Dainik Navajyoti Logo
Sunday 9th of August 2020
 
राजस्थान

आसपास की कृषि उपज को ही आहार बनाएं: जड़धारी

Friday, December 06, 2019 21:50 PM
परंपरागत बीज लुप्त होने और रासायनिक खेती के दुष्परिणाम से ही बीमारियां बढ़ी हैं।

उदयपुर। बीज बचाओ आंदोलन के प्रणेता विजय जड़धारी का कहना है कि लोग जहां रहते हैं, उन्हें अपने आस-पास उपजने वाली वस्तुएं ही खानी चाहिए। परंपरागत बीज लुप्त होने और रासायनिक खेती के दुष्परिणाम से ही बीमारियां बढ़ी हैं। अगर व्यक्ति प्रकृति के व्यवहार को समझेगा तो बीमार नहीं पड़ेगा। जैविक खेती के प्रसार के सिलसिले में उदयपुर आए जड़धारी ने शुक्रवार को यह बात दैनिक नवज्योति से बातचीत में कही।

उन्होंने कहा कि आज कुपोषण में भारत का स्थान चीन, बांग्लादेश और पाकिस्तान से भी नीचे है। ज्यादा उत्पादन की आस में लोग जैविक खेती भूल गए हैं और उपज के साथ कीटनाशक खा रहे हैं जो उन्हें बीमार बना रहे हैं। प्रकृति, कृषि एवं किसान को बचाने की जिद लेकर चले जड़धारी का मिश्रित खेती पर जोर है। उन्होंने कई परम्परागत देसी बीजों का संरक्षण कर रखा है। बरसों पुराने देसी बीजों को जगह-जगह से संग्रहित कर उनकी खेती करवाने में लगे हैं। आज राजमा की उनके पास 220 किस्में हैं,जौ की 4, धान की 350 लुप्त हो चुकी किस्में हैं। जड़धारी के कार्यकर्ताओं ने सुदूर गांवों से परंपरागत बीजों का संग्रह किया और किसानों में इन बीजों का वितरण किया।

बीजों के संग्रहण एवं उनके संरक्षण के लिए काम करने के कारण ही उन्हें इंदिरा गांधी पर्यावरण पुरस्कार से नवाजा जा चुका है। जड़धारी इससे पहले चिपको आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभा चुके हैं। वह कहते हैं कि खाने वाला अनाज खाओ पर बीज सुरक्षित रखो। बीज बचाओ आंदोलन का उद्देश्य सिर्फ बीज बचाना नहीं है बल्कि जैव विविधता, खेती और पशुपालन आधारित जीवन पद्धति और संस्कृति को बचाना है।

क्या है यह आन्दोलन
बीज बचाओ आंदोलन का उदय परम्परागत बीजों की विलुप्त होती प्रजातियों के संरक्षण तथा व्यावसायिक हितों के लिए कुछ ही प्रकार के बीजों-पौधों को बोने के विरोध में हुआ। इस अभियान का आरंभ 1990 के दशक में गांधीवादी कार्यकर्ताओं में विजय जड़धारी ने टिहरी गढ़वाल क्षेत्र में किया।

यह भी पढ़ें:

अधिक राशि वसूलीे पर 631 बोतल सेनिटाइजर जब्त

उदयपुर। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर शनिवार को सेनिटाइजर की तय कीमत से अधिक राशि वसूलने पर सेनिटाइजर की 631 बोतलें जब्त की गई।

21/03/2020

कोरोना: पूर्व सीएम वसुंधरा राजे और दुष्यंत सिंह की तीसरी जांच रिपोर्ट भी आई नेगेटिव

भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया और उनके सांसद बेटे दुष्यंत सिंह की कोरोना जांच की तीसरी रिपोर्ट भी नेगेटिव आई है। हालांकि दोनों ने पूरे 14 दिन तक आइसोलेशन में रहने का फैसला किया है।

27/03/2020

राजस्थान: सोनिया गांधी ने सरकार एवं संगठन में समन्वय के लिए बनाई 8 सदस्यीय कमेटी

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राजस्थान को लेकर पार्टी के आठ नेताओं की एक महत्वपूर्ण कमेटी का गठन किया, जो सरकार एवं संगठन के बीच बेहतर समन्वय एवं तालमेल बनाए रखने का काम करेगी।

21/01/2020

तत्कालीन थाना प्रभारी ने लगा दी एफआर, सीएमओ के दखल के बाद दोबारा खुली फाइल

परचुनी का सामान खरीदने के बहाने राजस्थान, दिल्ली और गुजरात के व्यापारियों से दस करोड़ से ज्यादा की ठगी करने वाले आरोपी को बचाने के लिए तत्कालीन झोटवाड़ा थाना प्रभारी प्रदीप चारण ने एफआर लगा दी।

13/07/2019

राज्य निर्वाचन आयोग ने निकाय चुनावों की नए सिरे से कवायद शुरू की

राज्य सरकार की ओर से निकाय अध्यक्षों का चुनाव अप्रत्यक्ष प्रणाली से कराने का निर्णय लेने के बाद राज्य निर्वाचन आयोग ने भी नए सिरे से कवायद शुरू कर दी है।

22/10/2019

RCA का चुनाव कार्यक्रम घोषित, 4 अक्टूबर को होगा मतदान

सीपी जोशी और डूडी गुट के प्रतिनिधियों से मुलाकात की। दोनों पक्षों से बात होने के बाद 4 अक्टूबर को चुनाव कराने पर सहमति बनी है।

28/09/2019

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण रोकने के प्रयास, जयपुर में 14 थाना इलाकों में लगाया कर्फ्यू

कोरोना वायरस का प्रकोप अब परकोटे के बाहर भी 7 थाना इलाके में पहुंच गया। परकोटे के साथ-साथ पुलिस अब इन थानों में भी एक-एक किलोमीटर तक कर्फ्यू लगा दिया है। जयपुर कमिश्नरेट में अब तक 14 थाना इलाकों में कर्फ्यू लग चुका है। 7 थाने परकोटे के अंदर और 7 थाने बाहर है।

12/04/2020