तेजी से निकलते हैं। इस समस्या की वजह से रोड के एक तरफ का यातायात बिल्कुल नहीं निकल पाता है। लोग इस बात की परवाह नहीं करते हैं जब तब एक तरफ का यातायात रूका रहेगा तब तक सड़क पर सुचारू रूप से नहीं निकल सकते हैं। इस बात की गम्भीरता को वाहन चलाने वाले प्रत्येक शख्स को फॉलो करना चाहिए कि सामने से सहीं दिशा में आ रहे वाहन को जगह अवश्य दे, नहीं तो जाम होगा।

तारों का जंजाल
नेहरू बाजार में आगे चलने पर हालाता ऐसे हैं कि दुकानों के ऊपर तारों का ऐसा जाल बना है, जो मकड़े के जाले के समान दिखाई देता है। इस तरह से तारों के लटकने से कई भी कोई दुर्घटना घटित हो सकती है। यहीं नहीं सकरी गली होने के बावजूद दोनों ओर वाहनों को पार्क कर दिया जाता है, जिससे पैदल चलने वाले लोगों के लिए रास्ता ही नहीं बचता। इस बीच अगर कोई चौपहिया वाहन यहां से निकालने की कोशिश करें तो जाम लगना निश्चित है। इसके अतिरिक्त दुकानदार सड़क पर ही सामान उतारना शुरू कर देते हैं। दूसरी ओर ट्रांसफर्मर के करीब ही ऑटो चालक अपने ऑटो खड़े कर देते हैं।

आवारा जानवरों भी देखने को मिले
नेहरू बाजार में आवारा जानवरों का आतंक भी देखने को मिला। जगह-जगह आवारा जानवर देखने को मिले, जिससे किसी जानवर द्वारा किसी को नुकसान पहुंचाने की बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। ऐसी समस्याओं से बाजार की गरिमा में दाग लगते है। इससे खरीददारों को भी बाजार में आना पसंद नहीं करते है। ऐसी समस्याओं का जल्द से जल्द समाधान होना जरूरी है।

रुक-रुक कर चलते हैं ई-रिक्शा चालक
धीमी स्पीड से चलने वाले ई-रिक्शा ग्राहक बैठाने के लिए दुकानों के सामने खड़े रहते हैं। बेहद धीमी स्पीड से चलने के कारण बाजारों में ई-रिक्शा की लाइन लगी रहती है। इस समस्या के कारण शहर जौहरी बाजार, बड़ी चौपड़, त्रिपोलिया बाजार, चौड़ा रास्ता, किशनपोल, चांदपोल, गणगौरी बाजार में से वाहन चालको को चलाने में बड़ी दिक्कत होती है। इनको ना सड़क पर रिक्शा खड़े करने का पता है। बीच सड़क में सवारी लेने के लिए रिक्शा रोक देते हैं।

कभी बाजार में आकर नहीं देखते हैं यातायात कर्मी
व्यापारियों ने बताया कि चौराहे पर खड़े यातायातकर्मियों को चालान काटने से फुर्सत नहीं मिलती है। इस वजह से बाजारों में लोग बेतरतीब तरीके से वाहन खड़ा करके चल देते हैं। इससे राहगीरों को निकलने में परेशानी होती है। बाजार में आकर कभी नहीं झांकते कि समस्याएं क्या-क्या हो रही है। कितने लोगों को रोड पर चलने के मैनर्स नहीं पता है। इसी कारण से यातायात बाधित होता है। ऐसे लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

स्थानीय निवासी मोहम्मद यूनुस खान ने बताया कि पार्किंग की समस्या से बाजार त्रस्त है। पार्किंग की समस्या से जल्द से जल्द समाधान होना जरूरी है। पार्किंग की उचित सुविधा नहीं होने की वजह से ग्राहकों को यहां पर कई तरह की दिक्कतों से सामना करना पड़ता है। बाजार की समस्याओं का सामना स्थानीय लोगों के साथ दुकानदारों को भी उठाना पड़ता है। 

राहगीर राजेश शर्मा ने बताया कि बाजार में कई समस्याएं है, जिससे लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यहां पर अतिक्रमण की समस्या सबसे बड़ी है। यहां पर सभी तरह के वाहन कई घंटों तक खड़े रहते है, जिस कारण से जाम स्थिति पैदा होती रहती है। इसके साथ ही पार्किंग की सुविधा भी नहीं होने के कारण खरीददार भी यहां आने में सोचते है। पार्किंग की समस्या का समाधान होना जरूरी है। आए दिन जाम लगता रहता है। जाम के कारण लोगों को कई तरह की समस्याओं से अवगत होना पड़ता है।

बाजार में घूमते हैं नशेड़ी
नेहरू बाजार व्यापार मंडल के कोषाध्यक्ष किशोर आहूजा ने बताया कि बाजार में शराब की दुकान है। शाम को खरीदारी का पीक टाइम होता है तब महिलाएं भी खरीदारी के लिए आती है। कोई ग्राहक नशेड़ी को देखकर शर्म के कारण कुछ नहीं कह पाते हैं। आबकारी विभाग को दुकान हटाने के लिए व्यापार मंडल ने शिकायत दी, लेकिन रेवेन्यू से जुड़ा मामला बताकर उन्होंने भी पल्ला झाड़ लिया। इसी के साथ पार्किंग की समस्या इस वजह से है कि दुकान खुलने से पहले दवा मार्केट और रेडियो मार्केट के वाहन आकर लग जाते हैं। स्थानीय व्यापारियों को वाहन खड़ा करने की जगह नहीं मिलती है। प्रशासन को दूसरे मार्केट के वाहन कहीं और खड़ा करने की व्यवस्था करनी चाहिए। मेरा विश्वास है इससे परेशानी काफी हद तक हल होगी।

यह भी पढ़ें:

वर्ल्ड वाइड का खिताब जीतकर लौटी कृति, लोगों ने दी शुभकामनाएं

ग्रीस यूरोप में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर हुई प्रतियोगिता में अपना जलवा दिखाकर इंटरनेशनल पीजेंट हॉट मॉन्ड मिसेज इंडिया वर्ल्ड वाइड एलीमेंट स्पेस का खिताब जीतने वाली कृति सरूपरिया अपने शहर लौट, तो लोगों ने उनका स्वागत किया।

24/10/2019

भाजपा के मायावी जाल से बाहर निकल आए सचिन पायलट, पार्टी के दरवाजे खुले हैं: पाण्डे

राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अविनाश पाण्डे ने कहा है कि सचिन पायलट को मनाने की कोशिश जारी है। पाण्डे ने ट्वीट कर कहा है कि पायलट के लिए पार्टी के दरवाजे बंद नहीं हुए हैं, भगवान उनको सद्बुद्धि दें और उन्हें उनकी गलती समझ आए। मेरी प्रार्थना है भाजपा के मायावी जाल से वो बाहर निकल आए।

15/07/2020

जयपुर और सवाईमाधोपुर जिला क्रिकेट संघों की याचिका पर हुई सुनवाई

सवाईमाधोपुर जिला क्रिकेट संघ से जुड़े मामले में खंडपीठ ने याचिका को निस्तारित कर दिया है।

01/10/2019

अब डोर टू डोर सख्ती से होगी निगरानी

शहर की सफाई व्यवस्था में सुधार के लिए डोर टू डोर कचरा संग्रहण करने वाली फर्म बीवीजी कंपनी पर अब नगर निगम सख्ती से निगरानी करेगा।

09/05/2019

राजगढ़ SHO विष्णुदत्त विश्नोई आत्महत्या मामला, थाना स्टाफ ने कहा कर दो हमारा तबादला

राजगढ़ थाना प्रभारी विष्णुदत्त विश्नोई के आत्महत्या प्रकरण में खादी और खाकी में विवाद गहराता जा रहा है। अब राजगढ़ थाने के स्टाफ ने खुद को अन्यत्र लगाने के लिए आईजी को पत्र लिखा है। वहीं अखिल भारतीय विश्नोई महासभा ने प्रकरण की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। इसके अलावा प्रशासनिक अधिकारियों ने मामले की न्यायिक जांच के लिए राज्य सरकार को पत्र लिखा है।

25/05/2020

कृषि कनेक्शनों का पृथक फीडर ग्रामीणों को देगा राहत

उदयपुर। ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली के घरेलू और कृषि प्रयोजनार्थ कनेक्शनों के लिए अलग-अलग लाइनें बिछाई जानी हैं। अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के तहत आने वाले जिलों में यह काम शुरू होना था।

29/02/2020

खान व भू-विज्ञान विभाग में वरिष्ठ लिपिक के 203 छाया पद सृजित

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने खान व भू-विज्ञान विभाग में वर्क चार्ज मैट्रिक नाकेदारों और अन्य कार्मिकों को पदोन्नोति के अवसर देने के लिए वरिष्ठ लिपिक के 203 छाया पद सृजित करने के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है।

18/07/2019