Dainik Navajyoti Logo
Sunday 1st of August 2021
 
राजस्थान

सरकार का आदेश, 31 तक पेयजल स्त्रोत करें साफ

Sunday, March 15, 2020 23:05 PM
फाइल फोटो।

उदयपुर। ग्रीष्मकाल को देखते हुए स्थानीय निकाय निदेशालय(डीएलबी) ने सभी निकायों को आदेश जारी किए हैं कि वे शहरी क्षेत्र के अंतर्गत जलापूर्ति व्यवस्था में लीकेज दुरुस्ती, मेनहोल ढंकने तथा जलाशयों की सफाई के काम सर्वोच्च प्राथमिकता से 31 मार्च तक करवा लें।

पेयजल के क्लोरीनेशन एवं कीटाणुशोधन के लिए नियमित रूप से जल गुणवत्ता जांच सुनिश्चित की जाए। लेकिन वर्तमान में निगम बीते दो माह से पीछोला में सफाई का ठेका ही नहीं दे पाया है, पीछोला में गंदगी एवं जलीय खरपतवार का अंबार लगा है जबकि पीछोला से करीब डेढ़ लाख आबादी के लिए 22 एमएलडी पानी हर रोज सप्लाई किया जाता है। झील सुरक्षा एवं विकास समिति के सदस्यों ने आरोप लगाए हैं कि नगर निगम को इन झीलों से मानो कोई लेना देना नहीं है।

पीछोला से पानी सप्लाई किया जा रहा है लेकिन इसकी सफाई का ठेका तक नहीं किया जा रहा है। बहरहाल डीएलबी ने गाइडलाइन और टाइमलाइन जारी कर स्पष्ट कर दिया है कि यदि इन निर्देशों की पालना नहंी हुई तो संबंधित आयुक्त या अधिशाषी अधिकारी को जिम्मेदार माना जाएगा तथा सीसीए नियमों के तहत कार्रवाई होगी। डीएलबी के अनुसार निगम को हर रोज पेयजल के सैंपल लेकर जांच करवानी है।
 
कहां-कब करनी होगी जांच
20 हजार लोगों तक        1 माह में
50 हजार लोगों तक         दो सप्ताह में
01 लाख लोगों तक         4 दिनों में
01 लाख लोगों से अधिक    1 दिन में     
 
आरोप : सब मनमर्जी का है खेल
झील सुरक्षा एवं विकास समिति के सदस्य तेजशंकर पालीवाल कहते हैं कि पीछोला में सफाई का टेंडर नहीं करना निगम की गंभीर लापरवाही है। हमने कई बार निगम को सूचित किया लेकिन  मनमर्जी चल रही है। पीछोला में जलीय खरपतवार, जूठन, गंदगी, मृतकों के कपड़े, सीवरेज का गंदा पानी आदि समाहित हो रहा है, लेकिन निगम बेपरवाह है। यहां से जो पेयजल सप्लाई किया जा रहा है उससे उपभोक्ताओं के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। इन जलाशयों के संबंध में जब भी जानकारी प्रकाश में लाई जाती है तो काम हो जाता है, लेकिन नगर निगम अपने स्तर पर कभी किसी कार्य की पहल नहीं करता।
 
कहां से कितनी पेयजलापूर्ति
पीछोला        22 एमएलडी
फतहसागर        14 एमएलडी
मानसी वाकल        27 एमएलडी
जयसमंद        21 एमएलडी
ट्यूबवैल        10 एमएलडी

बता दें, शहरी क्षेत्र में हर रोज 140 एमएलडी पेयजल की मांग है लेकिन कभी कम दबाव से तो कभी अन्य समस्या के चलते 140 के स्थान पर 94 एमएलडी पेयजल ही सप्लाई किया जाता है। निगम क्षेत्र की कई कॉलोनियों में नई पाइपलाइन डालने का भी कार्य नहीं हो पाया है।
 
ये निर्देश भी दिए
-वितरण पाइपलाइन से लिए गए अवैध कनेक्शनों को काटा जाए तथा इस पाइपलाइनों पर लगे बूस्टर पंप तुरंत प्रभाव से हटवाए जाएं।
- लीकेज दुरुस्त हों ताकि दूषित जल से बचा जा सके। दूषित जल की शिकायत पर तुरंत निरीक्षण करना होगा।
- जल नमूनों में रासायनिक एवं जीवाणुओं की उपस्थिति की जांच की जाए, पानी चाहे नलकूप का हो या झाील-तालाब का हो।
- हैंडपंप, ट्यूबवैल आदि से पानी तभी लिया जाए जब उसमें रासायनिक व जीवाणु जांच के परिणाम राष्टÑीय मानक के अनुरूप हों।
- ब्लीचिंग पाउडर, द्रवित क्लोरन की पर्याप्त मात्रा का स्टॉक रखें।
- अंतिम उपभोक्ता बिंदु पर जल के पर्याप्त क्लोरीनेशन 0.2 पीपीएम होना सुनिश्चित करें। अगर कहीं जलजनित बीमारी की सूचना है तो क्लोरीन की मात्रा 0.5 पीपीएम की जा सकती है। सभी जलापूर्ति व्यवस्था पर क्लोरीनेशन लॉगबुक संधारित की जाए जिसमें क्लोरीनेशन की मात्रा, दिन, समय एवं अंतिम उपभोक्ता बिंदु पर पानी में क्लोरीन की मात्रा अंकित जाए।
- ग्रीष्मकाल में आमजन से प्राप्त शिकायतों के निवारण के लिए शिकायतों को शिकायत पंजिका में दर्ज करना होगा व उनका समय पर त्वरित निस्तारण करना होगा।

परफेक्ट जीवनसंगी की तलाश? राजस्थानी मैट्रिमोनी पर निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

यह भी पढ़ें:

गृह क्लेश में सरकारी शिक्षक ने पत्नी और बेटे की गला रेत कर की हत्या, खुद ने भी किया सुसाइड

प्रताप नगर थाना इलाके में जगतपुरा स्थित लाजपत नगर में एक शिक्षक ने अपनी पत्नी और 13 माह के बेटे की चाकू से गला रेत कर हत्या करने के बाद फंदे से लटककर आत्महत्या कर ली। गुरुवार रात को सूचना मिलने पर डीसीपी अभिजीत सिंह मौके पर पहुंचे और एफएसएल टीम की मदद से साक्ष्य जुटाए।

30/04/2021

चूरू के अफरोज खींची ने एमेच्योर चैम्पियनशिप में लंदन में जीता गोल्ड मेडल

चूरू जिले के अफरोज खिची ने लंदन में आयोजित ओलंपिक एमेच्योर चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीता है। इसके बाद उनका सुजानगढ़ पहुंचने पर अभिनंदन किया गया।

06/11/2019

मेयर गहलोत ने डीएलबी निदेशक से की मुलाकात

कानून कायदों को ताक में रख कर तेरह व्यावसायिक भवनों के नक्शे स्वीकृत करने में फंसे अजमेर नगर निगम के मेयर धर्मेन्द्र गहलोत ने अपने बचाव के लिए इधर-उधर हाथ पैर मारना शुरू कर दिया।

06/04/2019

कोरोना को लेकर प्रदेश में बना वार रूम, 24 घंटे हालातों पर नजर रखेंगे अधिकारी

राजस्थान सरकार ने कोरोना वायरस के बचाव और इलाज के लिए सभी व्यवस्थाएं करने को लेकर हेल्थ डिपार्टमेंट में वार्ड रूम का गठन किया है। इस वार रूम का नेतृत्व विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह करेंगे। वार रूम में उनके अलावा 9 आईएएस अधिकारियों को लगाया गया है।

24/03/2020

नगर निगम ग्रेटर और हैरिटेज ने मास्क नहीं लगाने वालों पर कसा शिकंजा, वसूले लाखों रुपए

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों में प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे जनआंदोलन के बाद भी लोग मास्क नहीं लगा रहे है और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जा रहा है। इस पर नगर निगम ग्रेटर और नगर निगम हैरिटेज प्रशासन ने सख्ती करना शुरू कर दिया है। गुरुवार को दोनों निगम प्रशासन ने 1825 लोगों के चालान काट कर साढ़े आठ लाख रुपए से अधिक का जुर्माना वसूला है।

04/12/2020

बीडी अग्रवाल की 52 करोड़ की सम्पत्ति अटैच

प्रवर्तन निदेशालय ने ग्वार के बड़े व्यापारी बीडी अग्रवाल की प्रिवेंशन आॅफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत 52.21 करोड़ रुपए की सम्पत्ति को प्रोविजनल अटैच किया है।

14/11/2019

उद्घाटन का इंतजार कर रही राजस्थान की पहली फिश एक्वेरियम गैलेरी

बीसलपुर बांध के किनारे बनी इस गैलेरी में 16 दुर्लभ प्रजाति की रंगीन मछलियां है, जिन्हें अलग-अलग एक्वेरियम में रखा गया है।

26/11/2019